उलझन में विज्ञान

ग्लोबल वार्मिंग संशयवाद के विज्ञान की जांच करना, जलवायु परिवर्तन की बहस को फैलाने वाली गलत धारणाओं और भ्रामक तर्कों को साफ करना।
  1. Respecting the journal editorial process

    Each week we scan between 450 and 650 articles for relevance to Skeptical Science's remit: communication of the science of climate change itself the many affected branches of scientific inquiry by climate change.

    The 100+ journals we cover encompass a galaxy of expertise we cannot hope to replicate, let alone exceed. Our appropriate role is to assess the raw filtrates from our feeds purely for what they may add to public understanding of our central topic. "Does this article connect to climate change?" That's the sole question we ask of each item appearing on the screen.

    We also don't bring "an agenda" to this process. The single qualitative metric we employ is "did a team of journal editors and reviewers deem this work worth publishing?" Our raw feed filters are fed directly from journal publishing systems, so the answer to that question is always "yes."

    For these reasons readers from time to time (and all too rarely) will spot articles identifying potential लाभ of global warming. Some articles come from academic branches we didn't even know exist, and that have the whiff of scary unfamiliarity. Commonly we see articles identifying and trying to correct insufficient understanding of some particular aspect of global warming or its upshots. These latter are not warts or defects. Iterative progress and refinement is of course the norm in scientific research.

    Skeptical Science was founded to combat denial of climate science and नई रिसर्च is part of that effort. Exposing the torrent of scientific publication around climate science is helpful to grasping climate change as an unavoidable challenge. In doing this work we've learned that the final two stops on the railroad of climate science denial are "The System Isn't Fair" followed shortly down the track by the slightly less populated "They're All Lying In Concert." These destinations are actually figments of denier imagination. Even Brigadoon is more plausible.

    In reality we see a process that is not error-free but sometimes does contort itself to be inclusive of outré thinking. A fine example of that is how the Taylor and Francis journal तापमान has squeezed in a paper by Valentina Zharkova claiming (yet again) upcoming global cooling, as an "editorial." Zharkova's work is a redo of a previous publication that was retracted due to a basic misunderstanding on the behavior of the barycenter of the solar system. In an abundance of generosity, here's a second attempt gifted to Zharkova by the only means possible. Unfair? Hardly.

    We publish journal editorials in नई रिसर्च from time to time, in the section "Informed opinion and nudges." Often these are synthesis of many results suggesting possible or obvious topics for concentrated scrutiny. Zharkova's "editorial" doesn't really fit that standard model. Normally we'd expect such a work to appear as a regular peer-reviewed research result. But we'd rather err on the side of fairness; the last thing we want is to appear to be suppressing research that doesn't "go with the flow." The editors of तापमान chose to publish Zharkova's latest work and we'll take that as enough, perhaps bending over a bit backward to be consistent with our general principles of operation. And after all, links to articles here are reports, not endorsements.

    Look for "Editorial" in the "Other" section if you're interested in Zharkova's take on future climate. Open access and free to read.

    87 लेख

    ग्लोबल वार्मिंग और प्रभावों का भौतिक विज्ञान

    Implications of different aerosol species to direct radiative forcing and atmospheric heating rate

    ग्लोबल वार्मिंग और प्रभाव के अवलोकन और अवलोकन के तरीके

    Large wildfires in the western US exacerbated by tropospheric drying linked to a multi‐decadal trend in the expansion of the Hadley circulation

    Current and future global climate impacts resulting from COVID-19 (खुला उपयोग)

    Intensification of Near‐Surface Currents and Shear in the Eastern Arctic Ocean

    Abrupt freshening since the early Little Ice Age in Lake Sayram of arid central Asia inferred from an alkenone isomer proxy

    Evidence of a continent-wide shift of episodic rainfall in Australia

    Reflections of global warming in trends of temperature characteristics in the Czech Republic, 1961–2019

    Fingerprints of external forcings on Sahel rainfall: aerosols, greenhouse gases, and model-observation discrepancies

    Instrumentation of climate & global warming

    Calibrating satellite-derived carbon fluxes for retrospective and near real-time assimilation systems (खुला उपयोग)

    New insights into radiative transfer in sea ice derived from autonomous ice internal measurements (खुला उपयोग)

    ग्लोबल वार्मिंग और ग्लोबल वार्मिंग प्रभावों की मॉडलिंग और अनुकरण

    Sea-ice-free Arctic during the Last Interglacial supports fast future loss

    On the role of increased CO 2 concentrations in enhancing the temporal clustering of heavy precipitation events across Europe

    Coastal processes modify projections of some climate-driven stressors in the California Current System (खुला उपयोग)

    Ocean heat storage rate unaffected by MOC weakening in an idealised climate model

    AMOC recovery in a multi‐centennial scenario using a coupled atmosphere‐ocean‐ice sheet model

    Contrasting upper and deep ocean oxygen response to protracted global warming

    Future warming and intensification of precipitation extremes: A ‘double whammy’ leading to increasing flood risk in California

    Vegetation response to elevated CO2 slows down the eastward movement of the 100th meridian

    Analyzing Internal Variability and Forced Response of Sub‐daily and Daily Extreme Precipitation over Europe

    Warm Arctic, cold Siberia pattern: role of full Arctic amplification versus sea ice loss alone

    Heavy Daily Precipitation Events in the CMIP6 Worst-Case Scenario: Projected Twenty-First-Century Changes (खुला उपयोग)

    Budgets for Decadal Variability in Pacific Ocean Heat Content

    The response of runoff components and glacier mass balance to climate change for a glaciated high-mountainous catchment in the Tianshan Mountains

    Sea-level rise projections for Sweden based on the new IPCC special report: The ocean and cryosphere in a changing climate (खुला उपयोग)

    जलवायु मॉडल उन्नति

    Comparison of observed borehole temperatures in Antarctica with simulations using a forward model driven by climate model outputs covering the past millennium (खुला उपयोग)

    CMIP6/PMIP4 simulations of the mid-Holocene and Last Interglacial using HadGEM3: comparison to the pre-industrial era, previous model versions and proxy data (खुला उपयोग)

    New Critical Length for the Onset of Self‐Aggregation of Moist Convection

    Intermodel Spread in the Pattern Effect and Its Contribution to Climate Sensitivity in CMIP5 and CMIP6 Models

    A Simple Trajectory Model for Climatological Study of Tropical Cyclones (खुला उपयोग)

    क्रायोस्फीयर और जलवायु परिवर्तन

    Analysis of the Surface Mass Balance for Deglacial Climate Simulations (खुला उपयोग)

    Marine Heatwaves in the Arctic Region: Variation in Different Ice Covers

    Permafrost thermal conditions are sensitive to shifts in snow timing

    Thawing permafrost: an overlooked source of seeds for Arctic cloud formation

    जीवविज्ञान और ग्लोबल वार्मिंग

    Rapid deep ocean deoxygenation and acidification threaten life on Northeast Pacific seamounts

    Decreasing snow cover alters functional composition and diversity of Arctic tundra (खुला उपयोग)

    Modelling marsh‐forest boundary transgression in response to storms and sea‐level rise

    Ecosystem response to earlier ice break‐up date: Climate‐driven changes to water temperature, lake‐habitat‐specific production, and trout habitat and resource use

    Climate warming increases spring phenological differences among temperate trees

    महासागर वार्मिंग, अम्लीकरण और यूट्रोफिकेशन के लिए वैश्विक प्रवाल भित्ति निवास की उपयुक्तता

    Foraging deeply: depth‐specific plant nitrogen uptake in response to climate‐induced N‐release and permafrost thaw in the High Arctic

    Developing in a warming intertidal, negative carry over effects of heatwave conditions in development to the pentameral starfish in Parvulastra exigua

    GHG स्रोत और सिंक, प्रवाह

    Soil properties override climate controls on global soil organic carbon stocks (खुला उपयोग)

    Carbon storage dynamics in peatlands: Comparing recent‐ and long‐term accumulation histories in southern Patagonia

    Environmental controls on ecosystem-scale cold-season methane and carbon dioxide fluxes in an Arctic tundra ecosystem (खुला उपयोग)

    वैश्विक वन कार्बन टर्नओवर में अनिश्चितता को समझना (खुला उपयोग)

    Photoperiod and temperature as dominant environmental drivers triggering secondary growth resumption in Northern Hemisphere conifers (खुला उपयोग)

    Large stocks of peatland carbon and nitrogen are vulnerable to permafrost thaw (खुला उपयोग)

    Methane mapping, emission quantification and attribution in two European cities; Utrecht, NL and Hamburg, DE (खुला उपयोग)

    Mangrove‐derived organic and inorganic carbon exchanges between the Sinnamary estuarine system (French Guiana, South America) and the Atlantic Ocean

    मीठे पानी के पारिस्थितिक तंत्र के CO2 is समतुल्य संतुलन गैर related रैखिक रूप से उत्पादकता से संबंधित है

    When will China fulfill its carbon‐related intended nationally determined contributions? An in‐depth environmental Kuznets curve analysis

    सीओ 2 हटाने विज्ञान और इंजीनियरिंग

    Mitigation strategies to enhance carbon sink potential in climate vulnerable districts of Eastern India (खुला उपयोग)

    भू-आकृतिक जलवायु

    Potential of future stratospheric ozone loss in the mid-latitudes under climate change and sulfate geoengineering (खुला उपयोग)

    जलवायु परिवर्तन संचार और अनुभूति

    How well do people understand the climate impact of individual actions?

    Pay more, fly more? Examining the potential guilt-reducing and flight-encouraging effect of an integrated carbon offset

    कृषि और जलवायु परिवर्तन

    Modelling global impacts of climate variability and trend on maize yield during 1980–2010

    Net benefits to US soy and maize yields from intensifying hourly rainfall

    Iran's Agriculture in the Anthropocene (खुला उपयोग)

    Inherent trait differences explain wheat cultivar responses to climate factor interactions: New insights for more robust crop modelling

    Economics & finance of climate change, mitigation & adaptation

    Revenue use and public support for a carbon tax

    Global Socioeconomic Risk of Precipitation Extremes under Climate Change (खुला उपयोग)

    Measuring the sustainable development implications of climate change mitigation

    The Impact of Renewable Versus Non-renewable Natural Capital on Economic Growth

    Progressive supply-side policy under the Paris Agreement to enhance geological carbon storage (खुला उपयोग)

    Climate change mitigation & adaptation public policy

    Informing UK governance of resilience to climate risks: improving the local evidence-base (खुला उपयोग)

    Systemic assessment of urban climate policies worldwide: Decomposing effectiveness into 3 factors

    ‘For us climate action never dies’: a legislative process analysis of environmental movement tactics in Oregon (खुला उपयोग)

    हमारे ग्लोबल वार्मिंग से निपटने वाले मनुष्य

    The behavioral response to a corporate carbon offset program: A field experiment on adverse effects and mitigation strategies

    Social Capital, carbon dependency, and public response to climate change in 22 European countries

    Learning about climate change in, with and through art (खुला उपयोग)

    Resilience and transformation of heritage sites to accommodate for loss and learning in a changing climate (खुला उपयोग)

    The strength of green ties: Massachusetts cranberry grower social networks and effects on climate change attitudes and action (खुला उपयोग)

    Social determinants of adaptive and transformative responses to climate change

    Assessing the Operationalization of Cultural Theory through Surveys Investigating the Social Aspects of Climate Change Policy Making

    Enhancing Autonomy for Climate Change Adaptation Using Participatory Modeling (खुला उपयोग)

    Polarized U.S. publics, Pope Francis, and climate change: Reviewing the studies and data collected around the 2015 Papal Encyclical

    Will climate change make Chinese people more comfortable? A scenario analysis based on the weather preference index

    अन्य

    Supporting climate proof planning with CLARITY's climate service and modelling of climate adaptation strategies – the Linz use-case

    Facility for Weather and Climate Assessments (FACTS): A Community Resource for Assessing Weather and Climate Variability (खुला उपयोग)

    Stratospheric aerosol layer perturbation caused by the 2019 Raikoke and Ulawun eruptions and climate impact (खुला उपयोग)

    प्रकाशक: Modern Grand Solar Minimum will lead to terrestrial cooling (खुला उपयोग)

    सूचित राय और कुहनी मारना

    NEED: The Northern European Enclosure Dam for if Climate Change Mitigation Fails (खुला उपयोग)

    Opinion: To understand how migrations affect human securities, look to the past (खुला उपयोग)

    The value of initial condition large ensembles to robust adaptation decision‐making (खुला उपयोग)

    Privatizing climate adaptation: How insurance weakens solidaristic and collective disaster recovery

    Refining national greenhouse gas inventories (खुला उपयोग)


    Obtaining articles without a subscription

    हम जानते हैं कि यह निराशाजनक है कि हमारे द्वारा उद्धृत कई लेख पढ़ने के लिए स्वतंत्र नहीं हैं। एक बार भुगतान की जाने वाली एक्सेस फीस आमतौर पर खगोलीय रूप से निर्धारित की जाती है, जैसे कि इसके लिए उपयुक्त है "प्रकाश के उत्पादन और परिवर्तन के संबंध में एक अनुमानी बिंदु पर" लेकिन अज्ञात पर एक जुआ के रूप में नहीं। $ 9,3733 की औसत विश्व आय के साथ, हममें से अधिकांश के लिए यूएस $ 42 एक छोटे सीमांत लागत के खिलाफ दांव लगाने के लिए महत्वपूर्ण धन है।

    वैज्ञानिक तुला के अर्थशास्त्री किसी दिन वैज्ञानिक प्रकाशकों को उनके व्यावसायिक गतिविधियों के लिए विज्ञान लाने में मदद कर सकते हैं जैसा कि तर्कसंगत आ ला कार्टे लेख प्रकटीकरण शुल्क में परिलक्षित होता है। इस बीच, एक एकल लेख के अनावरण के लिए एक उद्देश्यपूर्ण और कुचलने वाले बड़े शुल्क का भुगतान करने की जानकारी के उपयोग की समानता के लिए कई संभावित रास्ते हैं:

    • Unpaywall Chrome के लिए एक ब्राउज़र एक्सटेंशन प्रदान करता है जो स्वचालित रूप से इंगित करता है कि कोई लेख स्वतंत्र रूप से सुलभ है और आगे की परेशानी के बिना तत्काल पहुंच प्रदान करता है। Unpaywall भी अनिश्चित है, अच्छी तरह से काम करता है, खुद को उपयोग करने के लिए स्वतंत्र है। आयोजक (एक वैध गैर-लाभकारी) 50% सफलता दर के बारे में रिपोर्ट करते हैं
    • यदि आप किसी लेख में रुचि रखते हैं और इसे "ओपन एक्सेस" के रूप में यहां सूचीबद्ध नहीं किया गया है, तो वैसे भी लिंक की जांच करना सुनिश्चित करें। समय की कमी के कारण खुली पहुंच वाले लेखों की पहचान हमारे द्वारा अपूर्ण मशीन विश्लेषण के माध्यम से की जाती है। अनपेवल आँकड़ों की तुलना में हम सफलतापूर्वक खुले पहुँच लेखों के लगभग 2 / 3rds की पहचान करते हैं। मैदान में निश्चित रूप से सोना बचा है।

    सुझाव

    कृपया हमें बताएं कि यदि आपको लगता है कि आप एक लेख से वाकिफ हैं, तो आपको लगता है कि स्केप्टिकल साइंस रिसर्च समाचार के लिए रुचि हो सकती है, या यदि हम कुछ ऐसा याद कर रहे हैं जो महत्वपूर्ण हो सकता है। स्केप्टिकल साइंस में अपना इनपुट हमारे माध्यम से भेजें हमें अवगत कराएँ.

    पत्रिकाओं ने कवर किया

    हमारे द्वारा कवर की जाने वाली पत्रिकाओं की एक सूची मिल सकती है यहाँ। हम चूककर्ताओं, नई पत्रिकाओं आदि की ओर संकेत करते हैं।

    पिछला संस्करण

    का पिछला संस्करण संशय विज्ञान नया शोध मिल सकता है यहाँ.

  2. यह एक है डेजी ड्यूने द्वारा कार्बन ब्रीफ से पुनः पोस्ट

    Human-caused climate change has “intensified” patterns of extreme rainfall and drought across the globe, a new study finds.

    There is a detectable “human fingerprint” on decreasing rainfall over the US, central Asia and southern Africa, according to the results. It is also detectable on increasing rainfall in the Sahel region of Africa, इंडिया and the Caribbean.

    In addition to increasing greenhouse gas emissions, aerosols released by human pollution and large volcanic eruptions have also been “major contributing agents” to global drought patterns through the औद्योगिक युग, the research says.

    The findings “tackle the problem of identifying the human influence of drought patterns across the world”, a climate scientist tells Carbon Brief.

    उंगलियों के निशान

    Droughts are among the most expensive weather-related disasters in the world (pdf), affecting पारिस्थितिक तंत्र, कृषि तथा मानव समाज.

    But understanding how climate change is affecting drought risk at a global scale can be fraught, बताते हैं Dr Andrew King, a climate extremes research fellow at the यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबॉर्न. King, who was not involved in the new paper, tells Carbon Brief:

    “It is difficult in many regions of the world due to the short observational record coupled with the prolonged nature of droughts. Unfortunately, this yields relatively few events to analyse.”

    For the new study, published in जलवायु परिवर्तन प्रकृति, scientists made use of an emerging technique in climate science known as “human fingerprinting”. Lead author Dr Céline Bonfils, a physicist at the लॉरेंस लिवरमोर नेशनल लेबोरेटरी, explains to Carbon Brief:

    “The main goal of fingerprinting research is to separate natural and human influences on global climate. The climate that we are experiencing at any point in time is influenced by many factors. One factor is the internal ‘noise’ of Earth’s climate – purely natural fluctuations, such as El Niños तथा La Niñas. Climate is also impacted by ‘external’ factors that act at different paces and places.”

    Important human influences include greenhouse gas emissions and polluting aerosols, says Bonfils. Important influences not caused by humans include natural swings in the Earth’s climate and large ज्वालामुखी विस्फोट, which also cause aerosols to be released.

    का प्रयोग जलवायु मॉडल, the scientists searched for a human fingerprint on global drought and rainfall patterns from 1860 to 2019.

    ‘Wet-dry patterns’

    From the model simulations, the researchers found two distinct human fingerprints on global droughts patterns. Bonfils says:

    “We find that since 1950, human-produced greenhouse gases and particulate atmospheric pollution have influenced global changes in temperature, precipitation and regional aridity in two distinct ways. These two human ‘fingerprints’ are statistically identifiable in observations.”

    The scientists found the first human fingerprint on intensification of patterns of drought and extreme rainfall – also known as “wet-dry patterns” – seen worldwide since 1950.

    The maps below show local anomalies in rainfall (top) and the “climate moisture index” (CMI; bottom) from 1860 to 2019 across the globe. (The CMI is an aridity indicator based on rainfall patterns and the relationship between temperature, rainfall and evaporation.) On the maps, brown shows drying while green shows increases in rainfall and moisture.

    Local anomalies in rainfall (top) and the “climate moisture index” (CMI; bottom) from 1860 to 2019 across the globe. Brown shows drying while green shows increases in rainfall and moisture.Local anomalies in rainfall (top) and the “climate moisture index” (CMI; bottom) from 1860 to 2019 across the globe. Brown shows drying while green shows increases in rainfall and moisture. Credit: Bonfils et al. (2020)

    The maps show how the world’s continents, on the whole, have been drying since the mid-19th century.

    Areas seeing large decreases in rainfall include central Asia, including Thailand, इंडोनेशिया and eastern China, as well as the US, including कैलिफोर्निया, according to the results.

    The changes are “largely driven by multidecadal increases in greenhouse gas emissions”, the scientists say in the research paper. Bonfils adds:

    “Manmade sulfate aerosols – the tiny particulate pollutants from combustion processes – have a secondary role in forcing these relationships. By reflecting the sun’s light back to space, these manmade aerosols have cooled the planet and partially offset the greenhouse gas-induced warming. The natural aerosols emitted by volcanoes have also contributed in similar ways, but only for one to three years after each eruption.”

    Tropical rain belt

    The research team found the second human fingerprint on changes associated with the इंटरट्रॉपिकल कन्वर्जेंस ज़ोन (ITCZ).

    The ITCZ is a huge belt of low pressure that encircles the Earth near the equator. It governs the annual rainfall patterns for much of the tropics, making it an important feature of the climate for billions of people. Bonfil explains:

    “The most intense precipitation on Earth occurs in the ITCZ. This tropical rain belt is formed where the trade winds from the southern hemisphere and from the northern hemisphere converge. Their combined air masses meet, rise up into the atmosphere and condense, producing intense rainfall.”

    Illustration of the Intertropical Convergence Zone (ITCZ) and the principle global circulation patterns in the Earth’s atmosphere.Illustration of the Intertropical Convergence Zone (ITCZ) and the principle global circulation patterns in the Earth’s atmosphere. Credit: Kaidor/Creative Commons

    The ITCZ भटक north and south across the tropics each year, roughly tracking the position of the sun through the seasons.

    The new research finds that human influences have affected the movement of the ITCZ. Up until the 1980s, the governing influence was human-caused aerosols, says Bonfils:

    “The second and more subtle ‘fingerprint’ captures a temperature contrast between the northern and the southern hemispheres, mainly controlled by the cooling influence of manmade particulate pollution emitted from Europe and North America up until the 1980s. This temperature contrast moved the tropical rain belt [ITCZ] southwards, away from the cooler northern hemisphere, causing more rainfall over the western US and less over the Sahel and India.”

    After 1980, however, human-caused warming became the dominant influence, she says:

    “After 1980, the northern hemisphere became warmer than the southern hemisphere. There were two reasons for this. First, pollution regulations reduced manmade aerosol emissions in North America and Europe. Second, the greenhouse effect warms the northern hemisphere, which is predominantly covered by land, faster than the southern hemisphere, which is predominantly covered by oceans.

    “For both of these reasons, the tropical rain belt [ITCZ] shifted back northward after 1980, bringing less rainfall to the western US and more to the Sahel. "

    ‘Mash-up’

    The results help to explain the complex changes in global drought patterns seen over the past century, says Bonfils:

    “We found that the major contributing forcing agents of this intertwined mash-up of fingerprints are the steady increase in greenhouse gases, the complex temporal evolution of particulate pollution emissions and volcanic eruptions. All of these forcing agents must be considered together in order to fully explain the observed simultaneously varying changes in temperature, precipitation, and aridity.”

    The study “tackles the problem of identifying the human influence of drought patterns across the world”, adds King:

    “This work will help inform projections of drought under climate change as our greenhouse gas emissions continue while our aerosol emissions fall in many regions.”

    The research also highlights the importance of polluting aerosols in controlling drought patterns, says Dr Craig Poku, a postdoctoral researcher at the यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स, जो अध्ययन में शामिल नहीं था। वह कार्बन ब्रीफ बताता है:

    “[This study] links aerosol emissions and their indirect effects on climate to the changes in aridity. The results that they show highlights the importance of this link, demonstrating why aerosol emissions should be considered more often for this line of research.”

    Bonfils, C. J. W. et al. (2020) Human influence on joint changes in temperature, rainfall and continental aridity, Nature Climate Change, https://www.nature.com/articles/s41558-020-0821-1

  3. Since finishing the सनकी चाचा बनाम जलवायु परिवर्तन पुस्तक, I’ve frequently dipped into that 176-page clip-art library, reshaping the cartoons to fit the 1920 x 1080 pixel format for Powerpoint presentations. I’ve also adapted many of the cartoons for the Cranky Uncle video series.

    Over the last few weeks, a few people have asked if they could use some of my Cranky Uncle cartoons in their climate talks. In response, I’ve now collected a bunch of 1920 x 1080 Cranky Uncle cartoons and uploaded them all in a freely available Powerpoint presentation. Any educators, scientists, activists, or climate communicators giving a talk about climate change are welcome to use any of the cartoons in your talks. They are free to use (but letting us know the context of how you used them in the comment thread below would be much appreciated).

    DOWNLOAD CRANKY UNCLE POWERPOINT

    Almost all the cartoons come from the Cranky Uncle book with a few exceptions. One is a cartoon I drew of Scott Pruitt. This was actually in the first draft of the book, which I wrote back when Pruitt was head of the EPA. Pruitt actually featured quite a lot in that first draft – which I think was a way for me to cope with the frustration of the endless series of scandals following him. My editor wisely advised me to trim Pruitt from the book, suggesting it would date very quickly. Sure enough, Pruitt was fired before I even finished the first draft!

    Another cartoon I drew after the book was finished was a cartoon I drew for a Guardian article by Dana Nuccitelli. As is usual for Dana, his article was excellent and went viral so that the article got featured on the Guardian homepage – which meant my cartoon appeared on the Guardian homepage for a short while. That was fun!

    This last cartoon was in the Cranky Uncle book, illustrating the strengthening consensus in IPCC attribution statements. In 2018, I sent this cartoon to Ben Santer asking for his okay to use his caricature in this fashion. He gave me his okay. Then in early 2020 (those pre-pandemic days when people congregated safely in groups), I attended a talk by Ben in Washington D.C. and was delighted to see he had been using that cartoon in his presentations. However, it bothered me that he was using a cartoon that wasn’t fully utilizing the 1920 x 1080 area (those kinds of tiny details really bother me). So after the talk, I went home, restructured the cartoon, and emailed it to Ben.

  4. 100 लेख

    ग्लोबल वार्मिंग और प्रभावों का भौतिक विज्ञान

    34 वर्षों के उपग्रह प्रेक्षणों का उपयोग करते हुए समुद्री बर्फ और निम्न-स्तरीय बादलों के बीच आर्कटिक फीडबैक तंत्र का विश्लेषण

    ग्लोबल वार्मिंग और प्रभावों की टिप्पणियों

    सिडनी, ऑस्ट्रेलिया में सी Coastal लेवल राइज ड्राइविंग इनक्रीसिटली प्रेडिक्टेबल कोस्टल इनड्यूएशन (खुला उपयोग)

    समुद्र के अम्लीकरण के संदर्भ में कनाडाई आर्कटिक द्वीपसमूह और उससे सटे बेसिन की कार्बोनेट प्रणाली की हालिया स्थिति और परिवर्तनशीलता (खुला उपयोग)

    दक्षिण चीन और इंडोचीन प्रायद्वीप में दूरस्थ उष्णकटिबंधीय पश्चिमी हिंद महासागर में परिवर्तन जून में होता है (खुला उपयोग)

    जलवायु और ग्लोबल वार्मिंग के इंस्ट्रूमेंटेशन और अवलोकन संबंधी तरीके

    पाइन द्वीप ग्लेशियर, पश्चिम अंटार्कटिका के लिए टिपिंग पॉइंट और प्रारंभिक चेतावनी संकेतक (खुला उपयोग)

    समुद्री बर्फ के डेटा का उपयोग करके रीनलिसिस दक्षिणी महासागर वायुमंडल के रुझान की मान्यता (खुला उपयोग)

    रिनलिसिस के बीच उष्णकटिबंधीय उच्च बादलों में अंतर: उत्पत्ति और विकिरण संबंधी प्रभाव (खुला उपयोग)

    स्वायत्त भूतल वाहनों के लिए एक नई कार्बन डाइऑक्साइड प्रणाली का मूल्यांकन (खुला उपयोग)

    CLASSnmat: एक वैश्विक रात समुद्री वायु तापमान डेटा सेट, 1880-2019 (खुला उपयोग)

    ग्लोबल वार्मिंग और ग्लोबल वार्मिंग प्रभावों की मॉडलिंग और अनुकरण

    CMIP6 वायुमंडलीय नमी के प्रवाह का विश्लेषण और माध्य और भारी वर्षा में भविष्य के परिवर्तन के अनुमानों के लिए निहितार्थ

    ग्रीनहाउस वार्मिंग के लिए नेट ओशन सरफेस हीट फ्लक्स रिस्पॉन्स का ग्लोबल पैटर्न फॉर्मेशन

    RCP8.5 संचयी CO2 उत्सर्जन को ट्रैक करता है (खुला उपयोग)

    जम्मू और कश्मीर हिमालय, भारत के इक्कीसवीं सदी के अंत में जलवायु परिदृश्य का उपयोग करते हुए

    एक क्षेत्रीय बाधा मॉडल जो पारिस्थितिकी तंत्र की गतिशीलता, अकार्बनिक कार्बन रसायन विज्ञान और अलास्का की खाड़ी में समुद्र के अम्लीकरण का अनुकरण करता है। (खुला उपयोग)

    यूरोपीय भविष्य की जलवायु प्रवृत्तियों के लिए आंतरिक जलवायु परिवर्तनशीलता के योगदान पर (खुला उपयोग)

    आर्कटिक और अंटार्कटिक समुद्री बर्फ का अर्थ है सामुदायिक पृथ्वी प्रणाली मॉडल संस्करण 2 में राज्य और वायुमंडलीय रसायन विज्ञान का प्रभाव

    जलवायु परिवर्तन और मानवजनित ऊष्मा उत्सर्जन के कारण ग्लोबल रिवर वाटर वार्मिंग

    दक्षिण अमेरिका पर जलवायु चरम सीमा के नीचे - भाग I: संदर्भ जलवायु में मॉडल मूल्यांकन

    CORDEX मॉडल के आधार पर, ईरान के करखेह बेसिन में अनुमानित जलवायु परिवर्तन

    जलवायु मॉडल उन्नति

    वैश्विक भूमि मानसून वर्षा के प्रक्षेपण में अनिश्चितता के स्रोत

    बीवीओसी-एसओए उपचार से एयरोसोल विकिरण के प्रभाव में तीन अंतर पृथ्वी के तीन मॉडल में (खुला उपयोग)

    अल नीनो और ला नीना के बीच विपरीत संक्रमण जटिलता: अवलोकन और CMIP5 / 6 मॉडल

    एरोसोल सक्रियण में ऊर्ध्वाधर वेग को कम करने के लिए आर्कटिक काले कार्बन विकिरण प्रभाव की उच्च संवेदनशीलता

    CMIP6 सिमुलेशन और क्षेत्रीय कार्यक्षेत्र मिश्रण की भूमिका में उत्तरी प्रशांत ऊपरी-महासागर शीत तापमान जीव (खुला उपयोग)

    छह अमेरिकी जलवायु मॉडल में भिन्नता के मोड का प्रतिनिधित्व

    उपग्रह समुद्र की सतह के तापमान और उपसतह प्रोफ़ाइल डेटा को आत्मसात करके एक युग्मित महासागर by वायुमंडल मॉडल में महासागर और वायुमंडल में सुधार

    क्रायोस्फीयर और जलवायु परिवर्तन

    एंथ्रोपोजेनिक वार्मिंग अत्यधिक वार्षिक ग्लेशियर बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचाता है

    जलवायु परिवर्तन और उत्तरी गोलार्ध झील और नदी बर्फ फेनोलॉजी (खुला उपयोग)

    इंटीरियर और सागर के लिए मजबूर ग्लेशियरों के विपरीत प्रतिक्रिया (खुला उपयोग)

    ऐतिहासिक उत्तरी गोलार्ध में बर्फ से ढके रुझान और CMIP6 बहु-मॉडल पहनावा में परिवर्तन का अनुमान है (खुला उपयोग)

    जीवविज्ञान और ग्लोबल वार्मिंग

    एक एवियन परभक्षी का जलवायु परिवर्तन और खराब होने वाला भोजन होर्डर्स: क्या फ्रीज़र अभी भी काम कर रहा है?

    स्प्रिंग स्नो कवर डायनामिक्स और शुरुआती सीज़न फ़ॉरेस्ट उपलब्धता में परिवर्तन एक बड़े मांसाहारी के व्यवहार को प्रभावित करता है

    फाइटोप्लांकटन का आकार घटने से समुद्री खाद्य श्रृंखलाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है

    जलवायु परिवर्तन, जनसंख्या की गतिशीलता और शोषण के संबंध में मछली की वृद्धि की एक सदी

    वनस्पति पर जलवायु-प्रेरित पारमाफ्रोस गिरावट के प्रभाव: एक समीक्षा

    चीन के घास के मैदानों में शाकाहारी पौधों में जलवायु परिवर्तन और जलवायु परिवर्तन के प्रति उनकी प्रतिक्रिया: एक मेटा-विश्लेषण

    जलवायु परिवर्तन परिदृश्यों के तहत जनसंख्या की गतिशीलता मॉडल का उपयोग कर एक पेटागोनियन के विलुप्त होने का जोखिम मूल्यांकन

    दक्षिण अमेरिका के उष्णकटिबंधीय नम वन इको-ज़ोन में भूमि की सतह के फेनोलॉजी की जांच करना

    जलवायु परिवर्तन के मॉडल का अनुमान है कि होंडुरास में एक microendemic मीठे पानी की मछली की सीमा में कमी आती है (खुला उपयोग)

    प्रवासी आधार पर तापमान और वर्षा एक आर्कटिक bird प्रजनन पक्षी की जनसांख्यिकीय प्रवृत्तियों को प्रभावित करते हैं

    Coccolithophore Emiliania huxleyi के शरीर विज्ञान और कार्यात्मक जीन अभिव्यक्ति पर महासागर वैश्विक परिवर्तन के कई ड्राइवरों के प्रभाव

    स्प्रूस बीटल का प्रकोप सूखा तनाव से प्रेरित नहीं था: एक पेड़ से साक्ष्य is रिंग आइसो were जनसांख्यिकीय दृष्टिकोण इंगित करता है कि तापमान अधिक महत्वपूर्ण थे

    कम फास्फोरस की आपूर्ति बढ़े हुए सीओ 2 के लिए संयंत्र प्रतिक्रियाएं: एक मेटा const विश्लेषण

    स्कॉट्स पाइन वन पारिस्थितिकी तंत्र की निगरानी की आधी सदी वायुमंडलीय बयान और जलवायु परिवर्तन के दीर्घकालिक ots शब्द के प्रभाव को प्रकट करती है

    एपिफाइट्स समुद्र के अम्लीकरण से सूक्ष्म पैमाने पर शरण प्रदान करते हैं

    फोर्जिंग रणनीति जलवायु तापन के लिए एक्टोथर्म शिकारी-शिकार प्रतिक्रियाओं की मध्यस्थता करती है

    जलवायु परिवर्तन के लिए सूखे ने स्थलीय अपलैंड लचीलापन को सिकोड़ दिया

    जलवायु परिवर्तन के परिणामस्वरूप सतह गतिविधि में परिवर्तन का पूर्वानुमान

    गर्म तापमान एक गैर def देशी डीफोलिएटर की जनसंख्या वृद्धि को बढ़ाता है और पैरासाइटोइड द्वारा जनसांख्यिकीय प्रतिक्रियाओं को बाधित करता है

    GHG स्रोत और सिंक, प्रवाह

    $ $ \ Hbox को विभाजित करना {CO} _2 $ $ CO 2 फ्लक्स द्वारा टूटी तरंगों से मुक्त बूंदों द्वारा मध्यस्थता

    जीवाश्म ईंधन उत्सर्जन अनिश्चितताओं और 3-डी रासायनिक सीओ 2 उत्पादन के लिए लेखांकन का प्रभाव उपग्रह से और प्राकृतिक आंकड़ों में उलटा प्राकृतिक कार्बन प्रवाह अनुमानों पर होता है।

    उपोष्णकटिबंधीय तटीय पारिस्थितिक तंत्र में प्रकाश संश्लेषक उत्पादन के लिए इष्टतम तापमान की पहचान - एक गर्म दुनिया में CO2 अनुक्रम के लिए निहितार्थ

    वैश्विक सीमेंट चक्र की स्पंज प्रभाव और कार्बन उत्सर्जन शमन क्षमता (खुला उपयोग)

    वैश्विक पैटर्न और नीचे के शुद्ध कार्बन निर्धारण के जलवायु नियंत्रण (खुला उपयोग)

    तिब्बती पठार पर वायुमंडलीय सीएच 4 की विशेषताओं को बदलते हुए, माउंट वालिगुआन स्टेशन पर 1994 से 2017 तक के रिकॉर्ड (खुला उपयोग)

    मिट्टी के फैलाव से विवश माइक्रोबियल कार्यात्मक समूहों का उपयोग करके गीले उष्णकटिबंधीय वन मिट्टी से मीथेन उत्सर्जन का प्रतिनिधित्व करना (खुला उपयोग)

    कार्बोनेट और सिलिकेट लिथोलॉजी के साथ उपोष्णकटिबंधीय कैचमेंट में रासायनिक अपक्षय के कारण वायुमंडलीय CO2 के अस्थायी और शुद्ध डूब (खुला उपयोग)

    GOSAT सैटेलाइट अवलोकनों का उपयोग करके एक आर्द्रभूमि मीथेन उत्सर्जन पहनावा (वेटचर्ट्स) पर बाधाओं का अन्वेषण (खुला उपयोग)

    मीथेन पौधों में परिवहन (खुला उपयोग)

    अंटार्कटिक समुद्री बर्फ का दक्षिणी महासागर कार्बन के प्रकोप पर प्रभाव: कैपिंग बनाम लाइट एटनरेशन

    वनस्पति आर्द्रभूमि मीथेन उत्सर्जन के समय और स्थान को प्रभावित करती है

    समशीतोष्ण पर्णपाती वनों में कार्बन अपवर्तन की अंतर iability वार्षिक परिवर्तनशीलता पर चंदवा सूक्ष्मजीवों में ऊर्ध्वाधर विषमताओं का प्रभाव

    वनस्पति तटीय पारिस्थितिकी तंत्र के लिए मीथेन उत्सर्जन संश्लेषण से संबंधित चिंताओं और अनिश्चितताओं का जवाब

    सीओ 2 हटाने विज्ञान और इंजीनियरिंग

    एसिड डिपोजिशन से प्रभावित सिलिकेट-ट्रीटेड फॉरेस्ट वाटरशेड द्वारा कार्बन कैप्चर में वृद्धि (खुला उपयोग)

    क्या बायोमास आपूर्ति BECCS की मांगों को पूरा कर सकती है?

    भू-आकृतिक जलवायु

    समताप मंडल सल्फेट एरोसोल के लिए एक विशेष वितरण प्रणाली: डिजाइन और संचालन (खुला उपयोग)

    दो वैश्विक मॉडल में कृत्रिम SO2 इंजेक्शन के अर्ध-द्विवार्षिक दोलन की भिन्न प्रतिक्रियाएं (खुला उपयोग)

    ब्लैक कार्बन और एरोसोल

    दक्षिणी भारत में अर्ध-शुष्क क्षेत्र में वायुमंडलीय मिश्रित एरोसोल और ब्लैक कार्बन रेडियेटिव फोर्सिंग का दीर्घकालिक (2008-2017) विश्लेषण: आदर्श परिणाम और जमीनी माप

    1980-2018 के दौरान आर्कटिक ब्लैक कार्बन और सल्फेट एरोसोल और संबंधित आर्कटिक सतह के गर्म होने का स्रोत (खुला उपयोग)

    कमजोर एयरोसोल प्रत्यक्ष विकिरण प्रभाव चीनी वायु गुणवत्ता पर जलवायु दंड को कम करता है

    जलवायु परिवर्तन संचार और अनुभूति

    जलवायु परिवर्तन अनुकूलन: सीमित मीडिया आख्यान (खुला उपयोग)

    मेकांग क्षेत्र में जलवायु से संबंधित जोखिमों के बारे में किसानों की धारणाओं का एक्वाकल्चर

    जलवायु परिवर्तन के लिए शस्त्रों के लिए एक कॉल? जलवायु परिवर्तन के बारे में सैन्य सेवा सदस्य चिंता प्रभावी जलवायु संचार को कैसे सूचित कर सकते हैं (खुला उपयोग)

    बलिदान के बिना कोई गौरव नहीं - सामान्य आबादी में जलवायु के ड्राइवर (में) कार्रवाई

    जलवायु परिवर्तन पर ध्यान देना: जलवायु परिवर्तन समाधानों की सकारात्मक छवियां ध्यान आकर्षित करती हैं

    कृषि और जलवायु परिवर्तन

    एयरबोर्न अवलोकन के साथ क्रॉपलैंड एन 2 ओ उत्सर्जन और उर्वरक संयंत्र ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का मूल्यांकन

    वरीयता विषमता, पड़ोस प्रभाव और बुनियादी सेवाएं: इथियोपिया में किसानों के जलवायु अनुकूलन के लिए कर्नेल मॉडल

    जलवायु परिवर्तन प्रभाव अनुकूलन, जलवायु शमन का अर्थशास्त्र और वित्त

    शोध समाचार के लिए विशेष* - अनुकूलन लागत और लाभ के लिए जलवायु परिवर्तन लेखांकन के वैश्विक मृत्यु दर परिणामों को मान्य करना

    जलवायु परिवर्तन से प्रेरित मृत्यु दर का आर्थिक मूल्यांकन: नीदरलैंड में उम्र पर निर्भर ठंड और गर्मी की मृत्यु दर (खुला उपयोग)

    जलवायु वित्त न्याय: जलवायु नीति, सामाजिक न्याय और पूंजी पर अंतर्राष्ट्रीय दृष्टिकोण (खुला उपयोग)

    तटीय बांग्लादेश में जलवायु के झटके और अनुकूलन की रणनीति: क्या माइक्रोक्रिडिट खेलने के लिए एक हिस्सा है? (खुला उपयोग)

    पोलैंड में कोयले की राजनीतिक अर्थव्यवस्था: जीवाश्म ईंधन से दूर एक पारी के लिए ड्राइवर और बाधाएं

    हरे बांड के उद्भव और प्रसार की व्याख्या क्या है?

    शून्य कार्बन और शून्य गरीबी की ओर: राष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन शमन और सतत विकास लक्ष्यों को एकीकृत करना (खुला उपयोग)

    उप-सहारा अफ्रीका में स्थायी ऊर्जा पहुंच और जलवायु परिवर्तन शमन के लिए निजी जलवायु वित्त को जुटाना (खुला उपयोग)

    वैश्विक कार्बन मूल्य निर्धारण के लिए एक दोहरे ट्रैक संक्रमण (खुला उपयोग)

    हमारे ग्लोबल वार्मिंग से निपटने वाले मनुष्य

    सीओ के पीछे कारक2 चीनी भारी उद्योगों में उत्सर्जन में कमी: क्या पर्यावरणीय नियम मायने रखते हैं?

    यूरोप में जलवायु परिवर्तन अनुकूलन नीति साधनों के प्रमाण का मानचित्रण

    समुद्र के स्तर में वृद्धि के लिए न्यूयॉर्क शहर की लचीलापन बढ़ाने और तटीय बाढ़ में वृद्धि हुई

    अल्बर्टा में तेजी से क्षरण के लिए स्थानीय जल संसाधन भेद्यता की पहचान

    डूबते डेल्टा शहरों में बाढ़ का खतरा: पुन: मूल्यांकन के लिए समय? (खुला उपयोग)

    तटीय बांग्लादेश के लिए शताब्दी के अंत तक विरोधाभासी विकास प्रक्षेपवक्र (खुला उपयोग)

    कोरोनोवायरस संकट और जलवायु संकट दोनों को क्या नीतियां संबोधित करती हैं? (खुला उपयोग)

    फ्रांस में अनुकूलन योजना: समुदाय के नेतृत्व वाली दूरदर्शिता प्रक्रिया के समर्थन में परिवर्तन के आख्यानों से इनपुट

    चीन के मध्य शताब्दी के जलवायु लक्ष्य के लिए मार्ग: उत्सर्जन की तीव्रता बनाम पूर्ण लक्ष्यों की तुलना (खुला उपयोग)

    अन्य

    भविष्य में पृथ्वी का हरा-भरा होना पहले की भविष्यवाणी जैसा बड़ा नहीं हो सकता है

    माइक्रोलेगा बायोडीजल के जीवन चक्र ग्रीनहाउस गैस संतुलन का मेटा-विश्लेषण

    सूचित राय और कुहनी मारना

    प्रणालीगत अनुमानों का एक एहतियाती आकलन और सूर्य के प्रकाश परावर्तन और कार्बन निष्कासन मॉडलिंग से वादा करता है

    वर्तमान आर्कटिक जलवायु परिवर्तन के अतीत पर दृष्टिकोण

    जलवायु परिवर्तन शमन को आगे बढ़ाने के लिए COVID -19 से पांच सबक (खुला उपयोग)

    *वर्किंग पेपर, औपचारिक पत्रिका संपादकीय प्रक्रिया द्वारा सहकर्मी-समीक्षा नहीं की गई, लेकिन फिर भी बहुत सारे साथियों द्वारा समीक्षा की गई।


    कागजात की प्रतियां प्राप्त करना

    हम जानते हैं कि यह निराशाजनक है कि हमारे द्वारा उद्धृत कई लेख पढ़ने के लिए स्वतंत्र नहीं हैं। एक बार भुगतान की जाने वाली एक्सेस फीस आमतौर पर खगोलीय रूप से निर्धारित की जाती है, जैसे कि इसके लिए उपयुक्त है "प्रकाश के उत्पादन और परिवर्तन के संबंध में एक अनुमानी बिंदु पर" लेकिन अज्ञात पर एक जुआ के रूप में नहीं। $ 9,3733 की औसत विश्व आय के साथ, हममें से अधिकांश के लिए यूएस $ 42 एक छोटे सीमांत लागत के खिलाफ दांव लगाने के लिए महत्वपूर्ण धन है।

    वैज्ञानिक तुला के अर्थशास्त्री किसी दिन वैज्ञानिक प्रकाशकों को उनके व्यावसायिक गतिविधियों के लिए विज्ञान लाने में मदद कर सकते हैं जैसा कि तर्कसंगत आ ला कार्टे लेख प्रकटीकरण शुल्क में परिलक्षित होता है। इस बीच, एक एकल लेख के अनावरण के लिए एक उद्देश्यपूर्ण और कुचलने वाले बड़े शुल्क का भुगतान करने की जानकारी के उपयोग की समानता के लिए कई संभावित रास्ते हैं:

    • Unpaywall Chrome के लिए एक ब्राउज़र एक्सटेंशन प्रदान करता है जो स्वचालित रूप से इंगित करता है कि कोई लेख स्वतंत्र रूप से सुलभ है और आगे की परेशानी के बिना तत्काल पहुंच प्रदान करता है। Unpaywall भी अनिश्चित है, अच्छी तरह से काम करता है, खुद को उपयोग करने के लिए स्वतंत्र है। आयोजक (एक वैध गैर-लाभकारी) 50% सफलता दर के बारे में रिपोर्ट करते हैं
    • यदि आप किसी लेख में रुचि रखते हैं और इसे "ओपन एक्सेस" के रूप में यहां सूचीबद्ध नहीं किया गया है, तो वैसे भी लिंक की जांच करना सुनिश्चित करें। समय की कमी के कारण खुली पहुंच वाले लेखों की पहचान हमारे द्वारा अपूर्ण मशीन विश्लेषण के माध्यम से की जाती है। अनपेवल आँकड़ों की तुलना में हम सफलतापूर्वक खुले पहुँच लेखों के लगभग 2 / 3rds की पहचान करते हैं। मैदान में निश्चित रूप से सोना बचा है।

    सुझाव

    कृपया हमें बताएं कि यदि आपको लगता है कि आप एक लेख से वाकिफ हैं, तो आपको लगता है कि स्केप्टिकल साइंस रिसर्च समाचार के लिए रुचि हो सकती है, या यदि हम कुछ ऐसा याद कर रहे हैं जो महत्वपूर्ण हो सकता है। स्केप्टिकल साइंस में अपना इनपुट हमारे माध्यम से भेजें हमें अवगत कराएँ.

    पत्रिकाओं ने कवर किया

    हमारे द्वारा कवर की जाने वाली पत्रिकाओं की एक सूची मिल सकती है यहाँ। हम चूककर्ताओं, नई पत्रिकाओं आदि की ओर संकेत करते हैं।

    पिछला संस्करण

    का पिछला संस्करण संशय विज्ञान नया शोध मिल सकता है यहाँ.

  5. यह एक है करिन कर्क द्वारा येल जलवायु कनेक्शन से फिर से पोस्ट

    कई अमेरिकी इन दिनों व्यावहारिक रूप से किसी भी विषय पर विवाद से बचने में असमर्थ प्रतीत होते हैं, इसलिए परमाणु ऊर्जा के विशेष रूप से अस्थिर क्षेत्र में कलह और उकसाना क्यों नहीं? अधिवक्ताओं का दावा है कि यह वैश्विक जलवायु लक्ष्यों को पूरा करने का एकमात्र तरीका है, जबकि विरोधियों ने सुरक्षा, राष्ट्रीय सुरक्षा और रेडियोधर्मी कचरे की चिंताओं पर अपनी ऊँची एड़ी के जूते में खुदाई की।

    और फिर वहाँ पैसा है, और बहुत सारे, इसमें शामिल हैं: एक लगातार सामान्य धागा भी - या शायद विशेष रूप से - सभी चीजों पर सबसे अलग राय-परमाणु पर।

    लेकिन दोनों पक्षों की बहस अक्सर महत्वपूर्ण बिंदुओं को याद करती है। परमाणु-विरोधी बयानबाजी का एक केंद्रीय सिद्धांत नवीकरणीय ऊर्जा विकल्पों का भ्रामक रूप से निराशाजनक चित्रण है। इस बीच, परमाणु ऊर्जा के खिलाफ निरंकुश तर्क भी अक्सर मुख्य रूप से पुराने पौधों पर लागू होते हैं जो अब नहीं बनाए जा रहे हैं। और कभी-कभी दोनों पक्ष प्रौद्योगिकियों में आशावादी अग्रिमों पर अपनी टोपी लटकाते हैं जो कि समय-समय पर वाणिज्यिक रूप से उपलब्ध नहीं हो सकते हैं, ताकि वे निर्बाधकरण की दिशा में आवश्यक प्रगति कर सकें।

    दुनिया की ऊर्जा प्रणालियों पर फिर से विचार करने के लिए एक दबाव की आवश्यकता को देखते हुए, यह परमाणु ऊर्जा के बारे में बात करने योग्य है। लेकिन सबसे पहले, सुस्पष्ट और भड़काऊ दावों को जीवाश्म ईंधन से परे स्थानांतरित करने के लिए सबसे अच्छे और त्वरित तरीकों के उचित मूल्यांकन के पक्ष में एक तरफ रखा जाना है।

    समस्या की जड़: गैर-आंतरायिक ऊर्जा की आवश्यकता

    अमेरिकी बिजली ग्रिड को हरा करने की प्रगति अच्छी तरह से चल रही है। नवीकरण बढ़ने पर कोयले में गिरावट आ रही है। लेकिन वह सूत्र केवल इतना ही चलता है। ऊर्जा विश्लेषकों का कहना है कि पूरी तरह से विघटित करने के लिए, आंतरायिक पीढ़ी के किनारों के आसपास अंतराल में भरने के लिए एक कम या कोई-कार्बन ऊर्जा स्रोत की आवश्यकता नहीं है।

    नवीकरणीयों की तैनाती में अग्रणी राज्य कैलिफोर्निया के मामले पर विचार करें। हालांकि सौर ऊर्जा दिन के उजाले के दौरान अधिकांश मांग को संभालती है, लेकिन यह शाम की ऊर्जा के उपयोग को गति नहीं दे सकती है। वर्तमान में, प्राकृतिक गैस "चोटी" पौधों का उपयोग सौर और पवन के पूरक के लिए किया जाता है, जो जीवाश्म ईंधन पर राज्य की निर्भरता को जारी रखता है।

    बिजली गैप ग्राफिक

    प्राकृतिक गैस से उत्सर्जन को चरणबद्ध करने के लिए, या तो कार्बन कैप्चर को गैस बिजली संयंत्रों में जोड़ा जाना चाहिए, या कम-कार्बन विकल्प का उपयोग किया जा सकता है, जैसे कि बेहतर नवीकरण भंडारण या परमाणु ऊर्जा।

    यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सभी अंडों को एक टोकरी में जाने की आवश्यकता नहीं है। राष्ट्र की वर्तमान ऊर्जा संरचना प्रौद्योगिकियों के संयोजन पर निर्भर करती है, और एक विविध दृष्टिकोण जारी रहने की संभावना है।

    अमेरिका में पारंपरिक परमाणु रास्ते पर है?

    परमाणु ऊर्जा अमेरिकी बिजली की आपूर्ति का 20% उत्पन्न करती है; यह अमेरिका में गैर-जीवाश्म ऊर्जा उत्पादन का सबसे बड़ा स्रोत है और वैश्विक स्तर पर दूसरा सबसे बड़ा स्रोत है। लेकिन ऊर्जा सूचना प्रशासन को उम्मीद है कि इससे बिजली उत्पादन में परमाणु हिस्सेदारी बढ़ेगी नीचे की ओर रुझान अमेरिका में, मुख्य रूप से क्योंकि यह ऊर्जा के अन्य स्रोतों की तुलना में काफी महंगा है।

    पिछले 30 वर्षों में अमेरिका में केवल दो नई परमाणु ऊर्जा परियोजनाएं शुरू की गई हैं, और दोनों को बड़े झटके लगे हैं। दक्षिण कैरोलिना में वीसी समर परियोजना में, दो नए रिएक्टर निर्माण के अपने पांचवें वर्ष में थे जब पावर प्लांट था परित्यक्त - 9 बिलियन डॉलर के बाद इसमें डूब गया था। निर्माण में देरी, डिजाइन की समस्याएं, बजट की अधिकता और रिएक्टरों का निर्माण करने वाली कंपनी के दिवालिया होने से सभी का निधन हो गया।

    दूसरी नई परियोजना जॉर्जिया की वोगल यूनिट 3 और 4 वेनसबोरो के पास है। देरी और ए के बावजूद, 2021 में ऑनलाइन होने की उम्मीद है दोहरीकरण के पास मूल रूप से अनुमानित लागत का।

    नए परमाणु डिजाइन कार्यों में हैं

    अधिकांश भाग के लिए, परमाणु ऊर्जा के भविष्य के लिए अधिवक्ता आम तौर पर आज संचालित होने वाले अधिक प्रकार के पौधों के निर्माण का सुझाव नहीं दे रहे हैं। इसके बजाय, कोई "नए परमाणु," "उन्नत परमाणु," या "जनरल IV" बिजली संयंत्रों के बारे में सुनता है। इन शर्तों में उभरती हुई प्रौद्योगिकियों के एक मेजबान को शामिल किया गया है जो संभावित रूप से सुरक्षा, कचरे में कमी और लचीलेपन में सुधार के लिए साहसिक वादे करते हैं।

    यहां उन्नत परमाणु ऊर्जा के विकास में कुछ अवधारणाएं हैं।

    रिएक्टरों को ठंडा करने के बेहतर तरीके

    वर्तमान परमाणु रिएक्टरों को दबाव वाले पानी से ठंडा किया जाता है, जिसे लगातार रिएक्टर कोर के माध्यम से परिचालित किया जाना चाहिए। यदि ठंडा पानी का प्रवाह धीमा या बाधित हो जाता है, तो रिएक्टर कोर गर्म हो सकता है, जिससे संभावित रूप से आपदाग्रस्त मसल्स बन सकता है। पर ऐसा ही हुआ फुकुशिमा परमाणु संयंत्र जापान में, 2011 के भूकंप और सूनामी के मद्देनजर।

    अगली पीढ़ी के डिजाइन गर्मी को अवशोषित करने के बेहतर तरीकों का उपयोग करेंगे। पिघला हुआ नमक, उदाहरण के लिए, पानी की तुलना में कहीं अधिक गर्मी को अवशोषित कर सकता है, और यह उबाल नहीं सकता है। अन्य डिजाइन तरल धातु का उपयोग करते हैं, जैसे सोडियम या पिघला हुआ सीसा, गर्मी अवशोषक भी।

    कम अपव्यय

    दशकों से इंजीनियरिंग के प्रयासों के बावजूद रेडियोधर्मी अपशिष्ट और निपटान विकल्प परमाणु ऊर्जा के लिए गंभीर चुनौतियों का सामना करते हैं, और वे आसान समाधान के बिना समस्याओं को उठाते हैं।

    पारंपरिक रिएक्टर ईंधन में मूल यूरेनियम का केवल 1% उपभोग करते हैं, जो अपशिष्ट उत्पादों को पीछे छोड़ देता है जो हजारों वर्षों तक खतरनाक रहते हैं। नए रिएक्टर डिज़ाइन ईंधन का अधिक कुशलता से उपयोग करेंगे, कम अपशिष्ट का उत्पादन करेंगे और ईंधन भरने के बीच लंबे समय तक चलेंगे।

    एक उदाहरण एक है ब्रीडर रिएक्टर, जो पारंपरिक रिएक्टरों में अपशिष्ट के रूप में समाप्त होने वाली कुछ सामग्रियों का उपभोग करने के लिए प्रतिक्रियाओं की एक श्रृंखला का उपयोग करता है। इसका परिणाम ईंधन की प्रति यूनिट कम ऊर्जा और अधिक ऊर्जा से उत्पन्न दोहरे लाभ से है।

    छोटे और अधिक लचीले… लेकिन कब?

    एक परिचित व्यक्ति बहस में सुनता है एसएमआर, छोटे मॉड्यूलर रिएक्टर है। ए परमाणु उद्योग वकालत समूह हेराल्ड एसएमआर को "परमाणु ऊर्जा के उज्ज्वल भविष्य" के रूप में देखता है, लेकिन इस वास्तविकता के साथ पालन करता है कि "उच्च-अप लागत और खराब डिज़ाइन किए गए नियम इन प्रौद्योगिकियों को बाजार तक पहुंचने से रोकने की धमकी देते हैं।"

    अमेरिका के ऊर्जा विभाग वर्णन करता है एसएमआर पारंपरिक परमाणु संयंत्रों की तुलना में छोटे, सस्ते और सुरक्षित हैं। यूटिलिटी-स्केल विंड फार्म के आउटपुट के समान प्रत्येक रिएक्टर से आउटपुट दसियों से सैकड़ों मेगावाट तक होगा। और एसएमआर में एम मॉड्यूलर के लिए खड़ा है: इन बिजली संयंत्रों को आवश्यक रूप से अधिक मॉड्यूल जोड़कर, वृद्धिशील रूप से बनाया जा सकता है।

    यद्यपि छोटे मॉड्यूलर रिएक्टरों की अवधारणा कई लाभ प्रदान करती है, डीओई स्वीकार करता है कि "महत्वपूर्ण एसएनआर डिजाइनों को बाजार में लाने के लिए महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी विकास और लाइसेंसिंग जोखिम बने हुए हैं, और 2020 के अंत या 2030 के दशक तक एसएमआर की घरेलू तैनाती को प्राप्त करने के लिए सरकारी समर्थन की आवश्यकता है।"

    उच्च ताप अनुप्रयोगों में सक्षम

    पारंपरिक परमाणु रिएक्टरों की एक भूमिका है: बिजली बनाने के लिए। लेकिन नए रिएक्टर डिज़ाइन कुछ औद्योगिक उद्देश्यों के लिए आवश्यक उच्च तापमान पर काम कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, स्टीलमेकिंग में वर्तमान में धातु के कोयले का उपयोग किया जाता है, जो दुनिया भर में कोयले के उपयोग का 17% है। चूंकि बिजली उत्पादन के लिए कोयला जलाना क्लीनर स्रोतों द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है, इसलिए स्टील बनाने के लिए कोई स्पष्ट प्रतिस्थापन नहीं है। परमाणु ऊर्जा संभावित रूप से इस आवश्यकता को पूरा कर सकती है और कार्बन उत्सर्जन को कम करने में मदद कर सकती है।

    इसी तरह, हाइड्रोजन बनाने के लिए उन्नत परमाणु रिएक्टरों का उपयोग किया जा सकता है, जिनका निम्न कार्बन ऊर्जा भविष्य में कई उपयोग हैं।

    लंबे लीड समय में कार्रवाई के लिए महत्वपूर्ण विंडो याद आती है।

    परमाणु रिएक्टरों की अगली पीढ़ी अभी भी आरएंडडी चरण में है। व्यावसायिक उपलब्धता और संचालन व्यवहार्य बनने से पहले नए डिजाइनों को प्रोटोटाइप, परीक्षण और ट्वीक किया जाना चाहिए। जनरेशन IV इंटरनेशनल फोरम - नए परमाणु रिएक्टर डिजाइन पर अनुसंधान और विकास में शामिल 14 देशों का सहयोग - ने 130 वैचारिक विचारों और विचारों का मूल्यांकन किया है चयनित छह सबसे वादा के साथ। इन विचारों को लाने के लिए समय सारिणी लंबी है: "इनमें से कुछ रिएक्टर डिजाइन अगले दशक के भीतर प्रदर्शित किए जा सकते हैं, जिनमें 2030 में व्यावसायिक तैनाती की शुरुआत होगी।"

    अमेरिका में उन्नत परमाणु रिएक्टरों के कोई कार्य प्रोटोटाइप नहीं हैं, लेकिन छह प्रदर्शन परियोजनाओं परमाणु नियामक आयोग द्वारा अनुमोदित किया गया है, और ऊर्जा विभाग ने हाल ही में एक नया लॉन्च किया है प्रदर्शन कार्यक्रम इसका उद्देश्य दो नए रिएक्टरों का निर्माण करना है।

    इसलिए कम से कम, यह तकनीक सड़क से 10 साल नीचे है, और वित्तपोषण, अनुमति, और राजनीति की जटिल जटिलताओं के साथ इससे अधिक होने की संभावना है। तेजी से डीकोर्नाइजिंग की मांग को देखते हुए, दुनिया को एक और दशक इंतजार करने के लिए तैयार नहीं किया जा सकता है जब तक कि व्यापक समाधान लागू नहीं किया जा सकता है।

    उच्च और अनिश्चित मूल्य टैग

    अंतिम लक्ष्य दूर होने पर उन्नत परमाणु तकनीक की कीमत को कम करना मुश्किल है। बहरहाल, ऊर्जा सूचना प्रशासन अनुमान नई ऊर्जा स्रोतों के निर्माण के लिए सबसे महंगी विकल्पों में से उन्नत परमाणु की कीमत 82 डॉलर प्रति Mwh है, जिसमें पूंजीगत लागत, संचालन और ट्रांसमिशन शामिल हैं। वह मूल्य टैग परमाणु कचरे के प्रबंधन को ध्यान में नहीं रखता है। तुलना के लिए, प्राकृतिक गैस "पीक" बिजली $ 67 / Mwh है, ऑनशोर विंड $ 40 है, और उपयोगिता-स्केल सौर $ 36 है। वर्तमान में, सौर और परमाणु के लिए उत्पादन कर क्रेडिट उपलब्ध हैं, लेकिन ऊपर के मूल्य अनुमानों में उन छूटों को शामिल नहीं किया गया है।

    लेकिन अमेरिका में हाल ही में बनाए गए दो परमाणु संयंत्रों की स्नोबॉलिंग लागत को देखते हुए, उन्नत परमाणु की वास्तविक कीमत जानना मुश्किल है।

    लेकिन परमाणु कचरे का क्या?

    अमेरिकी राजनेताओं ने अभी तक परमाणु कचरे की समस्या को हल नहीं किया है, और बहुत से राजनीतिक बाधाओं से उम्मीद करते हैं कि तकनीकी लोगों को अच्छी तरह से समझा जा सकता है। उदाहरण के लिए, युक्का पर्वत, नेवादा में एक लंबी अवधि के भूमिगत निपटान स्थल, 1987 के बाद से कामों में है, लेकिन कभी भी पूरा नहीं किया गया था, मोटे तौर पर राजनीतिक कारणों से (वास्तविकता में तत्कालीन अमेरिकी सीनेटर हैरी रीड (डी-नेवादा) सीनेट मेजरिटी लीडर और 2007 से 2015 तक एक शक्तिशाली प्रतिद्वंद्वी था)। इसके बजाय, बिजली की छड़ें बिजली संयंत्रों में संग्रहीत की जाती हैं क्योंकि वे एक लंबी अवधि के भाग्य का इंतजार करते हैं।

    यहां तक ​​कि बहुत अधिक प्रक्षालित ब्रीडर रिएक्टर अभी भी रेडियोधर्मी कचरे का उत्पादन करते हैं, भले ही उनके पूर्ववर्तियों की तुलना में कम हो। परमाणु कचरा एक इंजीनियरिंग समस्या और एक सामाजिक समस्या दोनों प्रस्तुत करता है, क्योंकि अधिकांश लोग चाहते हैं कि परमाणु कचरा उनसे कहीं दूर चले जाएं। उद्योग को एक विश्वसनीय मार्ग खोजने के लिए, अनसुलझे अपशिष्ट, आर्थिक, राष्ट्रीय सुरक्षा और सामाजिक समस्याओं का समाधान करना होगा।

    धन और राजनीतिक इच्छाशक्ति… आगे की लड़ाई लड़ती है

    अन्य ऊर्जा विकल्पों के सापेक्ष नए परमाणु रिएक्टरों और आकाश-उच्च लागतों को विकसित करने के लिए लंबे लीड-टाइम को देखते हुए, परमाणु विकल्प कई निजी निवेशकों के लिए एक कठिन बिक्री है। किसी भी सार्थक पैमाने की परियोजनाओं के लिए सरकारी निवेश की आवश्यकता होती है - और यहाँ रगड़ है: परमाणु ऊर्जा अमेरिकी जनता के बहुत से अलोकप्रिय बनी हुई है, एक धारणा जो ऊर्जा को पसंद करती है या नहीं। प्यू रिसर्च पोलिंग के अनुसार, बस अमेरिकियों के 43% अधिक परमाणु संयंत्रों के निर्माण के पक्ष में। इसके विपरीत, 90% अमेरिकी सौर ऊर्जा के विस्तार का समर्थन करते हैं और 83% पवन ऊर्जा को बढ़ाने का समर्थन करते हैं।

    बड़े पैमाने पर निवेश, लंबे समय से नेतृत्व, और जनता के उत्साह की कमी अमेरिका में परमाणु ऊर्जा के लिए एक निरंतर कठिन सड़क के लिए बनाते हैं

    कुछ अधिवक्ता पसंदीदा समाधानों में कमजोर लिंक की अनदेखी करते हैं

    परमाणु ऊर्जा के समर्थकों ने अक्सर पवन और सौर के विशाल पैमाने को "जादुई सोच" के रूप में खारिज कर दिया। लेकिन परमाणु ऊर्जा के उन्नत रूपों की ओर बढ़ने के लिए भी संभावित चुनौतियों के सामने आशावाद की पर्याप्त खुराक की आवश्यकता होती है।

    नवीकरणीय ऊर्जा पर जनता की राय को रोकना - कम लागत से ईंधन - यह उन्नत परमाणु ऊर्जा पर एक बड़ा सिर शुरू करता है: यह लोकप्रिय है और तुलना में, सस्ता है। लेकिन वह अकेला अपर्याप्त है। ऊर्जा भंडारण के क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति के लिए ऊर्जा प्रणाली के कठोर-से-तय क्षेत्रों में अक्षय ऊर्जा लाने की आवश्यकता है, जैसे कि बहु-दिन बादल या ठंड मंत्र, स्टीलमेकिंग, और वैश्विक रूप से ऊर्जा मांग को दफन करना। अक्षय ऊर्जा में आवश्यक लाभ केवल तभी संभव होगा जब सार्वजनिक इच्छा और पर्याप्त निवेश हो।

    परमाणु ऊर्जा की ओर मुड़ते हुए, समान चीजों में से कई सच हैं। कोई मौजूदा तकनीक नहीं है जो काम कर सके। गंभीर सुधार की आवश्यकता है, मूल्य टैग अज्ञात है, और समयरेखा चिंताजनक रूप से लंबी है।

    कुछ मौजूदा राजनीतिक बहसों के विपरीत, ऊर्जा एक साधारण अप-डाउन-डाउन वोट नहीं है। यह एक गलत द्वंद्वात्मकता हो सकती है कि देश के ऊर्जा भविष्य का नवीकरण या परमाणु होना चाहिए। यह न तो आवश्यक है और न ही एक के लिए एक मामले का निर्माण करने के लिए उपयोगी है, बस दूसरे के सभी पर विचार करना। कोई "पूर्ण" समाधान नहीं हो सकता है, और पहेली के सभी व्यक्तिगत टुकड़ों को विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग, अर्थशास्त्र और, और निश्चित रूप से राजनीति के संदर्भ में बाहर करना होगा।

    बड़ी चुनौतियों के लिए बड़े समाधान की आवश्यकता होती है

    अंत में, दुनिया की ऊर्जा ग्रिड को केवल एक या दो दशक में बदलना कोई आसान काम नहीं है। जीवाश्म ईंधन के हितों, राजनीतिकरण, और व्यापार-हमेशा की तरह जड़ता ने दशकों तक दुनिया के हाथों को बांध दिया है, समाधानों को बढ़ाने के लिए एक तंग समयरेखा छोड़ दिया है। शायद सबसे बुरी तरह की जादुई सोच यह है कि रचनात्मक और बड़े पैमाने पर कार्रवाई के बिना जलवायु संकट हल है।

    लेकिन एक कदम पीछे ले जाना, कुछ चीजें स्पष्ट रूप से स्पष्ट हैं: स्मार्ट योजना, बड़े निवेश, विज्ञान-आधारित मजबूत नेतृत्व, और एक प्रेरित आबादी ठीक वही है जिसकी आवश्यकता है। हालांकि हम विवरण विज्ञापन के बारे में तर्क दे सकते हैं, शायद हम अंतिम लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित रहने, बड़े सपने देखने और साहसपूर्वक आगे बढ़ने के लिए भी सहमत हो सकते हैं।

  6. पिछले सप्ताह के दौरान स्केप्टिकल साइंस फेसबुक पेज पर जुड़े समाचार लेखों की कालानुक्रमिक सूची: सूर्य, अगस्त २, २०१०, शनि के माध्यम से, through अगस्त २०१०

    संपादकों की पसंद

    जलवायु परिवर्तन पर बोलने के पांच साल बाद, पोप फ्रांसिस एक तत्काल अलार्म लगता है

    विश्वव्यापी 'लॉडाटो सी' ने कई लोगों को ग्लोबल वार्मिंग पर कार्रवाई करने के लिए प्रेरित किया, लेकिन सरकारों ने कहा कि पोप बहुत पीछे रह गए हैं।

    पोप फ्रान्सिस

    पोप फ्रांसिस इस महीने की शुरुआत में रविवार एंजेलस प्रार्थना के दौरान वेटिकन में सेंट पीटर स्क्वायर की अनदेखी खिड़की से अपना आशीर्वाद देते हैं। क्रेडिट: फिलिप्पो मोंटेफॉरे / एएफपी / गेटी

    जब पोप फ्रांसिस ने 2015 में जलवायु परिवर्तन पर अपने ऐतिहासिक शिक्षण दस्तावेज जारी किए, तो उनके शब्द सीधे सुसान वरलामॉफ के दिल में उतर गए।

    70 वर्षीय एक जीवविज्ञानी वरलामॉफ ने रेचल कार्सन को पढ़ा साइलेंट स्प्रिंग 1960 के दशक में और एक कैथोलिक धर्म के बारे में गर्व से बात करता है जो विज्ञान को गले लगाता है और चर्च के सदस्यों को पृथ्वी की देखभाल करने के लिए कहता है। उसकी बहन, उसने कहा, एक बच्चे के रूप में कैंसर से मृत्यु हो गई, और उसने सोचा कि क्या उसके पिता के उपनगरीय यार्ड में कीटनाशकों के उदार उपयोग का कारण हो सकता है।

    उसने आर्कबिशप विल्टन ग्रेगरी से पूछा, जो उस समय अटलांटा और जॉर्जिया के अधिकांश हिस्सों में 1.2 मिलियन कैथोलिकों के नेता थे, चाहे वह पोप के अभिलेखागार के लिए एक समीक्षा लिख ​​सकें।लॉडाटो सी ': ऑन कॉमन होम फॉर केयर, "पर्यावरण के लिए समर्पित पहला विश्वकोश है।

    इसके बजाय, उसने एक एक्शन प्लान मांगा।

    यहां क्लिक करे इनसाइड न्यूज़ वेबसाइट पर पोस्ट किए गए अनुसार पूरे लेख को एक्सेस करने के लिए।

    जलवायु परिवर्तन पर बोलने के पांच साल बाद, पोप फ्रांसिस एक तत्काल अलार्म लगता है जेम्स ब्रुगर्स द्वारा, इनसाइड क्लब न्यूज़, अगस्त 7, 2020


    लेख फेसबुक पर जुड़े

    सन, 2 अगस्त, 2020

    सोम, 3 अगस्त, 2020

    टीयू, 4 अगस्त, 2020

    बुध, 5 अगस्त, 2020

    थू, 6 अगस्त, 2020

    शुक्र, 7 अगस्त, 2020

    शनि, 8 अगस्त, 2020

  7. सप्ताह की कहानी ... सप्ताह का तून ... SkS पर जल्द ही आ रहा है ... सप्ताह का पोस्टर ... समीक्षा में SkS सप्ताह ...

    सप्ताह की कहानी ...

    ड्राडाउन रिव्यू 2020: एक जिम्मेदार व्यक्ति में ग्लोबल वार्मिंग को कैसे संबोधित करें

    परियोजना नुक्सान

    स्रोत: प्रोजेक्ट ड्राडाउन

    परियोजना नुक्सान एक गैर-लाभकारी संगठन है जो वार्मिंग ग्रह की चुनौती को पूरा करने के लिए बुद्धिमान तरीके से शिल्प करने के लिए दुनिया भर के कई वैज्ञानिकों, अर्थशास्त्रियों और प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों के सहयोगात्मक प्रयासों पर निर्भर करता है। तीन साल पहले, समूह ने अपनी पहली पुस्तक प्रकाशित की, जिसका शीर्षक था Drawdown, जिसने 100 में पेरिस में दुनिया के अधिकांश देशों द्वारा सहमत लक्ष्यों को पूरा करने के लिए 2015 रणनीतियों को प्रस्तुत किया।

    तीन साल बाद, इसने एक नई रिपोर्ट के साथ उस मूल को अपडेट किया है ड्राडाउन रिव्यू, जो मानवता का सुझाव देने की हिम्मत करता है, वह केवल आज उपलब्ध साधनों का उपयोग करके जलवायु संकट को प्रभावी ढंग से प्रबंधित कर सकता है। बेशक, यह मानता है कि हमारे पास समस्या को जिम्मेदार वयस्कों के रूप में संबोधित करने की इच्छाशक्ति है।

    ड्राडाउन रिव्यू बहुत जटिल है और इसे संक्षिप्त लेख में संक्षिप्त करने के लिए विस्तृत है। इसे ग्राफ़, चार्ट और फ़ुटनोट्स के साथ पैक किया जाता है, और हम आपसे इसे अपने लिए पढ़ने का आग्रह करते हैं। इसके दस सबसे प्रमुख निष्कर्षों को पुन: प्रस्तुत किया जाता है, इन शब्दों से पूर्वानुभव

    "वर्तमान में, वैश्विक प्रयास पैमाने, गति, या गुंजाइश के पास कहीं नहीं आते हैं [सबसे हालिया आईपीसीसी रिपोर्ट को संबोधित करने के लिए]। फिर भी आवश्यक परिवर्तन प्राप्त करने के कई साधन पहले से मौजूद हैं। लगभग दैनिक रूप से, जलवायु समाधानों के विकास और तेजी से बढ़ने का वादा किया गया है, ताकि सूर्यास्त के जीवाश्म ईंधन के बुनियादी ढांचे के बढ़ते प्रयासों के साथ और इन पुरातन और खतरनाक ऊर्जा स्रोतों के विस्तार को रोका जा सके। ”

    यहां क्लिक करे मूल रूप से स्वच्छ Technica वेबसाइट पर पोस्ट किए गए पूरे लेख तक पहुंचने के लिए।

    ड्राडाउन रिव्यू 2020: एक जिम्मेदार व्यक्ति में ग्लोबल वार्मिंग को कैसे संबोधित करें स्टीव हैनली, क्लीन टेक्निका, 8 अगस्त, 2020 तक


    सप्ताह के तून ...

    2020 तून 32

    हैट टिप टू स्टॉप क्लाइमेट साइंस डेनियल फेसबुक पेज।


    जल्द ही आ रहा है SkS ...

    • वैज्ञानिकों ने वैश्विक सूखे पैटर्न पर नए 'मानव फिंगरप्रिंट' की खोज की (डेज़ी डन्ने)
    • क्यों बच्चों को अपने दादा दादी की तुलना में आठ गुना कम सीओ 2 का उत्सर्जन करना चाहिए (Zeke)
    • सप्ताह # 32 के लिए SkS न्यू रिसर्च (डग बोस्सोम)
    • जलवायु परिवर्तन से साइबेरिया के 2020 हीटवेव ने '600 गुना अधिक संभावना' बनाई (डेज़ी डन्ने)
    • क्या फ्यूजन पावर जलवायु परिवर्तन को हल करेगा? (जलवायु एडम)
    • 2020 SkS साप्ताहिक जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग समाचार राउंडअप # 33 (जॉन हर्ट्ज)
    • 2020 SkS साप्ताहिक जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग डाइजेस्ट # 33 (जॉन हर्ट्ज)

    वीक का पोस्टर ...

    220 पोस्टर 32


    समीक्षा में SkS वीक ...

  8. यह एक है येल जलवायु कनेक्शन से फिर से पोस्ट

    सरकार के नियम निर्माता यह तय करना चाहते हैं कि वायुमंडल में अधिक ग्रीनहाउस गैसों को जोड़ने से बचने के लिए कितना पैसा खर्च करना है, इसके लिए एक अच्छे अनुमान की जरूरत है कि सामाजिक नुकसान में एक गर्म जलवायु का क्या खर्च होगा, उदाहरण के लिए अधिक चरम मौसम की घटनाओं के माध्यम से।

    यह बिंदु "कार्बन की सामाजिक लागत" को जलवायु प्रदूषकों के सबसे महत्वपूर्ण महत्वपूर्ण मैट्रिक्स में से एक बनाता है। जलवायु परिवर्तन के कारण होने वाले कार्बन प्रदूषण के प्रत्येक टन की डॉलर लागत का अनुमान, कार्बन गाइड की संघीय एजेंसियों की सामाजिक लागत जो प्रस्तावित विनियमों की लागत और लाभों पर विचार करने के लिए आवश्यक है। संघीय एजेंसियों ने अब तक आर्थिक लाभ में $ 1 ट्रिलियन से अधिक नियमों के साथ कार्बन की सामाजिक लागत का उपयोग किया है।

    2010 में, ओबामा प्रशासन में एक सरकारी अंतर्राज्यीय कार्य समूह ने कार्बन डाइऑक्साइड प्रदूषण के $ 45 प्रति टन कार्बन अनुमान की पहली संघीय सामाजिक लागत की स्थापना की। 2017 में, नए उद्घाटन किए गए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कार्यकारी आदेश से अंतर्राज्यीय समूह को तुरंत भंग कर दिया, और महीनों के भीतर उनके EPA ने मीट्रिक को $ 1 और $ 6 के बीच गिरा दिया। वैज्ञानिकों की एक स्वतंत्र टीम के नवीनतम शोध का निष्कर्ष है कि कार्बन की सामाजिक लागत वास्तव में 100 में कार्बन डाइऑक्साइड प्रदूषण के बारे में $ 200 से $ 2020 प्रति टन से शुरू होनी चाहिए, 600 तक बढ़कर लगभग 2100 डॉलर हो जाएगी।

    राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन को नवंबर के चुनाव में राष्ट्रपति पद का चुनाव जीतना चाहिए, उनकी संघीय एजेंसी नियुक्तियां निस्संदेह कार्बन की सामाजिक लागत को संशोधित करने के बारे में अप-टू-डेट जलवायु विज्ञान और अर्थशास्त्र अनुसंधान को प्रतिबिंबित करने के लिए निर्धारित करेगी। कार्बन की संशोधित सामाजिक लागत बदले में अधिक कड़े संघीय जलवायु नियमों को सही ठहराएगी। डोनाल्ड ट्रम्प के दूसरे कार्यकाल के बजाय जलवायु परिवर्तन के कम लागत वाले चार वर्षों के परिणाम होंगे कार्बन प्रदूषण पर अंकुश लगाने के प्रयासों में देरी.

    हमलों का इतिहास

    अपनी स्थापना के बाद से, कार्बन की सामाजिक लागत जलवायु नियमों का विरोध करने वालों का एक लक्ष्य रही है, जिसमें वाशिंगटन, डीसी में कई रिपब्लिकन कार्यालय धारक शामिल हैं, कार्बन अनुमान के न्यूट्रल सामाजिक लागत का उपयोग अब तीन प्रमुख जलवायु नियमों को कमजोर करने के लिए किया गया है: स्वच्छ बिजली योजना को पूर्ववत करना, वाहन ईंधन दक्षता मानकों, और जुलाई 2020 में, हवाई जहाज ग्रीनहाउस गैस मानकों की स्थापना उन स्तरों से मेल खाने वाले स्तरों के लिए उद्योग पहले ही मिल चुका है.

    दिसंबर 2017 में, कांग्रेस के डेमोक्रेट्स ने सरकार की जवाबदेही कार्यालय से कार्बन की सामाजिक लागत की गणना के लिए ट्रम्प ईपीए की नई पद्धति की जांच करने के लिए कहा। गाओ इसकी रिपोर्ट प्रकाशित की जून 2020 में।

    गाओ ने पुष्टि की कि ट्रम्प ईपीए ने दो संदिग्ध विकल्पों को लागू करके कार्बन की सामाजिक लागत को घटा दिया हाउस रिपब्लिकन द्वारा अनुशंसित 2017 की शुरुआत में। पहला वैश्विक, जलवायु क्षति लागत के बजाय केवल घरेलू पर विचार करना था। विशेषज्ञों का विशाल बहुमत, राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी सहित, सहमत हैं कि दृष्टिकोण अनुचित है।

    जीवाश्म ईंधन के दहन द्वारा जारी कार्बन पूरे वातावरण में अन्य गैसों के साथ मिश्रित होता है। अमेरिका से कार्बन प्रदूषण और संबंधित नुकसान यूएस राथर में नहीं रहते, दुनिया भर में फैले जलवायु प्रभाव, जैसे कि अन्य देशों के कार्बन प्रदूषण का अमेरिका में परिणाम है। चूँकि सभी अर्थव्यवस्थाएँ वैश्विक व्यापार के माध्यम से आपस में जुड़ी हुई हैं, इसलिए अमेरिका की अर्थव्यवस्था को भी नुकसान होता है जब अन्य अर्थव्यवस्थाएँ पीड़ित होती हैं। केवल घरेलू जलवायु नुकसान को ध्यान में रखते हुए कार्बन के सामाजिक लागत को सात डॉलर के कारक से घटाकर लगभग $ 6 प्रति टन कार्बन प्रदूषण किया गया।

    लिया गया दूसरा तरीका छूट दर से संबंधित था, जो इस तथ्य के लिए जिम्मेदार है कि पैसा बचाया और निवेश ब्याज अर्जित करता है और इस तरह आज खर्च किए गए पैसे से अधिक मूल्यवान है। ट्रम्प ईपीए ने 3% और 7% की छूट दरों का इस्तेमाल किया, जिनमें से उत्तरार्द्ध का सुझाव है कि हमें आज से 3 साल पहले एक डॉलर के नुकसान से बचने के लिए 50 सेंट से अधिक खर्च नहीं करना चाहिए। 7% की छूट दर ने कार्बन डाइऑक्साइड प्रदूषण के लिए कार्बन की सामाजिक लागत $ 1 प्रति टन कम कर दी।

    ट्रम्प ईपीए ने प्रबंधन और बजट नामक कार्यालय से एक मार्गदर्शन दस्तावेज का हवाला देकर इन दो विकल्पों को सही ठहराया परिपत्र ए -4। लेकिन गाओ ने निष्कर्ष निकाला कि ईपीए ने उस मार्गदर्शन के असुविधाजनक हिस्सों को नजरअंदाज कर दिया था, जिसमें कहा गया था, "जहां आप एक विनियमन का मूल्यांकन करना चुनते हैं जो संयुक्त राज्य की सीमाओं से परे प्रभाव पड़ने की संभावना है, इन प्रभावों को अलग से रिपोर्ट किया जाना चाहिए," और "विशेष पीढ़ियों के लाभों और लागतों की तुलना करते समय नैतिक विचार उत्पन्न होते हैं ... ऐसे विकल्पों से प्रभावित होने वाले भावी नागरिक उन्हें बनाने में भाग नहीं ले सकते हैं, और आज के समाज को उनकी रुचि के कुछ विचारों के साथ काम करना चाहिए। "

    ट्रम्प ईपीए ने न तो अमेरिकी सीमाओं के बाहर जलवायु लागतों पर विचार किया और न ही आने वाली पीढ़ियों के हितों को, जो अनियंत्रित जलवायु परिवर्तन से, आर्थिक और अन्यथा, नुकसान पहुँचाएंगे।

    कार्बन की वास्तविक सामाजिक लागत क्या है?

    कार्बन की सामाजिक लागत की गणना करने के लिए, दोनों अंतर-कार्यशील समूह और ट्रम्प ईपीए तीन जलवायु-अर्थशास्त्र मॉडल (जिसे "एकीकृत मूल्यांकन मॉडल" कहा जाता है) पर निर्भर करता था। इनमें से सबसे प्रमुख डायनामिक इंटीग्रेटेड क्लाइमेट-इकॉनोमी (DICE) मॉडल है, जिसके लिए इसके निर्माता विलियम नॉर्डहॉस को आर्थिक विज्ञान में नोबेल पुरस्कार दिया गया था। उसी दिन नॉर्डस ने नोबेल पुरस्कार जीता - 7 अक्टूबर, 2018 - आईपीसीसी ने इसे प्रकाशित किया 1.5 डिग्री सेल्सियस के ग्लोबल वार्मिंग पर विशेष रिपोर्ट.

    यह एक अजीब संयोग था। एक तरफ, आईपीसीसी ने निष्कर्ष निकाला कि पूर्व-औद्योगिक तापमान से ऊपर 2 डिग्री सेल्सियस (3.6 डिग्री फ़ारेनहाइट) की ग्लोबल वार्मिंग भी 1.5 डिग्री सेल्सियस (2.7 डिग्री फ़ारेनहाइट) से अधिक गंभीर जलवायु परिवर्तन का परिणाम देगी, जैसे अधिक चरम मौसम , गंभीर प्रवाल भित्ति मृत्यु दर, गायब आर्कटिक समुद्री बर्फ, और इतने पर। इसके विपरीत, नॉर्डहास के DICE मॉडल ने संकेत दिया कि आर्थिक रूप से इष्टतम जलवायु मार्ग का परिणाम 3.5 डिग्री सेल्सियस (6.3 ° F) 2100 तक वार्मिंग होगा, जो कि IPCC ने निष्कर्ष निकाला है कि परिणाम होगा अत्यंत गंभीर परिणाम, जैसे कि 40-70% सभी प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा है, ग्लेशियल पीछे हटने की वजह से लाखों लोगों के लिए पानी की आपूर्ति को खतरा है, समुद्र के स्तर में वृद्धि, समुद्र तटीय क्षेत्रों में बाढ़ और अन्य। यदि यह परिणाम वास्तव में इष्टतम नहीं है, तो यह सुझाव देता है कि DICE और इसी तरह के मॉडल के आधार पर 45 डॉलर प्रति टन कार्बन अनुमान की संघीय सामाजिक लागत बहुत कम है, ट्रम्प ईपीए का दावा नहीं है।

    पेरिस समझौते के लक्ष्य के अनुरूप नया प्रकाशित शोध

    के लेखक ए नए अध्ययन जर्नल में नेचर क्लाइमेट चेंज ने DICE मॉडल में जलवायु विज्ञान और अर्थशास्त्र की मान्यताओं को अपडेट करके इस असहमति को समेटने का प्रयास किया। वैज्ञानिक पक्ष में, लेखकों ने हाल के अनुसंधान का उपयोग यह अद्यतन करने के लिए किया कि प्रकृति द्वारा कार्बन को कितना अवशोषित किया जाता है और वातावरण में ग्रीनहाउस गैसों की बढ़ी हुई सांद्रता तापमान को प्रभावित करती है। उन्होंने पाया कि इन अद्यतनों के साथ, "इस सदी के अंत तक मूल DICE अंशांकन की तुलना में इष्टतम तापमान में 2100 की गिरावट 0.5 ° C की गिरावट के साथ 3 ° C (5.4 ° F) से कम है।"

    शोधकर्ताओं ने तब अपडेट किया कि मॉडल "क्षति फ़ंक्शन" के रूप में क्या जाना जाता है, जो आर्थिक नुकसान के लिए वैश्विक तापमान परिवर्तन का अनुवाद करता है। हाल के शोध से पता चला है कि DICE के मूल नुकसान के कार्य ने आर्थिक गतिविधि और विकास पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को काफी कम कर दिया है। 0.8 में पूर्व-औद्योगिक स्तर से ऊपर इष्टतम तापमान परिवर्तन को कम करके, तदनुसार सामान्य तापमान परिवर्तन को कम करते हुए, 2.2 डिग्री सेल्सियस को घटाकर 4 डिग्री सेल्सियस (2100 ° F) कर दिया गया।

    प्रकृति अध्ययन ने DICE में उपयोग की जाने वाली छूट दर को भी संशोधित किया। यह एक कठिन मुद्दा है कि हम जलवायु परिवर्तन को धीमा करने के लिए आज पैसा बचाने बनाम खर्च करने में कितना महत्व देते हैं - एक स्वाभाविक रूप से व्यक्तिपरक प्रश्न। शोधकर्ताओं ने एक का उपयोग करके इस समस्या से निपटने के 2018 अध्ययन अमेरिकन इकोनॉमिक जर्नल में प्रकाशित किया गया था जिसमें दीर्घकालिक सामाजिक छूट दर पर 173 विशेषज्ञों का सर्वेक्षण किया गया था, जबकि DICE पहले एक व्यक्ति की राय पर निर्भर था (नॉर्डहास, जो अपेक्षाकृत उच्च 4% छूट दर को पसंद करता था)। निम्न परिणामी छूट दर स्थानों को "नॉर्डहॉस के अंशांकन की तुलना में भविष्य की पीढ़ियों की भलाई पर अधिक वजन रखता है, जो कि अधिक कठोर जलवायु नीतियों के लिए अग्रणी है," लेखकों ने लिखा। यह 1.7 तक पूर्व-औद्योगिक स्तरों से ऊपर इष्टतम तापमान परिवर्तन को 2.0-3.1 डिग्री सेल्सियस (3.6–2100 ° F) तक कम कर देता है।

    कार्बन डाइऑक्साइड से परे ग्रीनहाउस गैसों को संबोधित करते समय, परिणामस्वरूप इष्टतम तापमान परिवर्तन अभी भी कम है, 1.5-1.8 डिग्री सेल्सियस (2.7-3.2 ° F) पर। अनिश्चितताओं को शामिल करते हुए, अध्ययन लेखकों ने निष्कर्ष निकाला कि इष्टतम आर्थिक जलवायु पथ के परिणामस्वरूप 1.2-2.2 डिग्री सेल्सियस ग्लोबल वार्मिंग 2100 (पूर्व-औद्योगिक तापमान से 2-4 ° F) अधिक हो जाएगा। प्रकृति अध्ययन के मॉडल के 76% भाग में, तापमान इष्टतम जलवायु मार्ग में 2 तक पेरिस जलवायु समझौते के 3.6 ° C (2100 ° F) के लक्ष्य से नीचे रहा।

    संक्षेप में, नवीनतम जलवायु विज्ञान और अर्थशास्त्र अनुसंधान को शामिल करते समय, इष्टतम आर्थिक जलवायु मार्ग पेरिस जलवायु समझौते के अनुरूप है जो कि ग्लोबल वार्मिंग को 2 ° C से कम रखने का लक्ष्य है, और आदर्श रूप से पूर्व-औद्योगिक तापमान से 1.5 डिग्री सेल्सियस के करीब है।

    शोधकर्ताओं ने अतिरिक्त मूल्यांकन किया कि कार्बन की सामाजिक लागत के लिए उनके अपडेट किए गए मॉडल इनपुट का क्या मतलब होगा। उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि यह कार्बन की सामाजिक लागत का अनुवाद 100 में कार्बन डाइऑक्साइड प्रदूषण के बारे में $ 200 से $ 2020 प्रति टन से शुरू होकर 600 तक बढ़कर लगभग 2100 डॉलर हो जाएगा। जैसा कि अपेक्षित था, यह कार्बन अनुमान की पिछली संघीय सामाजिक लागत से काफी अधिक है। $ 45 प्रति टन, और ट्रम्प EPA के अनुमान से अधिक $ 1 प्रति $ 6 प्रति टन से अधिक है। यह भी सुसंगत है कई हालिया अध्ययन यह पाते हुए कि कार्बन की सामाजिक लागत $ 100 प्रति टन कार्बन डाइऑक्साइड प्रदूषण से अधिक है - ट्रम्प ईपीए के अनुमान से लगभग 100 गुना अधिक है।

  9. 86 लेख

    ग्लोबल वार्मिंग और प्रभाव के अवलोकन और अवलोकन के तरीके

    21 वीं सदी की शुरुआत में आर्कटिक मीठे पानी के बजट में मजबूर परिवर्तन

    उष्णकटिबंधीय प्रशांत में नीचे से महासागर का अम्लीकरण

    स्नो कवर अवधि के रुझान साइटों पर देखे गए और कई मॉडलों द्वारा भविष्यवाणी की गई

    मासिक हिमपात की दुनिया की सबसे लंबी श्रृंखला में नई अंतर्दृष्टि (परमा, उत्तरी इटली, 1777 into2018)

    1990 के दशक के उत्तरार्ध में शांत मौसम जलवायु परिवर्तन

    हाई माउंटेन एशिया और अलास्का की खाड़ी में बर्फ का नुकसान 2 और 2010 के बीच क्रायोसेट -2019 स्वाथ अल्टीमेट्री द्वारा देखा गया (खुला उपयोग)

    आर्कटिक महासागर के ऊपर सर्दियों के हल्के वातावरण में रुझान: महासागर के दो दशकों से एक परिप्रेक्ष्य light रंग डेटा

    1997 के बाद से यूरेशियन बोरियल जंगलों में हरियाली पड़ना एक आर्द्र और ठंडी जलवायु के कारण होता है

    समुद्री बर्फ के विस्तार पर ओशनिक और वायुमंडलीय ऊष्मा का प्रभाव (खुला उपयोग)

    जलवायु परिवर्तन मंदी के दौरान चीन पर हीटवेव सांख्यिकीय विशेषताओं में परिवर्तन

    ग्लोबल वार्मिंग का इंस्ट्रूमेंटेशन

    आर्कटिक समुद्री बर्फ मात्रा विसंगति के सांख्यिकीय पूर्वानुमान: पूर्वसूचक और इष्टतम नमूनाकरण स्थानों की पहचान करना (खुला उपयोग)

    दुनिया भर में सीटू एरोसोल विकिरण गुणधर्मों के मल्टीकेडल प्रवृत्ति विश्लेषण (खुला उपयोग)

    ग्लोबल वार्मिंग और ग्लोबल वार्मिंग प्रभावों की मॉडलिंग और अनुकरण

    महासागर जैव-रासायनिक रुझानों के लिए उभार और बड़े कलाकारों की टुकड़ी का समय

    स्लैब महासागर, 150 and वर्ष, और लंबे सिमुलेशन से संतुलन जलवायु संवेदनशीलता के अनुमानों की तुलना

    ग्रेटर फ्यूचर यूके विंटर नई संवहन-अनुमति परिदृश्यों में वृद्धि

    दक्षिण एशियाई मानसून कम दबाव प्रणालियों में अनुमानित परिवर्तन (खुला उपयोग)

    ब्रिटिश कोलंबिया में वर्षा के कारण भूस्खलन की आवृत्ति में भविष्य में परिवर्तन

    अंतिम सहस्राब्दी के जलवायु सिमुलेशन में गतिशील और हाइड्रोलॉजिकल परिवर्तन (खुला उपयोग)

    पश्चिमी संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रीय जंगलों और पार्कों में 21 वीं सदी की जलवायु के जवाब में बिजली की आग और धुएं की सांद्रता में रुझान और स्थानिक बदलाव (खुला उपयोग)

    प्रत्यक्ष एयरोसोल प्रभाव में बादल-आकाश का योगदान (खुला उपयोग)

    एक आंतरिक वायुमंडलीय प्रक्रिया जो अगले तीन दशकों में ग्रीष्मकालीन आर्कटिक समुद्री बर्फ पिघलने का निर्धारण करती है: पांच बड़े असेम्बली और कई CMIP5 जलवायु सिमुलेशन से सीखे गए सबक

    इथियोपिया, पूर्वी अफ्रीका पर CORDEX सिमुलेशन से अत्यधिक वर्षा सूचकांकों में अनुमानित परिवर्तन

    यूरोलियन दृष्टिकोण के साथ भूमि पर उष्णकटिबंधीय चक्रवात वर्षा के अनुमान: वेस्ट इंडीज में तीन द्वीपों का केस स्टडी

    चार गतिशील डाउनस्कूलिंग सिमुलेशन से चीन में अत्यधिक उच्च और निम्न तापमान की घटनाओं का मूल्यांकन और पहनावा प्रक्षेपण

    जलवायु मॉडल उन्नति

    जलवायु संवेदनशीलता के लिए उभरते बाधाओं का संयोजन

    ISMIP6 स्टैंड-अलोन आइस शीट मॉडल से समुद्र स्तर के अनुमानों के लिए प्रायोगिक प्रोटोकॉल (खुला उपयोग)

    एक बायोडेट मॉडल के साथ युग्मित डेटा एसिमिलेशन द्वारा एएमओसी पुनर्निर्माण पर सुसंगत महासागर स्तरीकरण का प्रभाव

    आर्कटिक महासागर अवलोकन ऑपरेटर 6.9 GHz (ARC3O) के लिए - भाग 1: जलवायु मॉडल आउटपुट से 6.9 GHz पर समुद्री बर्फ चमक तापमान कैसे प्राप्त करें (खुला उपयोग)

    आर्कटिक महासागर अवलोकन ऑपरेटर 6.9 GHz (ARC3O) के लिए - भाग 2: विकास और मूल्यांकन (खुला उपयोग)

    पूर्वोत्तर अमेरिका में विभिन्न भूमि उपयोग प्रकारों के लिए सतह ऊर्जा, ग्रीनहाउस गैस फ्लक्स और रेडियोधर्मी मजबूर करने के लिए एक जैव-रासायनिक मॉडल में सुधार

    उष्णकटिबंधीय के लिए एक्स्ट्राट्रॉपिकल लीनियर स्टेप रिस्पोंस, वर्षा की विसंगतियाँ और इसका उपयोग जलवायु वार्मिंग के लिए अनुमानित सर्कुलेशन परिवर्तन में बाधा डालता है

    अनुरेखक परिवहन पर संख्यात्मक प्रभाव: वायुमंडलीय जनरल सर्कुलेशन मॉडल का एक प्रस्तावित इंटरकॉमपेरिसन परीक्षण

    क्रायोस्फीयर और जलवायु परिवर्तन

    हाई माउंटेन एशिया और अलास्का की खाड़ी में बर्फ का नुकसान 2 और 2010 के बीच क्रायोसेट -2019 स्वाथ अल्टीमेट्री द्वारा देखा गया (खुला उपयोग)

    अंटार्कटिक आइस शेल्फ मेल्टिंग का ज्वारीय मॉड्यूलेशन (खुला उपयोग)

    ग्रीनलैंड के तापमान और पिछले 20 000 वर्षों में डेटा आत्मसात का उपयोग करके वर्षा (खुला उपयोग)

    बदलती दुनिया में झील की बर्फ की गतिशीलता को समझने के लिए दृष्टिकोण को एकीकृत करना

    ग्रीनलैंड की सतह का हवा का तापमान 1981 से 2019 तक बदलता है और बर्फ elt चादर पिघल और बड़े पैमाने पर संतुलन के लिए निहितार्थ बदल जाता है

    जीवविज्ञान और ग्लोबल वार्मिंग

    एक अर्ध Gr शुष्क घास के मैदान में चरम वर्षा की घटनाओं और उनके समय का महत्व

    मरुस्थल झाड़ी में आंतरिक जल-उपयोग दक्षता के मल्टीडैकेडल रिकॉर्ड एन्सेलिया फारिनोसा में जलवायु परिवर्तन के लिए मजबूत प्रतिक्रियाएं हैं (खुला उपयोग)

    मूससी, स्विटज़रलैंड में अंतिम विघटन के बाद से वनस्पति और आग की गतिशीलता पर जलवायु प्रभाव (खुला उपयोग)

    महासागर वार्मिंग, अम्लीकरण और यूट्रोफिकेशन के लिए वैश्विक प्रवाल भित्ति निवास की उपयुक्तता

    स्कॉट्स पाइन वृक्षारोपण प्रजातियों के दक्षिणी वितरण सीमा पर स्थानों में जलवायु वार्मिंग के लिए अनुकूलन का विकास करता है

    चीन में एक बोरियल जंगल में जलवायु परिवर्तन के लिए पेड़ और झाड़ी की वृद्धि प्रतिक्रियाओं में अंतर

    जलवायु परिवर्तन दक्षिण ब्राजील के आकर्षण के केंद्र में वनस्पति प्रकार के वितरण को बदलता है

    माउंटेन स्टोनफ्लाइज़ वार्मिंग धाराओं को सहन कर सकते हैं: जीव शरीर विज्ञान और जीन अभिव्यक्ति से सबूत

    एक व्यापक संयंत्र आक्रमणकारी में जलवायु वार्मिंग के जवाब में तेजी से जीनोमिक और फेनोटाइपिक परिवर्तन

    अपरिचित साझेदारी गर्मजोशी के लिए सर्वहारा होलोबायंट संलयन को सीमित करती है

    अनुमानित जलवायु और भूमि उपयोग परिवर्तन पश्चिमी ब्लैकगैड टिक फेनोलॉजी को बदल देते हैं, मौसमी मेजबान and कैलिफोर्निया में उपयुक्तता और मानव मुठभेड़ जोखिम की मांग करते हैं

    परिवर्तन की डिग्री: एक जीवंत छिपकली में फेनोलॉजी के थर्मल प्रतिक्रिया मानदंडों में जनसंख्या भिन्नता के बीच और भीतर

    गर्म इतिहास और उष्मा की सहिष्णुता का ऊष्मीय विकास गर्म विस्तार के दौरान गर्म और ठंडे क्षेत्रों की ओर होता है

    रेंज विस्तार के इको ‐ विकासवादी गतिशीलता

    दो प्रतिष्ठित उत्तर अमेरिकी कोनिफ़र में जंगल की आग के प्रतिरोध और लचीलापन का आकलन करने के लिए एक विशेषता tra आधारित दृष्टिकोण

    GHG स्रोत और सिंक, प्रवाह

    चेसापिक बे के अकार्बनिक कार्बन संतुलन पर वैश्विक परिवर्तन और क्षेत्रीय जलसंचय के सापेक्ष प्रभाव (खुला उपयोग)

    रिवरियन वेटलैंड्स से ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन: चीन में इनर मंगोलिया घास के मैदान क्षेत्र से एक उदाहरण (खुला उपयोग)

    घनत्व प्रभाव सुधार के साथ जुड़े अशांत आंकड़ों और CO2 के प्रवाह में अनिश्चितताएं

    कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) एक उच्च T ऊंचाई वाले उष्णकटिबंधीय पकड़ में स्थलीय और जलीय वातावरण से प्रवाह

    मृदा कार्बन स्टॉक को प्रभावित करने वाले जैवभौतिकीय और सामाजिक आर्थिक कारक: एक वैश्विक मूल्यांकन

    कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन और क्षेत्रीय आर्थिक विकास के बीच संबंधों पर EKC परीक्षण अध्ययन (खुला उपयोग)

    सीओ 2 हटाने विज्ञान, इंजीनियरिंग और नीति

    कैल्शियम एसीटेट से निकले सीएओ के युग्मित सीओ 2 कैप्चर और थर्मोकेमिकल हीट स्टोरेज

    फेयर-शेयर कार्बन डाइऑक्साइड हटाने से बड़ी उत्सर्जक जिम्मेदारी बढ़ जाती है

    बिलासपुर, भारत में सड़क के किनारे वनीकरण और कार्बन अनुक्रम के लिए उपयुक्त पेड़ प्रजातियाँ (खुला उपयोग)

    मिश्रित प्रजातियों में दीर्घकालिक कार्बन अनुक्रम को बढ़ाने के लिए रणनीतियाँ, स्वाभाविक रूप से पुनर्जीवित उत्तरी समशीतोष्ण वन (खुला उपयोग)

    जलवायु भू-विज्ञान, इंजीनियरिंग और नीति

    जलवायु से युक्त

    काला कोयला

    जलवायु और वायु गुणवत्ता के लिए ब्लैक कार्बन शमन का सह-लाभ (खुला उपयोग)

    कार्बोनिअस एरोसोल उत्सर्जन, स्रोत अपवर्जन और जलवायु प्रभाव पर भारतीय नेटवर्क परियोजना (COALESCE) (खुला उपयोग)

    जलवायु परिवर्तन संचार और अनुभूति

    जलवायु समाचार में, बड़े व्यवसायों के बयान और जलवायु कार्रवाई के विरोधियों को उंची दृश्यता प्राप्त होती है (खुला उपयोग)

    टीवी वेदरकास्टर्स द्वारा स्थानीयकृत जलवायु रिपोर्टिंग एक स्थानीय समस्या के रूप में जलवायु परिवर्तन की सार्वजनिक समझ को बढ़ाती है: एक यादृच्छिक नियंत्रित प्रयोग से साक्ष्य। (खुला उपयोग)

    जलवायु परिवर्तन के कथित व्यक्तिगत अनुभव की प्रकृति, महत्व और प्रभाव

    कृषि और जलवायु परिवर्तन

    मृदा कार्बोनेट अपक्षय का कृषि त्वरण

    पश्चिमी फिजी में चीनी की उपज की भविष्यवाणी करने के लिए औसत और चरम जलवायु सूचकांकों के उपयोग पर

    वैश्विक कृषि उत्सर्जन पर यूरोप में बढ़े हुए फल उत्पादन के प्रभाव का आकलन करना

    चीन में प्रमुख फसल की ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन की तीव्रता में वृद्धि: खाद्य सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन शमन के लिए निहितार्थ

    मल्टी-जीसीएम और मल्टी M आरसीएम चेन के कलाकारों की टुकड़ी का उपयोग करके आरसीपी परिदृश्यों के तहत कोरियाई प्रायद्वीप में जैपोनिका Pot प्रकार के चावल की जलवायु यील्ड संभावित

    अर्थशास्त्र और जलवायु परिवर्तन

    रूस के लिए कम कार्बन विकास विकल्प

    जलवायु लचीलापन के लिए व्यापार

    हमारे ग्लोबल वार्मिंग से निपटने वाले मनुष्य

    कार्बन युक्त जलवायु में कोयले का भविष्य (खुला उपयोग)

    भविष्य में तापमान के चरम सीमा से अधिक तनाव का नहीं बल्कि तेजी से विकसित होने का कारण है (खुला उपयोग)

    बढ़ती आबादी और बदलती जलवायु के तहत सामाजिक आर्थिक सूखा: एक क्षेत्रीय जल संसाधन प्रणाली की लचीलापन पर विचार करने वाला एक नया सूचकांक

    रूस में मानव थर्मल आराम की स्थिति के स्थानिक पैटर्न: वर्तमान जलवायु और रुझान

    चीन में जलवायु परिवर्तन और जनसंख्या स्वास्थ्य अनुसंधान: ज्ञान अंतराल और आगे की दिशा

    कार्बन प्रकटीकरण के चालक: चीन की स्थिरता योजनाओं के प्रमाण (खुला उपयोग)

    स्कूल दोपहर के भोजन के मेनू के कार्बन पदचिह्न स्पेनिश आहार संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करते हैं (खुला उपयोग)

    अन्य

    कैलिफोर्निया पर भविष्य की जलवायु के फीडबैक के साथ एयरबोर्न पार्टिकुलेट मैटर सांद्रता पर निम्न of कार्बन ऊर्जा अपनाने का प्रभाव

    सूचित राय और कुहनी मारना

    तेजी से संक्रमण का कारोबार

    बदलती दुनिया में झील की बर्फ की गतिशीलता को समझने के लिए दृष्टिकोण को एकीकृत करना

    जानबूझकर गिरावट: अध्ययन और डीकार्बोनाइजेशन के अभ्यास के लिए एक उभरती सीमा

    समुद्र के अम्लीकरण और b 2020 वैश्विक जैव विविधता ढांचे पर कार्रवाई के बीच तालमेल को बढ़ाना


    कानूनी रूप से "paywalled" लेख की प्रतियां प्राप्त करना

    हम जानते हैं कि यह निराशाजनक है कि हमारे द्वारा उद्धृत कई लेख पढ़ने के लिए स्वतंत्र नहीं हैं। एक बार भुगतान की जाने वाली एक्सेस फीस आमतौर पर खगोलीय रूप से निर्धारित की जाती है, जैसे कि इसके लिए उपयुक्त है "प्रकाश के उत्पादन और परिवर्तन के संबंध में एक अनुमानी बिंदु पर" लेकिन अज्ञात पर एक जुआ के रूप में नहीं। $ 9,3733 की औसत विश्व आय के साथ, हममें से अधिकांश के लिए यूएस $ 42 एक छोटे सीमांत लागत के खिलाफ दांव लगाने के लिए महत्वपूर्ण धन है।

    वैज्ञानिक तुला के अर्थशास्त्री किसी दिन वैज्ञानिक प्रकाशकों को उनके व्यावसायिक गतिविधियों के लिए विज्ञान लाने में मदद कर सकते हैं जैसा कि तर्कसंगत आ ला कार्टे लेख प्रकटीकरण शुल्क में परिलक्षित होता है। इस बीच, एक एकल लेख के अनावरण के लिए एक उद्देश्यपूर्ण और कुचलने वाले बड़े शुल्क का भुगतान करने की जानकारी के उपयोग की समानता के लिए कई संभावित रास्ते हैं:

    • Unpaywall Chrome के लिए एक ब्राउज़र एक्सटेंशन प्रदान करता है जो स्वचालित रूप से इंगित करता है कि कोई लेख स्वतंत्र रूप से सुलभ है और आगे की परेशानी के बिना तत्काल पहुंच प्रदान करता है। Unpaywall भी अनिश्चित है, अच्छी तरह से काम करता है, खुद को उपयोग करने के लिए स्वतंत्र है। आयोजक (एक वैध गैर-लाभकारी) 50% सफलता दर के बारे में रिपोर्ट करते हैं
    • यदि आप किसी लेख में रुचि रखते हैं और इसे "ओपन एक्सेस" के रूप में यहां सूचीबद्ध नहीं किया गया है, तो वैसे भी लिंक की जांच करना सुनिश्चित करें। समय की कमी के कारण खुली पहुंच वाले लेखों की पहचान हमारे द्वारा अपूर्ण मशीन विश्लेषण के माध्यम से की जाती है। अनपेवल आँकड़ों की तुलना में हम सफलतापूर्वक खुले पहुँच लेखों के लगभग 2 / 3rds की पहचान करते हैं। मैदान में निश्चित रूप से सोना बचा है।

    सुझाव

    कृपया हमें बताएं कि यदि आपको लगता है कि आप एक लेख से वाकिफ हैं, तो आपको लगता है कि स्केप्टिकल साइंस रिसर्च समाचार के लिए रुचि हो सकती है, या यदि हम कुछ ऐसा याद कर रहे हैं जो महत्वपूर्ण हो सकता है। स्केप्टिकल साइंस में अपना इनपुट हमारे माध्यम से भेजें हमें अवगत कराएँ.

    पत्रिकाओं ने कवर किया

    हमारे द्वारा कवर की जाने वाली पत्रिकाओं की एक सूची मिल सकती है यहाँ। हम चूककर्ताओं, नई पत्रिकाओं आदि की ओर संकेत करते हैं।

    पिछला संस्करण

    का पिछला संस्करण संशय विज्ञान नया शोध मिल सकता है यहाँ.

  10. यह एक है जेफ मास्टर्स द्वारा येल क्लाइमेट कनेक्शंस से फिर से पोस्ट

    वर्ष की पहली छमाही के दौरान अमेरिका में वाइल्डफायर ने औसत से बहुत कम जला दिया, लेकिन आने वाले महीनों में देश के अधिकांश हिस्सों में गर्म और शुष्क परिस्थितियों के कारण आग की गतिविधियों में तेजी आने की संभावना है।

    पिछली कक्षा का राष्ट्रीय इंटरैजेंसी फायर सेंटर, या NIFC, रिपोर्ट करता है कि जनवरी से जून तक लगभग 1.5 मिलियन एकड़ जल गया। यह 60-2010 के 2019 मिलियन एकड़ के औसत का 2.4% है और वर्ष में इस बिंदु से जलाए गए चौथे सबसे कम एकड़ के लिए एक आभासी टाई में 2020 डालता है। NIFC रिकॉर्ड 2000 तक वापस आता है।

    जुलाई में आने वाले जंगल के खतरे के लिए पीक सीजन के रूप में परेशानी अभी भी अपेक्षित है। जैसा कि संक्षेप में कार्बन संक्षिप्त तथा जलवायु संकेतहाल के दशकों में बड़ी आग की संख्या में महत्वपूर्ण वृद्धि हुई है और अमेरिका में प्रति वर्ष जलाए जाने वाले कुल क्षेत्र में पश्चिम में मानव-कारण जलवायु परिवर्तन को सीधे तौर पर सुखाने की स्थिति और वन अग्नि गतिविधि में वृद्धि से जोड़ा गया है। उसी समय जब जलवायु परिवर्तन आग जोखिम को बढ़ा रहा है, लोगों को ज्ञात आग-ग्रस्त क्षेत्रों (वाइल्डलैंड-शहरी इंटरफ़ेस) में रहने की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है, जिससे लोगों और संपत्ति के लिए खतरा बढ़ गया है।

    साल-दर-साल आग लग जाती हैचित्र 1. जनवरी-जून की अवधि के दौरान वर्ष 2000-2020 के लिए कुल यूएस एकड़ जंगल में जला दिया गया। (छवि क्रेडिट: एनओएए)

    एरिज़ोना ने जून में वाइल्डफायर से कड़ी टक्कर ली

    एरिज़ोना में, पश्चिम के बाकी हिस्सों के विपरीत, जून में राज्य के इतिहास में शीर्ष 10 सबसे बड़ी आग में से तीन आग लग गई। इसके अनुसार Inciweb, बुश फायर, जो तब शुरू हुआ जब एक वाहन में आग लगने से फीनिक्स के उत्तर-पश्चिम में पास के जंगलों में फैल गया, 193,000 जुलाई तक 3 एकड़ जल गया था, जिससे यह राज्य का पांचवा सबसे बड़ा शहर बन गया। रिकॉर्ड पर आग। उस आग को समाहित कर लिया गया है। वज्रपात बिघ्न अग्नि (78 जुलाई को शामिल 8%), टक्सन के उत्तर में स्थित, राज्य के इतिहास में आठवीं सबसे बड़ी आग, 119,000 एकड़ जल गई है। और ग्रांड कैन्यन के उत्तरी रिम के साथ जंगल में, मानव-कारण मैग्नम फायर (88 जुलाई को निहित July%) ने %१,४५० एकड़ को जला दिया है, इसे रिकॉर्ड में राज्य की दसवीं सबसे बड़ी आग होने के लिए एक आभासी टाई में डाल दिया है। उन सभी एरिज़ोना आग के लिए निकासी का आदेश दिया गया था।

    जून में एरिज़ोना में सामान्य रूप से एक बहुत सूखा महीना होता है, जिसमें 0.29 इंच की राज्यव्यापी औसत वर्षा होती है, लेकिन जून 2020 के दौरान, राज्य के अधिकांश हिस्सों में इसकी सामान्य वर्षा का 5% से कम प्राप्त हुआ। जुलाई के मध्य तक एरिज़ोना में आग के खतरे को कम करने की उम्मीद है, जब दक्षिण पश्चिम अमेरिकी मानसून की बारिश आम तौर पर बढ़ जाती है।

    आग का पूर्वानुमान चार्टचित्रा 2. जुलाई 2020 के माध्यम से जुलाई के लिए वाइल्डफेयर दृष्टिकोण, 1 जुलाई को अपडेट किए गए (छवि क्रेडिट: NIFC प्रिडिक्टिव सर्विसेज)

    पश्चिम में जुलाई, अगस्त और सितंबर में उच्च जंगल की आग के जोखिम का पूर्वानुमान

    जुलाई पश्चिमी अमेरिकी आग के मौसम का मूल शुरू होता है, और 1 जुलाई के मासिक दृष्टिकोण में, एनआईएफसी भविष्यवाणी जुलाई, अगस्त, और सितंबर में पश्चिम के ज्यादातर हिस्सों में आग की औसत क्षमता का विस्तार क्षेत्र: हाल के महीनों में तापमान औसत से नीचे औसत वर्षा के साथ ऊपर रहा है। इसके विपरीत, दक्षिण-पूर्व का अधिकांश भाग गीला हो चुका है, इसलिए उस क्षेत्र में औसत-औसत अग्नि क्षमता की भविष्यवाणी की जाती है।

    जून में धीरे-धीरे ग्रेट बेसिन और सेंट्रल रॉकी में विस्तार और विस्तार जारी रहा (चित्र 3)। उत्तरी रॉकीज़ ने दक्षिणी और पूर्वी मोंटाना और डकोटा में सूखे के विकास और विस्तार का अनुभव किया। इन सभी क्षेत्रों में गर्मी के बढ़ने के साथ-साथ वन्यजीवों के बढ़ते जोखिम की संभावना है।

    सूखा निगरानी चार्टचित्रा 3. यूएस ड्राई मॉनिटर उत्पाद के 30 जुलाई के रिलीज से 2020 जून, 2 को अमेरिका में सूखे की स्थिति। (छवि क्रेडिट: अमेरिकी सूखा मॉनिटर)

  11. वीक की कहानी ... ओपिनियन ऑफ द वीक ... टून ऑफ द वीक ... जल्द ही आ रहा है SkS ... पोस्टर ऑफ द वीक ... SkS वीक इन रिव्यू ...

    सप्ताह की कहानी ...

    राइजिंग सीज़ मेनस मिलियन्स बियॉन्ड शोरलाइन, स्टडी फ़ंड्स

    जैसा कि जलवायु परिवर्तन से समुद्र के स्तर में वृद्धि होती है, तूफान बढ़ता है और उच्च ज्वार अंतर्देशीय को आगे बढ़ाएगा, शोधकर्ताओं का एक दल कहता है।

    बांग्लादेश में बाढ़

    संयुक्त राज्य अमेरिका में वर्जीनिया और उत्तरी कैरोलिना और फ्रांस, जर्मनी, भारत और चीन के कुछ हिस्सों के साथ बांग्लादेश, ऊपर, विशेष रूप से जोखिम में है। साभार: मुनीर उज़ ज़मान / एजेंस फ्रांस-प्रेस - गेटी इमेजेज़

    जैसा कि ग्लोबल वार्मिंग दुनिया भर में समुद्र के स्तर को बढ़ाता है, वैज्ञानिकों ने लंबे समय से चेतावनी दी है कि कई निचले-तटीय इलाके स्थायी रूप से जलमग्न हो जाएंगे।

    परंतु एक नया अध्ययन गुरुवार को प्रकाशित हुआ यह पाता है कि इस सदी में समुद्र के स्तर में वृद्धि से आर्थिक नुकसान की अधिक संभावना है, जो एक और खतरे से आने की संभावना है जो तेजी से आगे बढ़ेगा: महासागरों में वृद्धि, शक्तिशाली तटीय तूफान, दुर्घटनाग्रस्त लहरें और अत्यधिक उच्च ज्वार, अंतर्देशीय दूर तक पहुंचने में सक्षम होंगे, समय-समय पर बाढ़ के खतरे में दुनिया भर में संपत्ति में लाखों लोगों के दसियों और अरबों डॉलर डालते हैं।

    साइंटिफिक रिपोर्ट्स में प्रकाशित इस अध्ययन में यह गणना की गई है कि आज रहने वाले 171 मिलियन लोगों को अत्यधिक उच्च ज्वार या तूफान से तटीय बाढ़ के कम से कम कुछ जोखिम का सामना करना पड़ता है, जब तूफान या अन्य तूफानों से तेज हवाएं समुद्र के पानी को ढकेलती हैं और धक्का देती हैं। यह ऑनशोर है। जबकि कई लोग वर्तमान में समुद्र की दीवारों या अन्य सुरक्षा से सुरक्षित हैं, जैसे कि नीदरलैंड में हर कोई नहीं है।

    अगर दुनिया के राष्ट्र ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन करते रहते हैं, और समुद्र का स्तर सिर्फ 1 से 2 फीट तक बढ़ जाता है, तो बाढ़ के जोखिम में तटीय भूमि की मात्रा में लगभग एक तिहाई की वृद्धि होगी। 2050 में, वर्तमान में तटों पर रहने वाले 204 मिलियन लोगों को बाढ़ के जोखिमों का सामना करना पड़ेगा। 2100 तक, यह RCP253 नामक एक मध्यम उत्सर्जन परिदृश्य के तहत 4.5 मिलियन लोगों तक पहुंच जाता है। (जोखिम में लोगों की वास्तविक संख्या भिन्न हो सकती है, क्योंकि शोधकर्ताओं ने भविष्य के तटीय जनसंख्या परिवर्तनों की भविष्यवाणी करने की कोशिश नहीं की थी।)

    यहां क्लिक करे मूल रूप से न्यूयॉर्क टाइम्स की वेबसाइट पर पोस्ट किए गए पूरे लेख तक पहुंचने के लिए।

    राइजिंग सीज़ मेनस मिलियन्स बियॉन्ड शोरलाइन, स्टडी फ़ंड्स ब्रैड प्लमर, जलवायु, न्यूयॉर्क टाइम्स, 30 जून, 2020 तक


    सप्ताह की राय ...

    यह अमेरिका के लिए जलवायु नेतृत्व का पुन: दावा करने का समय है। इसकी शुरुआत मतदान से होती है

    व्यक्तिगत प्रयास महत्वपूर्ण हैं, लेकिन हमें सामूहिक कार्रवाई और प्रणालीगत बदलाव की आवश्यकता है। और हम केवल मतपत्र पर ही प्राप्त कर सकते हैं

    जेन फोंडा प्रिटिंग

    जनवरी में वाशिंगटन में जलवायु संकट पर एक विरोध प्रदर्शन में जेन फोंडा। 'आपका वोट वर्षों तक गूंजता रहेगा।' फोटो: जोशुआ रॉबर्ट्स / रायटर

    इतनी सारी समस्याओं वाली दुनिया में, असहाय महसूस करना आसान है। और विशेष रूप से अभी कोविद -19 महामारी के बीच में, बिल्कुल अकेले। लेकिन जब हम सामाजिक गड़बड़ी का अभ्यास करते हैं, तब भी हमारे पास मानवता के सामने आने वाली सबसे बड़ी समस्या को हल करने के लिए एक साथ काम करने का अवसर होता है। नहीं, मैं कोरोनावायरस के बारे में बात नहीं कर रहा हूँ। मैं जलवायु परिवर्तन की बात कर रहा हूं।

    एक जलवायु वैज्ञानिक के रूप में, मुझसे अक्सर पूछा जाता है कि लोग जलवायु परिवर्तन के बारे में क्या कर सकते हैं, एक समस्या इतनी व्यापक और प्रभावकारी है कि वस्तुतः मानवता की शेष सभी समस्याएं इसके परिदृश्य पर चलती हैं। लेकिन कोई एक विशिष्ट उत्तर नहीं है, कोई जादू की गोली नहीं है। योगदान करने के लिए हर किसी के पास कुछ अलग होता है। और यही चुनौती है। हममें से प्रत्येक को यह पता होना चाहिए कि हम किस चीज के बारे में भावुक हैं, सक्षम और अच्छे हैं। और हम सभी को अपनी आवाज मिलनी चाहिए।

    एक जलवायु वैज्ञानिक के रूप में, मुझसे अक्सर पूछा जाता है कि लोग जलवायु परिवर्तन के बारे में क्या कर सकते हैं, एक समस्या इतनी व्यापक और प्रभावकारी है कि वस्तुतः मानवता की शेष सभी समस्याएं इसके परिदृश्य पर चलती हैं। लेकिन कोई एक विशिष्ट उत्तर नहीं है, कोई जादू की गोली नहीं है। योगदान करने के लिए हर किसी के पास कुछ अलग होता है। और यही चुनौती है। हममें से प्रत्येक को यह पता होना चाहिए कि हम किस चीज के बारे में भावुक हैं, सक्षम और अच्छे हैं। और हम सभी को अपनी आवाज मिलनी चाहिए।

    यहां क्लिक करे मूल रूप से TheGuardian वेबसाइट पर प्रकाशित संपूर्ण राय के टुकड़े को प्राप्त करने के लिए।

    यह अमेरिका के लिए जलवायु नेतृत्व का पुन: दावा करने का समय है। इसकी शुरुआत मतदान से होती है, ओपिनियन द्वारा माइकल मान, टिप्पणी नि: शुल्क है, अभिभावक, 29 जुलाई, 2020


    सप्ताह के तून ...

    2020 तून 31

    हैट टिप टू स्टॉप क्लाइमेट साइंस डेनियल फेसबुक पेज।


    जल्द ही आ रहा है SkS ...

    • हम परमाणु ऊर्जा के बारे में गलत बहस कर रहे हैं (करिन कर्क)
    • SkS और Fakebook.eco.br के बीच एक नई साझेदारी की घोषणा(Baerbel)
    • सप्ताह # 31 के लिए SkS न्यू रिसर्च (डग बोस्सोम)
    • वैज्ञानिकों ने वैश्विक सूखे पैटर्न पर नए 'मानव फिंगरप्रिंट' की खोज की (डेज़ी डन्ने)
    • क्या फ्यूजन पावर जलवायु परिवर्तन को हल करेगा? (जलवायु एडम)
    • 2020 SkS साप्ताहिक जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग समाचार राउंडअप # 32 (जॉन हर्ट्ज)
    • 2020 SkS साप्ताहिक जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग डाइजेस्ट # 32 (जॉन हर्ट्ज)

    वीक का पोस्टर ...

    2020 पोस्टर 31


    समीक्षा में SkS वीक ...


  12. पिछले एक सप्ताह के दौरान स्केप्टिकल साइंस फेसबुक पेज पर जुड़े समाचार लेखों की कालानुक्रमिक सूची: सूर्य, 26 जुलाई सत, अगस्त 1, 2020 के माध्यम से

    संपादकों की पसंद

    चार प्रकार के जलवायु डेनियर, और आपको उन सभी को अनदेखा क्यों करना चाहिए

    शिल, ग्रिफ्टर, इगोमैनियाक एंड आइडियललॉजिकल मूर्ख: प्रत्येक अपने तरीके से तत्काल वैश्विक बहस को विकृत करता है

    फ्रेंच आल्प्स में मेर डी ग्लेशियर

    'जलवायु संकट के बारे में गंभीर बहस करने के लिए गंभीर कार्रवाई में बदल रहे हैं। इनकार करने वालों के पास इसमें योगदान करने के लिए कुछ नहीं है। ' फ्रेंच आल्प्स में मेर डी ग्लेशियर ग्लेशियर पर ग्लोबल वार्मिंग के संकेत। फोटो: कोनराड के / सिपा / आरईएक्स / शटरस्टॉक

    "गहराई से और मोटे तौर पर त्रुटिपूर्ण"एक विशेषज्ञ समीक्षक द्वारा, हाल ही में पर्यावरण विज्ञान के लिए अमेज़ॅन की बेस्टसेलर सूची में शीर्ष पर पहुंच गया और इसे सभी गैर-शीर्षक खिताबों के लिए साप्ताहिक शीर्ष 10 सूची में बना दिया।

    ये कैसे हुआ? क्योंकि, जैसा कि ब्रेंडन बेहान ने कहा, "बुरी प्रचार जैसी कोई चीज नहीं है"। अपनी पुस्तक, माइकल शेलेंबर्गर को बढ़ावा देने वाले एक लेख में - जबड़े छोड़ने वाले पति के साथ - सभी पर्यावरणविदों की ओर से क्षमायाचना "पिछले 30 वर्षों में बनी जलवायु के डर से"।

    शेलनबर्गर को 2008 में टाइम पत्रिका द्वारा पर्यावरण का एक नायक नामित किया गया था और वह परमाणु शक्ति के एक बड़े समर्थक हैं, लेकिन लेख छह प्रमुख वैज्ञानिकों द्वारा वर्णित "चेरी-पिकिंग", "भ्रामक" और "बिल्कुल झूठ" के रूप में।

    इस लेख को व्यापक रूप से पुनर्प्रकाशित किया गया था, अपने पहले घर से हटा दिए जाने के बाद भी, आत्म-प्रचार पर शीर्षक के संपादकीय दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने के लिए, फोर्ब्स ने तूफान में और अधिक गर्मी जोड़ दी। और यही कारण है कि जलवायु आपातकाल की वास्तविकता या खतरे से इनकार करने वाले सभी लोगों को नजरअंदाज किया जाना चाहिए। जाहिर है, मैंने यहां अपना खुद का नियम तोड़ा है, लेकिन केवल इस महत्वपूर्ण बिंदु को एक बार और सभी के लिए बनाने के लिए।

    विज्ञान स्पष्ट है, हर जगह उच्चतम स्तरों पर गंभीरता को समझा जाता है, और इस बात पर गंभीर बहस होती है कि क्या करना है, जो कार्रवाई में बदल रहा है। इनकार करने वालों के पास इसमें योगदान करने के लिए कुछ भी नहीं है।

    यहां क्लिक करे मूल रूप से द गार्जियन वेबसाइट पर पोस्ट किए गए संपूर्ण राय टुकड़े तक पहुंचने के लिए।

    चार प्रकार के जलवायु डेनियर, और आपको उन सभी को अनदेखा क्यों करना चाहिए, ओपिनियन बाय डेमियन कैरिंगटन, कमेंट फ्री, गार्जियन, 31 जुलाई, 2020


    लेख फेसबुक पर जुड़े

    रवि, ​​जुलाई 26, 2020

    सोम, जुलाई 27, 2020

    ट्यू, जुलाई 28, 2020

    बुध, जुलाई 29, 2020

    थू, जुलाई 30, 2020

    शुक्र, जुलाई 31, 2020

    शनि, 1 अगस्त, 2020

  13. जैसे ही बहुत सारी अच्छी चीजें सामने आती हैं (जैसा कि कहा जाता है), हम स्केप्टिकल साइंस और अन्य वेबसाइटों के बीच तीसरी साझेदारी की घोषणा करते हुए खुश हैं। ब्राजील में Fakebook.eco जुड़ रहा है जर्मनी में Klimafakten.de तथा पोलैंड में नाका ओ क्लिमेसी अनूदित खंडन सामग्री का लाभ उठाने के लिए और सूचना को अंग्रेजी के अलावा अन्य भाषाओं में आसानी से उपलब्ध कराने और एक विशिष्ट क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित करने के लिए।

    FakebookEco

    यहाँ है Fakebook.Ecoहमारी नई साझेदारी की घोषणा करते हुए अंग्रेजी प्रेस विज्ञप्ति:

    जलवायु विकृतीकरण के खिलाफ दुनिया का प्रमुख वेब संसाधन और पर्यावरण विघटन से लड़ने के लिए ब्राजील का पहला ऑन-लाइन मंच शामिल हो गया है। स्केप्टिकल साइंस का नया कंटेंट पार्टनर है Fakebook.eco, ब्राजील की वेबसाइट पर अपनी पुर्तगाली सामग्री उपलब्ध कराने पर सहमत हुए।

    जॉर्ज मेसन विश्वविद्यालय में एक शोध सहायक प्रोफेसर ऑस्ट्रेलियाई संज्ञानात्मक वैज्ञानिक जॉन कुक द्वारा स्केप्टिकल साइंस बनाया गया था, जो जलवायु विज्ञान के संचार को जनता में सुधारने और जलवायु इनकार से लड़ने के प्रयास के रूप में था। यह जलवायु परिवर्तन के बारे में सबसे आम पतन, गलतफहमी और मिथकों के खंडन का एक विशाल सेट प्रदर्शित करता है, गहराई से तीन स्तरों में - मूल से उन्नत तक। यह एक द्वारा चलाया जाता है स्वयंसेवकों का वैश्विक नेटवर्क और स्वयंसेवक अनुवादक और इसमें उपलब्ध सामग्री है 23 भाषाएं - समेत पुर्तगाली.

    Fakebook.eco ब्राजील के जलवायु वकालत नेटवर्क के नेतृत्व में जलवायु कार्यकर्ताओं, पत्रकारों और वैज्ञानिकों के बीच एक सहयोग है ऑब्जर्वेटारियो डो क्लिमा, पांच विज्ञान और पर्यावरण समाचार पोर्टल और ब्लॉग के समर्थन के साथ। यह कई पर्यावरणीय मुद्दों और सार्वजनिक प्रवचन में पर्यावरण संबंधी जानकारी की वास्तविक समय-जांच के बारे में लगातार गिरावट का खंडन प्रदान करता है।

    “मैं एक साथी के रूप में स्केप्टिकल साइंस के लिए रोमांचित हूं। स्थापना के समय से, यह Fakebook.eco के लिए एक बड़ी प्रेरणा रही है, और उनकी सामग्री को हमें दूसरे स्तर तक ले जाएगी ”, फेकबुक एंजेलो के संस्थापक और वरिष्ठ सहयोगी, क्लाउडियो एंजेलो कहते हैं।

    अपनी वेबसाइट पर एसकेएस से पुर्तगाली खंडन संस्करणों को शामिल करते हुए फेकबुक.सेको टीम अपने ब्राजीलियाई पाठकों के लिए अधिक लागू करने या नए शोध निष्कर्षों को शामिल करने के लिए रीबूटल सामग्री के लिए आवश्यक के रूप में जुड़वाएं लागू करेगी। उत्तरार्द्ध मामले में हम अपडेट किए गए अपडेट के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे और बदले में उनका उपयोग मूल रिबूटल संस्करणों (और उनके अनुवादों) को अपडेट करने के लिए कर सकते हैं - एक वास्तविक जीत-जीत की स्थिति!

    आप हमारे पुर्तगाली अनुवादों के संदर्भों को Fakebook.eco पर अपने समकक्षों से देखना शुरू कर देंगे। ये रेफरल वेबसाइट के लोगो के साथ एक हरे रंग का बॉक्स और खंडन के लिंक को दिखाएगा। यह बॉक्स "रिबूटल स्टब्स" पर भी शामिल हो सकता है जहाँ पुर्तगाली पाठ केवल फेकबुक.को पर मौजूद है - कुछ ऐसा जो हम पर किया गया है अवसर जर्मन अनुवाद के लिए Klimafakten.de का जिक्र है।

    एस्टे डिगो ताम्बे पोदे सी एन्कंट्रादो नो फेकबुक.को:
    FakebookEcoBr का लोगो

    एक तथ्य-जाँच वेबसाइट से दूसरे में, हम अपने नए साथी वेबसाइट की कामना करते हैं Fakebook.eco और टीम ने इसे एक अच्छी शुरुआत और जंगल की अपनी गर्दन में जलवायु विज्ञान की गलत लड़ाई से लड़ने के लिए शुभकामनाएं दीं!

  14. अनुसंधान स्टैक86 लेख

    ग्लोबल वार्मिंग और प्रभावों का भौतिक विज्ञान

    सबूत की कई लाइनों का उपयोग करके पृथ्वी की जलवायु संवेदनशीलता का आकलन

    आर्कटिक महाद्वीपीय मार्जिन तलछट संभव Fe और Mn स्रोतों के रूप में समुद्री जल के लिए समुद्री बर्फ पीछे हटता है: यूरेशियन मार्जिन से अंतर्दृष्टि

    ग्लोबल वार्मिंग और प्रभाव के अवलोकन और अवलोकन के तरीके

    क्रिटिकल तापमान संक्रमण के लिए प्रारंभिक als चेतावनी संकेत

    पीली नदी के अपवाह और तलछट लोड के हाल के मानवजनित क्यूरेटिंग पिछले 500 y पर अभूतपूर्व है (खुला उपयोग)

    पश्चिमी हिमालयी नदियों के चरम प्रवाह में खड़ी वृद्धि के लिए देखे गए साक्ष्य

    एएमओसी में परिवर्तन का शीघ्र पता लगाने के लिए फ़िंगरप्रिंट (खुला उपयोग)

    अलास्का आर्कटिक टुंड्रा में बायोजेनिक वाष्पशील कार्बनिक यौगिक परिवेश मिश्रण अनुपात और उत्सर्जन दर (खुला उपयोग)

    दक्षिण-पूर्व तिब्बत में उपग्रह-देखे जाने वाले मासिक हिमनद और बर्फ में बड़े बदलाव: ब्रह्मपुत्र में पर्याप्त पिघले पानी के योगदान के लिए निहितार्थ (खुला उपयोग)

    इष्टतम फिंगरप्रिंटिंग में अनिश्चितता आकलन के तरीकों की तुलना करना

    बाद की गर्मियों में भारत-चीन प्रायद्वीप पर स्प्रिंग सॉइल मॉइस्चर के प्रभाव में इंटरडेकल परिवर्तन यांग्त्ज़ी नदी के बेसिन पर हुआ

    1957-2018 के दौरान चीन में विभिन्न भूमि भूतल स्थितियों पर मिश्रित गर्म और शुष्क चरम सीमाओं का परिवर्तन

    पूरे अफ्रीका में जलवायु मजबूर करने के सामंजस्यपूर्ण अवलोकन: मौजूदा दृष्टिकोणों और उनकी प्रयोज्यता का आकलन

    ग्लोबल वार्मिंग का इंस्ट्रूमेंटेशन

    IASI डेटा से स्पष्ट रूप से हल किए गए फ्लक्स: क्लीयर-स्काई माप के लिए पुनर्प्राप्ति एल्गोरिथम (खुला उपयोग)

    ग्लोबल वार्मिंग और ग्लोबल वार्मिंग प्रभावों की मॉडलिंग और अनुकरण

    ग्रीनहाउस गैसों और एरोसोल के लिए सतह शॉर्टवेव क्लाउड विकिरण प्रभाव की प्रतिक्रिया और गर्मियों में अधिकतम तापमान पर इसका प्रभाव (खुला उपयोग)

    LGM जलवायु बल और महासागर की गतिशील प्रतिक्रिया और जलवायु संवेदनशीलता के आकलन के लिए उनके निहितार्थ (खुला उपयोग)

    CMIP6 मल्टी-मॉडल अध्ययन में वर्तमान एयरोसोल्स से पूर्व-औद्योगिक जलवायु पर तेजी से प्रतिक्रियाएं (खुला उपयोग)

    2 वीं और 2 वीं शताब्दी के दौरान सामुदायिक पृथ्वी प्रणाली मॉडल संस्करण 20 (CESM21) के दो विन्यासों में आर्कटिक सागर की बर्फ

    पाश्चात्य बदलाव और पर्यावरणीय परिस्थितियों के भविष्य के अनुमानों में पश्चिमी अमेरिकी समरटाइम जंगल की आग वाले क्षेत्र को चलाते हैं (खुला उपयोग)

    भविष्य के पर्यायवाची परिसंचरण पैटर्न में परिवर्तन: चरम घटना के लिए परिणाम

    एक पृथ्वी प्रणाली मॉडल में क्लाउड लॉकिंग का उपयोग करके आर्कटिक सतह वार्मिंग पर क्लाउड विकिरण संबंधी प्रतिक्रियाओं के प्रभाव को बढ़ाता है

    जलवायु परिवर्तन में अतिवृष्टि की वर्षा के लंबवत वेगों की प्रतिक्रिया

    अनुमानित वर्षा और वायुमंडलीय थर्मोडायनामिक परिवर्तनों के बीच संबंध

    एंथ्रोपोजेनिक जलवायु परिवर्तन के संभावित प्रभावों के कारण दक्षिण ब्राज़ील में ऊँचाई बढ़ गई है (खुला उपयोग)

    CO 2-ऊष्मा स्रोत ऊष्मा स्रोत परिवर्तन तिब्बती पठार पर बोरियल गर्मियों में भाग II: CO 2 प्रत्यक्ष विकिरण और समान समुद्री सतह वार्मिंग के प्रभाव

    जलवायु मॉडल उन्नति

    एक विकृत पैरामीटर पहनावा में जलवायु प्रतिक्रिया पर प्रदर्शन फ़िल्टरिंग का प्रभाव (खुला उपयोग)

    उत्तर-पश्चिमी उत्तर अटलांटिक महासागर में क्षेत्रीय डाउनस्कूलिंग के लिए ऐतिहासिक अर्थ सिस्टम मॉडल सिमुलेशन का अवलोकन-आधारित मूल्यांकन और रैंकिंग (खुला उपयोग)

    सेब और संतरे ': सतह के तापमान परिवर्तन के पास सिम्युलेटेड ऐतिहासिक की तुलना अवलोकन के साथ करते हैं

    सीएमआईपी 5 और सीएमआईपी 6 मॉडल द्वारा दिखाए गए वैश्विक सतह वर्षा विसंगति के इंटरडेकाडल और इंटरनैशनल विकास विशेषताओं

    स्ट्रैटोस्फेरिक कूलिंग के कारण एडवेक्टिव ब्रेवर circulation डॉबसन सर्कुलेशन का ओवरएस्टिमेटेड त्वरण

    कार्पेथियन क्षेत्र के लिए RegCM4.5 मॉडल के विभिन्न सेटअपों का संवेदनशीलता विश्लेषण

    क्रायोस्फीयर और जलवायु परिवर्तन

    क्लाउडसैट टिप्पणियों और सामुदायिक पृथ्वी प्रणाली मॉडल से वर्तमान-दिन और भविष्य की ग्रीनलैंड आइस शीट वर्षा की आवृत्ति (खुला उपयोग)

    तीसरी मरीन आइस शीट मॉडल इंटरकंपेरिसन परियोजना (MISMIP +) के परिणाम (खुला उपयोग)

    वायुमंडलीय बर्फ सामग्री द्रव्यमान का अनुमान, स्थानिक वितरण और ERA5 reanalysis के आधार पर दीर्घकालिक परिवर्तन

    मिड Re होलोसीन ग्राउंडिंग लाइन रिट्रीट और री at व्हिलंस आइस स्ट्रीम, पश्चिम अंटार्कटिका में अग्रिम

    जीवविज्ञान और ग्लोबल वार्मिंग

    उपवास के मौसम की लंबाई वैश्विक ध्रुवीय भालू दृढ़ता के लिए अस्थायी सीमा निर्धारित करती है

    एंथ्रोपोजेनिक तनाव थायरॉयड व्यवधान के माध्यम से मछली संवेदी विकास और अस्तित्व को प्रभावित करते हैं (खुला उपयोग)

    चार दशकों में 73 बोरियल पक्षी प्रजातियों के प्रजनन के समय और अवधि में बदलाव (खुला उपयोग)

    वैश्विक पवन पैटर्न और जलवायु परिवर्तन के लिए हवा में फैलने वाली प्रजातियों की भेद्यता

    एक एपिफाइटिक ब्रायोफाइट का संभावित वितरण जलवायु और वन निरंतरता पर निर्भर करता है

    साइट की स्थिति माध्यमिक विकास और जलवायु संवेदनशीलता के मॉड्यूलेशन पर आनुवांशिक भेदभाव की तुलना में अधिक नियंत्रण रखती है पीनस पिनस्टर

    गैर-‐ जलवायु परिवर्तन के जवाब में अंतर-अंतर्क्रियाओं में रैखिकता: एक उदाहरण के रूप में कॉड और हैडॉक

    लैंडस्केप प्रतिरोध देशी मछली की प्रजातियों के वितरण बदलाव और नदियों में जलवायु परिवर्तन की चपेट में आता है

    सैद्धांतिक मॉडल के साथ वैश्विक निगरानी भूमि-वायुमंडल विनिमय के आधार पर सीओ 2 निषेचन प्रभाव का जिक्र

    GHG स्रोत और सिंक, प्रवाह

    ठंड में पहेलियों: अंटार्कटिक एंडेमिज्म और माइक्रोबियल उत्तराधिकार का प्रभाव दक्षिणी महासागर में मीथेन साइकिलिंग पर पड़ता है

    संयुक्त राज्य अमेरिका में घरेलू ऊर्जा का कार्बन फुटप्रिंट उपयोग करता है (खुला उपयोग)

    अग्रेसिव एमिशन मिटिगेशन के तहत ओशन कार्बन अपटेक (खुला उपयोग)

    ऑस्ट्रेलिया में मिट्टी कार्बन डायनेमिक्स का एक फ्रेमवर्क के तहत अनुकरण जो बेहतर रूप से स्पष्ट डेटा को R carbon C से जोड़ता है (खुला उपयोग)

    ऑर्बिटिंग कार्बन ऑब्जर्वेटरी -2 के साथ चीन के शहरों और औद्योगिक क्षेत्रों में कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन का अवलोकन (खुला उपयोग)

    कार्बन अब्जर्वेटरी -2 की परिक्रमा की संभावना, ऑस्ट्रेलिया में सतह पर होने वाली अनिश्चितताओं को कम करने के लिए एक वैरिएबल असेंबलिंग स्कीम का उपयोग करके। (खुला उपयोग)

    एन्थ्रोपोजेनिक नाइट्रोजन coastal उत्पादक तटीय वातावरण में मौसमी कार्बोनेट गतिकी में परिवर्तन को प्रेरित करता है

    मीठे पानी के पारिस्थितिक तंत्र के CO2 is समतुल्य संतुलन गैर related रैखिक रूप से उत्पादकता से संबंधित है

    शुद्ध पारफ्रोस्ट पिघलना का दशक शुद्ध कार्बन संतुलन को प्रभावित किए बिना युवा कार्बन के कारोबार को कम करता है और पुराने कार्बन के नुकसान को बढ़ाता है

    एक उष्णकटिबंधीय सवाना का शुद्ध परिदृश्य कार्बन संतुलन: स्थलीय उत्पादन ऑफसेट करने में आग और जलीय निर्यात के सापेक्ष महत्व

    अफ्रीका के स्थलीय कार्बन चक्र पर दो भूमि hydro सतह जल विज्ञान योजनाओं का प्रभाव: एक क्षेत्रीय जलवायु मॉडल अध्ययन

    एंथ्रोपोजेनिक मीथेन उत्सर्जन बढ़ने से कृषि और जीवाश्म ईंधन स्रोतों से समान रूप से उत्पन्न होता है

    मिस्र में उत्तरी नील डेल्टा के क्षेत्र में मिट्टी कार्बनिक कार्बन स्टॉक के वितरण पर भूमि उपयोग और खेती इतिहास का प्रभाव (खुला उपयोग)

    CO2 शमन विज्ञान और इंजीनियरिंग

    कार्बन कैप्चर और स्टोरेज (BECCS) के साथ बायोमास के लिए मॉडलिंग की धारणाओं में एक गहरा गोता: एक पारदर्शिता अभ्यास

    भू-आकृतिक जलवायु

    वायुमंडलीय चूक दर परिवर्तनों की निर्भरता सौर विकिरण प्रबंधन जलवायु परिदृश्यों में अवशिष्ट ध्रुवीय वार्मिंग पर हावी है

    काला कोयला

    मापन रिपोर्ट: उत्तर चीन के मैदान में उत्सर्जन में कमी की पृष्ठभूमि के तहत स्रोतों और काले कार्बन एरोसोल के मिश्रण की स्थिति: विकिरण प्रभाव के लिए निहितार्थ (खुला उपयोग)

    जलवायु परिवर्तन संचार और अनुभूति

    व्यक्तिगत और स्थानीय बाढ़ के अनुभव, व्यक्तिपरक अटेंशन और जलवायु परिवर्तन की चिंता से अलग हैं

    कृषि और जलवायु परिवर्तन

    मृदा और भूजल लवणीकरण पर वर्षा संरचना और जलवायु परिवर्तन का प्रभाव

    कृषि उत्पादन पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव: चीन में क्षेत्रीय और क्षेत्रीय आर्थिक परिणाम (खुला उपयोग)

    फेनॉल उप-उष्णकटिबंधीय वातावरण में एक्वाक्रॉप-राइस के उपयोग से विभिन्न चावल जीनोटाइप के फेनोलॉजी, विकास और जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का अनुकरण

    फ़सलों और फ़सलों में बड़ी ज़ोनल और टेम्पोरल पारियां फ़िनलैंड में मौसम के बढ़ने के साथ मेल खाती हैं (खुला उपयोग)

    सिंचाई और हाइड्रोमेटोरोरोलॉजिकल चरम (खुला उपयोग)

    जलवायु परिवर्तन का अर्थशास्त्र

    कार्बन की अंतिम लागत (खुला उपयोग)

    सीओ 2 उत्सर्जन, आर्थिक विकास, नवीकरणीय और गैर-नवीकरणीय ऊर्जा और सेवा विकास के बीच अन्योन्याश्रय: 65 देशों के साक्ष्य

    जलवायु परिवर्तन के वित्तपोषण अनुकूलन के लिए समर्पित बहुपक्षीय निधियों में परिवर्तनकारी परिवर्तन का विकास (खुला उपयोग)

    अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के माध्यम से वैश्विक भूख और जलवायु परिवर्तन अनुकूलन (खुला उपयोग)

    यूएस गल्फ कोस्ट क्षेत्र में चरम मौसम से आर्थिक नुकसान: जलवायु खतरे और सामाजिक आर्थिक जोखिम और भेद्यता का स्थानिक रूप से अंतर योगदान

    कोयला या किक-स्टार्ट ग्रीन इनोवेशन खरीदें? एक खुली अर्थव्यवस्था में ऊर्जा नीतियां (खुला उपयोग)

    हमारे ग्लोबल वार्मिंग से निपटने वाले मनुष्य

    सेंटर-ईस्ट, बुर्किना फासो में घरेलू जल सुरक्षा के लिए जलवायु संबंधी जोखिमों के लिए महिलाओं की भेद्यता (खुला उपयोग)

    2050 तक बंदरगाहों की मांग: जलवायु नीति, बढ़ता व्यापार और समुद्री। स्तर में वृद्धि के प्रभाव (खुला उपयोग)

    शहरी जलवायु जागरूकता और अनुकूलन की तत्परता: एक अंतरराष्ट्रीय अवलोकन

    जलवायु और गैर-जलवायु परिवर्तनों के तहत तटीय मीठे पानी की आपूर्ति और मांग प्रणाली के लिए अनुकूलन विकल्पों की पहचान करना और प्राथमिकता देना

    आरसीपी परिदृश्यों के तहत जल संसाधनों पर जलवायु परिवर्तन प्रभाव का आकलन: मुंडाऊ नदी बेसिन, पूर्वोत्तर ब्राजील में एक केस अध्ययन

    अंतरराष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन शासन में भवन निर्माण प्राधिकरण और वैधता: राज्यपालों की जलवायु और वन कार्य बल से साक्ष्य

    सांस्कृतिक रूप से संवेदनशील सीमा कार्य: ज्ञान को जलवायु क्रिया से जोड़ने की एक रूपरेखा

    मेडागास्कर में जलवायु शमन के लिए विकल्पों का एक क्रॉस-सेक्टोरल एकीकृत मूल्यांकन (खुला उपयोग)

    अन्य

    समकालीन क्षेत्रीय सागर की समझ Change स्तर परिवर्तन और भविष्य के लिए निहितार्थ

    नॉर्डिक फेनोस्कैंडिया में वन संरचनात्मक परिवर्तन के लिए क्षेत्रीय सतह ऊर्जा प्रतिक्रियाओं की मात्रा

    रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा आयोजित एक गर्म दुनिया में चरम मौसम की घटनाओं पर एक कार्यशाला का सारांश (खुला उपयोग)

    पीडीओ PD जलवायु और पीडीओ Relations सामन संबंधों में परिवर्तन के माध्यम से एक उपन्यास जलवायु की मात्रा

    जलवायु परिवर्तन के आकलन के लिए एक उपन्यास विधि इकोट्रॉन प्रयोगों में प्रभाव डालती है (खुला उपयोग)

    मीथेन उत्सर्जन एक उपोष्णकटिबंधीय एस्टुरीन मैंग्रोव वेटलैंड के विकिरण शीतलन प्रभाव को आधे से कम कर देता है

    ERA5 RA HEAT: जलवायु रिअनलिसिस से मानव थर्मल आराम सूचकांकों का एक वैश्विक ग्रिड वाला ऐतिहासिक डेटासेट (खुला उपयोग)

    उच्च आर्कटिक में गर्म तापमान के चरम पर लौटने के मूल्यों के लिए एक स्थानिक मॉडल

    सूचित राय और कुहनी मारना

    कार्बन की अंतिम लागत (खुला उपयोग)

    मानवता के लिए अस्तित्व के जोखिम को अंतर्राष्ट्रीय नीति निर्माताओं को चिंतित करना चाहिए और अंतर्राष्ट्रीय प्रशासन स्तर पर उन्हें ध्यान में रखते हुए और अधिक किया जा सकता है।

    शांत विपक्ष: कैसे अर्थव्यवस्था समर्थक लॉबी जलवायु नीति को प्रभावित करती है


    कानूनी रूप से "paywalled" लेख की प्रतियां प्राप्त करना

    हम जानते हैं कि यह निराशाजनक है कि हमारे द्वारा उद्धृत कई लेख पढ़ने के लिए स्वतंत्र नहीं हैं। एक बार भुगतान की जाने वाली एक्सेस फीस आमतौर पर खगोलीय रूप से निर्धारित की जाती है, जैसे कि इसके लिए उपयुक्त है "प्रकाश के उत्पादन और परिवर्तन के संबंध में एक अनुमानी बिंदु पर" लेकिन अज्ञात पर एक जुआ के रूप में नहीं। $ 9,3733 की औसत विश्व आय के साथ, हममें से अधिकांश के लिए यूएस $ 42 एक छोटे सीमांत लागत के खिलाफ दांव लगाने के लिए महत्वपूर्ण धन है।

    वैज्ञानिक तुला के अर्थशास्त्री किसी दिन वैज्ञानिक प्रकाशकों को उनके व्यावसायिक गतिविधियों के लिए विज्ञान लाने में मदद कर सकते हैं जैसा कि तर्कसंगत आ ला कार्टे लेख प्रकटीकरण शुल्क में परिलक्षित होता है। इस बीच, एक एकल लेख के अनावरण के लिए एक उद्देश्यपूर्ण और कुचलने वाले बड़े शुल्क का भुगतान करने की जानकारी के उपयोग की समानता के लिए कई संभावित रास्ते हैं:

    • Unpaywall Chrome के लिए एक ब्राउज़र एक्सटेंशन प्रदान करता है जो स्वचालित रूप से इंगित करता है कि कोई लेख स्वतंत्र रूप से सुलभ है और आगे की परेशानी के बिना तत्काल पहुंच प्रदान करता है। Unpaywall भी अनिश्चित है, अच्छी तरह से काम करता है, खुद को उपयोग करने के लिए स्वतंत्र है। आयोजक (एक वैध गैर-लाभकारी) 50% सफलता दर के बारे में रिपोर्ट करते हैं
    • यदि आप किसी लेख में रुचि रखते हैं और इसे "ओपन एक्सेस" के रूप में यहां सूचीबद्ध नहीं किया गया है, तो वैसे भी लिंक की जांच करना सुनिश्चित करें। समय की कमी के कारण खुली पहुंच वाले लेखों की पहचान हमारे द्वारा अपूर्ण मशीन विश्लेषण के माध्यम से की जाती है। अनपेवल आँकड़ों की तुलना में हम सफलतापूर्वक खुले पहुँच लेखों के लगभग 2 / 3rds की पहचान करते हैं। मैदान में निश्चित रूप से सोना बचा है।

    सुझाव

    कृपया हमें बताएं कि यदि आपको लगता है कि आप एक लेख से वाकिफ हैं, तो आपको लगता है कि स्केप्टिकल साइंस रिसर्च समाचार के लिए रुचि हो सकती है, या यदि हम कुछ ऐसा याद कर रहे हैं जो महत्वपूर्ण हो सकता है। स्केप्टिकल साइंस में अपना इनपुट हमारे माध्यम से भेजें हमें अवगत कराएँ.

    पत्रिकाओं ने कवर किया

    हमारे द्वारा कवर की जाने वाली पत्रिकाओं की एक सूची मिल सकती है यहाँ। हम चूककर्ताओं, नई पत्रिकाओं आदि की ओर संकेत करते हैं।

    पिछला संस्करण

    का पिछला संस्करण संशय विज्ञान नया शोध मिल सकता है यहाँ.

  15. यह एक है पीटर ग्लीक द्वारा येल क्लाइमेट कनेक्शंस से फिर से पोस्ट

    सोचिए, अगर आप "रोमियो और जूलियट" में मोंटेग्यूस और Capulets के बीच के झगड़े की इच्छा करेंगे। या 1863-1891 क्लासिक अमेरिकी झगड़े के बीच हैटफील्ड्स और मैककॉयस के बीच, पश्चिम वर्जीनिया और केंटकी में परिवारों की लड़ाई।

    पर्यावरण विज्ञान, जनसंख्या, संसाधन गतिशीलता और पारिस्थितिकी से जुड़े दशकों पुराने तनावों में, यह माल्थुसियन और कॉर्निशियन हैं। अंग्रेजी अर्थशास्त्री थॉमस माल्थस की बुद्धिमत्ता का समर्थन करते हुए, माल्थूसियन चिंता व्यक्त करते हैं कि घातीय मानव जनसंख्या वृद्धि और आर्थिक मांग लोगों के समर्थन के लिए वैश्विक संसाधनों से आगे निकल जाएगी, दीर्घकालिक स्थिरता को कम करके। कॉर्नुकोपियन, इसके विपरीत - ग्रीक पौराणिक कथाओं के कॉर्नुकोपिया या "बहुत सारे के सींग" के लिए अपने सिर के साथ - तकनीकी प्रगति सामाजिक आवश्यकताओं को बनाए रख सकती है और यह कि अनबिके आर्थिक विकास और बढ़ी हुई जनसंख्या सकारात्मक है, और अधिक विचारों को जन्म देती है।

    समीक्षा

    माल्थुसियन और कॉर्नुकोपियन के बीच ऐतिहासिक तनाव और बौद्धिक बहस अब दो शताब्दियों से अधिक पुरानी है और विकसित हुई है। हाल के वर्षों में, मानव-कारण जलवायु परिवर्तन, वनों की कटाई और प्रजातियों के विलुप्त होने, जनसंख्या के दबाव और नए और बिगड़ते सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरों जैसे महत्वपूर्ण वैश्विक संकटों के बारे में सार्वजनिक बातचीत ने जोरदार, कठोर और तेजी से वैचारिक विकास किया है। जैसे-जैसे विज्ञान में सुधार हुआ है, इन समस्याओं के बीच गहरी जटिलता और कनेक्शन भी अधिक स्पष्ट हो गए हैं, क्योंकि स्थानीय, राष्ट्रीय और वैश्विक कार्यों के माध्यम से उन्हें संबोधित करने के लिए तत्काल कॉल हैं।

    इस बहस में हालिया प्रविष्टि माइकल शेलनबर्गर की "एपोकैलिप्स नेवर: व्हे एनवायरनमेंटल अलार्मिज्म हर्ट्स अस ऑल" (हार्पर कॉलिन्स पब्लिशर्स, 2020) है। शेलेंबर्गर ने अपने परिचय में बताया कि वह लंबित माल्थुसियन तबाही के तर्कहीन, अधकचरे तर्कों पर पलटवार करने और खारिज करने का प्रयास करता है; इसके बजाय, वह कॉर्नुकॉपियन दृष्टिकोण को बढ़ावा देना चाहता है कि अगर हम आक्रामक आर्थिक विकास, सरल तकनीकी विकास और प्रचुर प्राकृतिक संसाधनों के दोहन को बढ़ाएंगे तो पर्यावरणीय समस्याओं को समाप्त किया जा सकता है। ऐसा करने में, वह हरमन कहन, जूलियन साइमन और ब्योर्न लोम्बर्ग जैसे लेखकों के पिछले प्रयासों को गूँजता है।

    जलवायु नियंत्रण 'आउट ऑफ कंट्रोल'

    शेलेंबर्गर एक पर्यावरणवादी कार्यकर्ता और तथ्यों और विज्ञान के एक स्वप्रेरक के रूप में स्व-वर्णन करता है ताकि "अतिशयोक्ति, अलार्मवाद और अतिवाद का मुकाबला किया जा सके जो एक सकारात्मक, मानवतावादी और तर्कसंगत पर्यावरणवाद का दुश्मन है।" उन्होंने इस पुस्तक को लिखने का फैसला किया क्योंकि उनका मानना ​​है कि "जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण के बारे में बातचीत, पिछले कुछ वर्षों में, नियंत्रण से बाहर है।"

    हमारी वैश्विक समस्याओं से निपटने के तरीके के बारे में विवादास्पद बहस में कारण और स्पष्ट विश्लेषण की आवाज़ का स्वागत है। दुर्भाग्य से, पुस्तक गहरी और मोटे तौर पर त्रुटिपूर्ण है। सबसे सरल स्तर पर, यह एक स्ट्रोमैन तर्क पर आधारित है: टू शेलेंबर्गर, वैज्ञानिक, "शिक्षित अभिजात वर्ग," "सक्रिय पत्रकार," और उच्च-प्रोफ़ाइल पर्यावरण कार्यकर्ता मानते हैं कि दुनिया का अंत आ रहा है और अभी तक इंकार कर रहा है केवल उन समाधानों का समर्थन करें जो वह सोचते हैं कि काम करेंगे - परमाणु ऊर्जा और निर्जन आर्थिक विकास।

    'यहाँ जो नया है वह सही नहीं है, और जो सही है वह नया नहीं है।'

    लेकिन भले ही लेखक ने वैश्विक चुनौतियों की जटिलता और प्रकृति को ठीक से समझा हो, जो वह नहीं करता है, और विज्ञान को वह अधिकार मिला है, जो उसने नहीं किया, उसके तर्क में एक घातक दोष उसके समाधानों का पारंपरिक कॉर्नुकॉपियन ओवरसिप्लाइज़ेशन है - आर्थिक विकास पर निर्भरता और चांदी-बुलेट प्रौद्योगिकी। जैसा कि महान अमेरिकी पत्रकार और हास्य लेखक एचएल मेनकेन ने कहा, "हर मानव समस्या का हमेशा एक प्रसिद्ध समाधान है - स्वच्छ, प्रशंसनीय और गलत।" मेनकेन ने उन लोगों के खिलाफ भी चेतावनी दी है जो ठीक से जानते हैं कि क्या सही है और क्या गलत है, विशेष रूप से वैश्विक जलवायु, महामारी और पर्यावरण परिवर्तन के अत्यधिक जटिल और अनिश्चित दुनिया में सुनने लायक एक चेतावनी।

    ... अभी तक खराब विज्ञान, स्ट्रोमैन तर्क, चेरी-पिकिंग तथ्य, और वैज्ञानिकों, मीडिया, अन्य पर विज्ञापन होमिनम हमले

    लेकिन पुस्तक में समस्याएं बहुत गहरी हैं। लेखक विषय से विषय की ओर भटकता है, व्यक्तिगत उपाख्यानों से लेकर डेटा और संख्याओं तक अपने विचारों का समर्थन करने के लिए सावधानीपूर्वक चुना गया, जिससे पाठकों के लिए उनके सूत्र का पालन करना मुश्किल हो जाता है। हालांकि, सबसे गंभीर दोष यह है कि वह एक स्थिति मान लेता है और डेटा और तथ्यों की तलाश करता है, बजाय उस स्थिति को फिट करने के, जैसा कि विज्ञान मांग करता है, एक सिद्धांत को विकसित करने, परीक्षण करने और परिष्कृत करने के लिए डेटा और तथ्यों का उपयोग करता है। परिणामस्वरूप, पुस्तक तार्किक पतन, भावनाओं और विचारधारा पर आधारित तर्कों, स्ट्रोमैन तर्कों की स्थापना और दस्तक, और चयनात्मक चेरी-चयन और तथ्यों के दुरुपयोग से ग्रस्त है, सभी सरल गलतियों और विज्ञान की गलत बयानी से घिर गए हैं। परेशान करने वाली बात यह भी है कि यह एक गुस्से वाली किताब है, जो वैज्ञानिकों, पर्यावरण अधिवक्ताओं और मीडिया पर बदसूरत विज्ञापन होमिनम हमलों से त्रस्त है।

    मैं इन दोषों के कुछ उदाहरण यहाँ प्रदान करता हूँ - एक व्यापक सूची को अपनी पुस्तक की आवश्यकता होगी। संक्षेप में, यहाँ जो नया है वह सही नहीं है, और जो सही है वह नया नहीं है।

    इस पुस्तक के दिल में दो कॉर्नुकॉपियन विचार निहित हैं: पहला विचार यह है कि विकास की कोई वास्तविक सीमा नहीं है और पर्यावरणीय समस्याएं गरीबी का परिणाम हैं और सभी को समृद्ध होने से हल किया जाएगा। यह विचार मूल नहीं है और लंबे समय से दूसरों द्वारा डिबेक किया गया है (कुछ उदाहरणों के लिए देखें यहाँ, यहाँ, यहाँ, तथा यहाँ).

    देखें कि परमाणु अकेले जरूरतों को पूरा कर सकते हैं

    दूसरा विचार - और शेलेंबर्गर के पिछले लेखन के अधिकांश का ध्यान - यह है कि जलवायु और ऊर्जा की समस्याएं केवल और केवल परमाणु ऊर्जा द्वारा हल की जानी चाहिए। वह लिखते हैं, "केवल परमाणु, सौर और पवन नहीं, प्रचुर, विश्वसनीय और सस्ती गर्मी प्रदान कर सकते हैं," और, "केवल परमाणु ऊर्जा मानव जाति के पर्यावरण पदचिह्न को कम करते हुए हमारी उच्च ऊर्जा मानव सभ्यता को शक्ति प्रदान कर सकती है।" ("सर्वनाश कभी नहीं" - इसके बाद "एएन" - पीपी 153 और 278) परमाणु के खिलाफ लगाए गए कई आर्थिक, पर्यावरणीय, राजनीतिक और सामाजिक तर्क बस बिना किसी योग्यता के खारिज कर दिए जाते हैं, उदाहरण के लिए: "परमाणु कचरे के रूप में, यह है" बिजली उत्पादन से उत्पन्न सबसे अच्छा और सबसे सुरक्षित प्रकार का कचरा। इसने कभी किसी को चोट नहीं पहुंचाई है और यह सोचने का कोई कारण नहीं है कि यह कभी भी होगा। ” (ए.एन., पृ। 152) उनकी भावुक मान्यता है कि परमाणु हमारी ऊर्जा और जलवायु समस्याओं का एकमात्र उत्तर है (शायद अफ्रीका में कांगो नदी पर एक मेगा-बांध के साथ) कोरोलरी द्वारा मेल खाता है कि अक्षय ऊर्जा विकल्प - वह उन्हें कहता है "अप्रयुक्त" (एएन, पी। 176) - खराब हैं क्योंकि वह दावा करता है कि वे छोटे पैमाने पर, रुक-रुक कर, और उनकी आर्थिक, पर्यावरणीय, राजनीतिक और सामाजिक समस्याओं में अयोग्य हैं।

    यह तर्क कि गरीबी और पर्यावरणीय खतरे आपस में जुड़े हुए हैं, सही और नया नहीं है। यह संयुक्त राष्ट्र सहस्त्राब्दी विकास लक्ष्यों और वर्तमान सतत विकास लक्ष्यों सहित अंतर्राष्ट्रीय विकास प्रयासों के केंद्र में है। किस राज्य:

    सतत विकास लक्ष्य सभी के लिए बेहतर और स्थायी भविष्य प्राप्त करने का खाका है। वे वैश्विक चुनौतियों का सामना करते हैं, जिनमें गरीबी, असमानता, जलवायु परिवर्तन, पर्यावरणीय गिरावट, शांति और न्याय से संबंधित हैं। 17 गोल सभी आपस में जुड़े हुए हैं। (महत्व दिया)

    इसी तरह, पर्यावरण विज्ञान और पर्यावरण अर्थशास्त्र में मुख्यधारा के विशेषज्ञों ने लंबे समय से स्वीकार किया है कि सभी ऊर्जा विकल्पों में पर्यावरणीय फायदे और नुकसान के जटिल समूह हैं। ऊर्जा जोखिम मूल्यांकन, एकीकृत पर्यावरण प्रणाली विश्लेषण और पारिस्थितिक अर्थशास्त्र के क्षेत्रों ने उन्हें दशकों से संबोधित किया है।

    'स्ट्रोमैन दलीलों' के मुखौटे का उपयोग करना

    शेलेंबर्गर नियमित रूप से अन्य स्ट्रोमैन तर्क स्थापित करते हैं और फिर उन्हें नीचे गिराते हैं। [एक स्ट्रोमैन तर्क एक ऐसे तर्क का खंडन करने का एक प्रयास है जो आपके प्रतिद्वंद्वी के वास्तविक तर्क को एक अलग से बदलकर नहीं किया गया है।] जलवायु बहस में सबसे अधिक प्रचलित स्ट्रोमैन के तर्क में से एक यह है कि वैज्ञानिकों ने जलवायु परिवर्तन का कारण "चरम" का दावा किया है। घटनाओं, जब वास्तव में, जलवायु वैज्ञानिक "कारण" और "प्रभाव" के बीच सावधानीपूर्वक भेद करते हैं - दो बहुत अलग चीजें। यह क्षेत्र जिसे "अटेंशन साइंस" कहा जाता है, आज जलवायु अनुसंधान के सबसे रोमांचक पहलुओं में से एक है।

    शेलनबर्गर ने स्ट्रोमैन के तर्क को स्थापित किया कि लोग गलत तरीके से हाल की चरम घटनाओं (जैसे जंगल की आग, बाढ़, गर्मी की लहरें, और सूखे) का दावा कर रहे हैं, जलवायु परिवर्तन के कारण हुए थे, और फिर उन्होंने इस स्ट्रोमैन को डीबॉक किया। "कैलिफोर्निया को तबाह करने वाले वाइल्डफायर के लिए कई दोषपूर्ण जलवायु परिवर्तन" (एएन, पी .2) और "आग लगी होगी यहां तक ​​कि ऑस्ट्रेलिया की जलवायु भी गर्म नहीं हुई थी।" (एएन। पी। 21) वह गलत तरीके से बताता है कि मीडिया ने आग लगने की सूचना कैसे दी, 2019 के अमेज़ॅन की आग पर न्यूयॉर्क टाइम्स की एक कहानी का वर्णन करते हुए कहा: "जैसा कि अमेज़ॅन के लिए, न्यूयॉर्क टाइम्स ने रिपोर्ट किया, सही ढंग से, कि 'आग नहीं लगी जलवायु परिवर्तन। '' लेकिन यहां शेलनबर्गर एक उद्धरण उठा रहे हैं: यदि आप वास्तविक लेख को देखते हैं वह बताता है, पत्रकार जलवायु परिवर्तन के "प्रभाव" को केवल दो वाक्यों के बाद स्पष्ट करता है:

    ये आग जलवायु परिवर्तन के कारण नहीं लगी। वे, मनुष्यों द्वारा निर्धारित और बड़े थे। हालांकि, जलवायु परिवर्तन आग को बदतर बना सकता है। आग गर्म कर सकती है और गर्म और अधिक शुष्क परिस्थितियों में फैल सकती है। (महत्व दिया)

    उन्होंने यह भी कहा कि जलवायु परिवर्तन और चरम घटनाओं के बीच संबंधों पर व्यापक और बढ़ते साहित्य को गलत या गलत ठहराते हुए कहते हैं, "लेकिन अब तक जलवायु परिवर्तन से कई प्रकार के चरम मौसम की आवृत्ति या तीव्रता में वृद्धि नहीं हुई है" (एएन, पी। 15) ) 15 साल पहले की कार्यशाला सहित बाहर के शोध का हवाला देते हुए। वास्तव में, साहित्य का एक बड़ा और बढ़ता हुआ शरीर पहले से ही जलवायु परिवर्तन और चरम घटनाओं के बीच मजबूत संबंध दिखाता है, जिसमें तूफान, गर्मी से होने वाली मौतें, बाढ़, घटती बर्फ और अधिक (देखें, कुछ उदाहरणों के लिए,) यहाँ, यहाँ, तथा यहाँ), और इस साहित्य का तेजी से विस्तार हो रहा है। उदाहरण के लिए, 2019 में, अमेरिकी मौसम विज्ञान सोसायटी, या एएमएस, प्रकाशित सारांश - २०१ - में चरम मौसम के २१ सहकर्मी-समीक्षित विश्लेषणों के साथ - सालाना उत्पादन किया गया जिसमें 121 देशों के 13 वैज्ञानिकों का शोध शामिल है। अमेरिका में गंभीर चार कोनों सूखे, इबेरियन प्रायद्वीप पर तीव्र गर्मी की लहरें और पूर्वोत्तर एशिया में, मध्य अटलांटिक राज्यों में असाधारण वर्षा, और बेरिंग सागर में रिकॉर्ड-कम समुद्री बर्फ, चरम मौसम की घटनाओं के सभी उदाहरण थे जिन्होंने इसे और अधिक बनाया। मानव-जनित जलवायु परिवर्तन की संभावना। " जैसा AMS श्रृंखला के प्रधान संपादक जेफ रोसेनफेल्ड ने उल्लेख किया, "हम अब इस AMS श्रृंखला में इन एट्रिब्यूशन अध्ययनों में से 100 से अधिक प्रकाशित कर चुके हैं और यह देख सकते हैं कि यह विज्ञान कितना शक्तिशाली है। रेनफेल्ड ने लिखा, "अध्ययन में तेजी से उपयोगी, बारीक निष्कर्ष निकलते हैं जो वास्तविक दुनिया की जटिलता को गले लगाते हैं।" "वे सामूहिक रूप से चरम मौसम पर मानव प्रभाव के बारे में कभी भी कठोर बयान देते हैं।"

    एक गंभीर वैचारिक भ्रम का एक और उदाहरण उनका अध्याय है जो प्रजातियों के विलुप्त होने के खतरे को खारिज करता है। अध्याय विलुप्त होने की दर, पारिस्थितिक तंत्र और जैविक कार्यों, समयसीमा के बारे में भ्रम और डेटा के दुरुपयोग की गलतफहमियों से भरा है। उदाहरण के लिए, शेलनबर्गर प्रजातियों की अवधारणा "जैव विविधता" के साथ "समृद्धि" को भ्रमित करता है और आश्चर्यजनक दावा करता है कि

    दुनिया भर में, द्वीपों की जैव विविधता वास्तव में औसतन दोगुनी हो गई है, 'आक्रामक प्रजातियों' के प्रवास के लिए। नई पौधों की प्रजातियों की शुरूआत ने पौधे के विलुप्त होने की प्रक्रिया को एक सौ गुना कर दिया है। (एएन, पी। 66)

    इस अजीब तर्क से, अगर एक द्वीप में देशी पक्षियों की 10 प्रजातियां पाई जाती हैं और वे विलुप्त हो जाते हैं, लेकिन 20 अन्य आक्रामक पक्षी प्रजातियों ने खुद को स्थापित किया, तो द्वीप की "जैव विविधता" दोगुनी हो जाएगी। यह त्रुटि अध्ययन की गलतफहमी के कारण होती है वह बताता है, जो ठीक से ध्यान दें कि द्वीपों पर प्रजातियों की संख्या (समृद्धि जैव विविधता नहीं) का आकलन करती है, इनवेसिव प्रजातियों द्वारा उठाए गए जैव विविधता के महत्वपूर्ण मुद्दों को नजरअंदाज करती है, जिसमें स्थानिक प्रजातियों की बातचीत का विघटन, पारिस्थितिकी तंत्र की स्थिरता का कमजोर होना, पारिस्थितिकी तंत्र के कार्यों का परिवर्तन, और वनस्पतियों का बढ़ता हुआ समरूपीकरण शामिल है। और जीव।

    क्लासिक तार्किक पतन का एक और सेट दुरुपयोग, गलत बयानी, और सबूत का चयनात्मक उपयोग है। शेलेंबर्गर खुद को श्वेत शूरवीर के रूप में विज्ञान और तथ्यों को भावनात्मक तर्कों के साथ देखते हैं। "इस पुस्तक में हर तथ्य, दावा और तर्क सबसे बेहतर उपलब्ध विज्ञान पर आधारित है ... सर्वनाश कभी भी मुख्यधारा के विज्ञान को उन लोगों से नहीं बचाता है जो इसे राजनीतिक अधिकार और वामपंथ से इनकार करते हैं।" (ए.एन., पी। Xiii) लेकिन अक्सर, उनकी दलीलें सबूतों के अनुचित उपयोग, पुरानी या चेरी से चुने गए विज्ञान, गलतफहमी या गलत बयानी, या सिर्फ एकमुश्त त्रुटियों पर आधारित होती हैं।

    सबसे आम दोषों में से एक ",", "कर सकता है," "इच्छाशक्ति," "संभावना," और इसी तरह के शब्दों का भ्रामक उपयोग है। ये व्याकरणिक विकल्प आमतौर पर क्लासिक कॉर्नुकोपियन आशावाद और दर्शकों को एक सकारात्मक कहानी बताने के लाभ को दर्शाते हैं, बजाय वास्तविक सबूतों के आधार पर। उदाहरण के लिए, वह दावा करता है:

    जब खाद्य उत्पादन की बात आती है, तो संयुक्त राष्ट्र का खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) उस फसल की पैदावार का निष्कर्ष निकालता है मर्जी जलवायु परिदृश्यों की एक विस्तृत श्रृंखला के तहत महत्वपूर्ण रूप से वृद्धि। (एएन, पी। 6, जोर जोड़ा)

    क्या बड़ी खबर है, अगर केवल हम यह सुनिश्चित करने के लिए जानते थे कि यह सच था और सभी प्रशंसनीय जलवायु परिदृश्यों के तहत। लेकिन वास्तव में, यह एक गलत बयानी है 2018 एफएओ की रिपोर्ट का हवाला दिया गया, जो संभावित वायदा को देखता है और वास्तव में कहता है:

    जलवायु परिवर्तन का पहले से ही फसल की पैदावार, पशुधन उत्पादन और मत्स्य पालन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, विशेष रूप से निम्न और मध्यम आय वाले देशों में। इस तरह के प्रभाव इस सदी में बाद में और भी मजबूत होने की संभावना है। (महत्व दिया)

    असमान कृषि परिवर्तनों के साथ असमान जलवायु परिवर्तन, जो कि अंतर-संबद्ध है, और अधिक भूमि और जल के उपयोग की संभावना है, गरीब लोगों को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर रहा है और देशों के भीतर और भीतर असमानताओं को बढ़ा रहा है। यह भोजन की उपलब्धता और भोजन की पहुंच दोनों के लिए नकारात्मक प्रभाव डालता है।

    ऐसे कई अन्य उदाहरण हैं, जहां उनकी आशावाद (चीजें "होंगी") भविष्य के बारे में वैज्ञानिक सबूतों और अनिश्चितताओं से आगे निकल जाती हैं।

    वैज्ञानिकों ने वास्तव में क्या कहा या क्या कहा, यह गलत है

    शेलेंबर्गर की परमाणु ऊर्जा और जोखिम की चर्चा भी वैज्ञानिकों को जो कहती है उसे गलत ठहराती है। उन्होंने कहा, "रिएक्टरों और बमों को मिलाते हुए, जैसा कि हम कहते हैं, माल्थुसियन पर्यावरणविदों के लिए रणनीति है" (एएन, पी। 242), लेकिन इस दावे का समर्थन करने के लिए वह डीआरएस का काम करते हैं। पॉल और ऐनी एर्लिच और जॉन होल्ड्रेन ने अपनी 1977 की पुस्तक इकोसाइंस में। शेलनबर्गर ने अपने तथ्यात्मक कथन को उद्धृत किया कि "लंबे समय तक चलने वाली रेडियोधर्मिता की एक बड़ी रिएक्टर की सूची हिरोशिमा पर गिराए गए बम की तुलना में एक हजार गुना अधिक है।" (Ecoscience, पी। 445) लेकिन फिर वह झूठा कहता है कि वे लगा रहे हैं कि रिएक्टर बमों की तरह फट सकते हैं: '' इसका मतलब गलत था। परमाणु रिएक्टर बमों की तरह विस्फोट नहीं कर सकते हैं। ” (ए.एन., पी। 242) शेलनबर्गर स्ट्रोमैन को स्थापित करने के लिए उत्सुक थे कि "माल्थूसियन पर्यावरणविदों" को परमाणु रिएक्टर और परमाणु बम के बीच अंतर नहीं पता है, लेकिन बयान के ठीक पहले पैराग्राफ में उन्होंने कहा, एहरलिच, एर्लिच और होल्डन ने उद्धृत किया। (उत्तरार्द्ध एक परमाणु भौतिक विज्ञानी के रूप में भाग में प्रशिक्षित, वैसे) शाब्दिक रूप से लिखते हैं: "यह एक LWR [प्रकाश-जल रिएक्टर] या किसी भी थर्मल न्यूट्रॉन रिएक्टर के लिए परमाणु बम की तरह उड़ाने के लिए शारीरिक रूप से असंभव है।" (Ecoscience, पी। 444)

    यह एर्लिच और होल्ड्रेन के कार्यों की गलत व्याख्या की एक श्रृंखला है। उदाहरण के लिए, कुछ पैराग्राफ बाद में कहते हैं, "होल्डन और एरलिच को जीवाश्म ईंधन का दावा करना था कि वे गरीब देशों में उर्वरकों और औद्योगिक कृषि के विस्तार का विरोध करने और अकाल पर अलार्म बढ़ाने के लिए दुर्लभ थे।" (एएन, पी। 242) यह सटीक है विपरीत क्या वे लंबे समय से बहस कर रहे हैं। डॉ। धारण को उद्धृत करने के लिए: “पर्यावरणविद मुख्य रूप से इस विषय पर क्या कहते हैं ऐसा नहीं है कि हम ऊर्जा से बाहर चल रहे हैं, बल्कि यह कि हम पर्यावरण से बाहर चल रहे हैं - अर्थात्, जीवाश्म ईंधन को जलाने के पर्यावरणीय, सामाजिक और स्वास्थ्य प्रभावों को अवशोषित करने के लिए हवा, पानी, मिट्टी और बायोटा की क्षमता से बाहर चल रहा है। (महत्व दिया)

    शेलनबर्गर के आख्यानों के माध्यम से चल रहे भ्रम का एक और उदाहरण है "लालच से बचाए गए व्हेल, न कि ग्रीनपीस।" उनका तर्क है कि पेंसिल्वेनिया में तेल की खोज के कारण, सस्ते तेल ने व्हेल को बचाया: "ड्रेक वेल की खोज से पेट्रोलियम आधारित केरोसिन का व्यापक उत्पादन हुआ ... जिससे व्हेल की बचत हुई।" (ए.एन., पी। 111) बस एक पेज बाद में, हालांकि, वह स्वीकार करता है “लेकिन फिर, व्हेलिंग वापस आया, और एक बड़े तरीके से। 1904 और 1978 के बीच, व्हेलर्स ने एक लाख व्हेलों को मार डाला, जो पहले की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक काटा गया था। ” फिर उन्होंने दावा किया कि सस्ते वनस्पति तेल (कांगो में वनों की कटाई से ताड़ के तेल के रूप में) ने व्हेल को बचा लिया, लेकिन फिर स्वीकार करना होगा कि बड़े पैमाने पर व्हेल की हत्या जारी है।

    व्हेल के शिकार पर आखिरकार आज लगभग लगभग स्थगन के कारण क्या हुआ? न केवल बाजार की शक्तियों में परिवर्तन, ऊर्जा स्रोतों में परिवर्तन नहीं, "लालच" और धन और समृद्धि में वृद्धि, जैसा कि उनका तर्क है, लेकिन पर्यावरणीय समूहों और जनता द्वारा धक्का दिए गए जनमत में परिवर्तन। और विचित्र रूप से, इस अध्याय में उनका अंतिम वाक्य इस बात को स्वीकार करता है: "जब यह बेहतर विकल्पों, सार्वजनिक व्यवहार और राजनीतिक कार्रवाई मामले पर जाकर पर्यावरण की रक्षा करने की बात आती है" (एएन, पी। 125) - बिल्कुल ग्रीनवॉक जैसे पर्यावरण वकालत समूहों का बिंदु। जिसने जनमत बदलने का काम किया।

    वैज्ञानिक अनिश्चितता 'हम नहीं जानते' के समान नहीं है

    शेलेंबर्गर ने विज्ञान में "अनिश्चितता" की अवधारणा को गलत समझा, जिससे हम जिस तरह से वैज्ञानिकों को "संभावनाओं की एक श्रृंखला" पेश करने के लिए इसका उपयोग करने के बजाय "हम नहीं जानते" की बोलचाल में अनिश्चितता के बारे में सोचने की क्लासिक गलती कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बर्फ की चादर के नुकसान, जंगल और प्रजातियां जैसे अमेज़न में वापस आने के बारे में तबाही के बारे में अपनी चर्चा में, और समुद्र परिसंचरण में परिवर्तन, वे कहते हैं (एएन, पी। 25)।

    प्रत्येक पर अनिश्चितता का उच्च स्तर, और एक जटिलता जो इसके भागों के योग से अधिक है, कई टिपिंग बिंदु परिदृश्यों को अवैज्ञानिक बनाते हैं ... कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है कि कोई अन्य संभावित भयावह परिदृश्यों की तुलना में अधिक संभावित या विनाशकारी होगा, जिसमें क्षुद्रग्रह भी शामिल है। प्रभाव, सुपर-ज्वालामुखी, या एक असामान्य रूप से घातक इन्फ्लूएंजा महामारी।

    यह दोनों गलत और शायद ही सुकून देने वाला है। पहले, अनिश्चितता के उच्च स्तर "अवैज्ञानिक" नहीं हैं और दूसरे, जबकि आईपीसीसी के अधिकांश जलवायु आकलन और अन्य आमतौर पर इस तरह के वैश्विक तबाही के जोखिम का आकलन नहीं करते हैं, वे उन्हें खारिज नहीं करते हैं, खासकर अगर हम बहुत धीमी गति से हैं। कार्य करने के लिए। दिवंगत जलवायु वैज्ञानिक डॉ। स्टीफन श्नाइडर, में इसी तर्क की आलोचना एक अन्य कॉर्नुकोपियन द्वारा बनाई गई, संभावना वितरण के "वसा पूंछ" पर अत्यधिक जोखिम संभावनाओं को देखने के महत्वपूर्ण महत्व को संबोधित किया और कहा:

    यह ठीक है क्योंकि जिम्मेदार वैज्ञानिक समुदाय विश्वास के उच्च स्तर पर ऐसे भयावह परिणामों को खारिज नहीं कर सकते हैं कि जलवायु शमन नीतियों को गंभीरता से प्रस्तावित किया गया है।

    इस प्रकार, जब वैज्ञानिक संभावित विपत्तिपूर्ण जलवायु जोखिमों पर चर्चा करते हैं, तो वे "एपोकैलिप्टिक" नहीं होते हैं - वे जिम्मेदारी से उन जोखिमों की पहचान कर रहे हैं, जिनका मूल्यांकन और चर्चा विज्ञान, अर्थशास्त्र, सार्वजनिक नीति और सार्वजनिक स्वास्थ्य के संदर्भ में की जानी चाहिए।

    एक और क्लासिक तार्किक तर्क यह है कि तर्क के बजाय व्यक्ति और उसके या उसके उद्देश्यों पर हमला करके एक प्रतिद्वंद्वी के तर्क को बदनाम करने की कोशिश की जाती है - इसलिए लैटिन "एड होमिनम" ("आदमी के खिलाफ")। विज्ञापन होमिनेम हमले इस पुस्तक में व्याप्त हैं और इसके स्वर और सामग्री से अलग हैं। शेलनबर्गर गरीबी के बारे में "गुमनामी, या बदतर, असंबद्ध" के रूप में "सर्वनाश पर्यावरणविदों" पर हमला करता है (एएन, पी। 35) या कांगो नदी पर एक बड़े बांध का विरोध करने के लिए। (ए.एन., पृष्ठ 276) उन्होंने प्रमुख पर्यावरण समूहों और दिवंगत डेविड ब्राउनर जैसे नेताओं के वित्त पर हमला किया, यह तर्क देते हुए कि उन्होंने जीवाश्म ईंधन कंपनियों से "परमाणु संयंत्रों को बंद करने के लिए ग्रीनवॉश" करने के लिए दान लिया है। (एएन, पी। 205) और वह कई व्यक्तिगत पर्यावरण और भूभौतिकीय वैज्ञानिकों के उद्देश्यों, प्रतिष्ठा और विज्ञान पर हमला करता है, जिनके कार्य उनके तर्कों का खंडन करते हैं।

    क्या मीडिया और पर्यावरण वैज्ञानिकों के पास 'मानवता के लिए प्रेम' का विपरीत है?

    लेकिन शेलनबर्गर में प्रेस के लिए एक विशेष स्तर की दुश्मनी है:

    समाचार मीडिया, संपादक और पत्रकार इस बात पर विचार कर सकते हैं कि क्या पर्यावरणीय समस्याओं के बारे में उनकी लगातार समझदारी निष्पक्षता और सटीकता के लिए उनकी व्यावसायिक प्रतिबद्धता और दुनिया में एक सकारात्मक शक्ति होने के लिए उनकी व्यक्तिगत प्रतिबद्धता के अनुरूप है या नहीं। हालांकि, मुझे संदेह है कि पत्रकारों के रूप में काम करने वाले चुपके पर्यावरण कार्यकर्ता उनकी रिपोर्टिंग को कैसे बदलते हैं, मुझे उम्मीद है कि पारंपरिक समाचार मीडिया संस्थानों के बाहर की प्रतिस्पर्धा, सोशल मीडिया द्वारा संभव बनाई गई, पर्यावरण पत्रकारिता में नई प्रतिस्पर्धा को इंजेक्ट करेगी और मानकों को बढ़ाएगी। एएन, पी। 277-278)

    शातिर व्यक्तिगत हमलों के सबसे विचलित करने वाले उदाहरणों में, वह उन लोगों की व्यापक श्रेणियों को चित्रित करता है जो मानवता की घृणा से प्रेरित होकर उससे असहमत हैं:

    जब हम कार्यकर्ताओं, पत्रकारों, आईपीसीसी वैज्ञानिकों, और अन्य लोगों का दावा करते हैं कि जलवायु परिवर्तन सर्वनाश होगा, जब तक कि हम तत्काल, आमूल परिवर्तन नहीं करते हैं, जिसमें ऊर्जा की खपत में भारी कमी शामिल है, हम विचार कर सकते हैं कि क्या वे मानवता के लिए प्यार से प्रेरित हैं या इसके विपरीत कुछ करीब हैं (एएन, पी। 275, जोर जोड़ा)। हमें लड़ना चाहिए मानव सभ्यता और मानवता की निंदा करने वाले माल्थुसियन और सर्वनाश पर्यावरणविदों के खिलाफ। (एएन, पी। 274) (जोर दिया गया)।

    वह अपने समापन खंडों में तर्क देता है कि पर्यावरणीय आपदाओं से चिंतित लोग "सभ्यता को नापसंद करने वाले लोगों के लिए एक प्रकार की अवचेतन कल्पना" खेल रहे हैं (एएन, पी। 270) और सुझाव देते हैं कि जो लोग उनके पसंद के समाधान का विरोध करते हैं वे ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि वे लंबे समय से हैं। सभ्यता का विनाश - इस क्षेत्र में काम करने वाले सभी लोगों के इरादों पर एक बुरा हमला।

    अंत में, पुस्तक को विभिन्न प्रकार की सरल त्रुटियों से भरा गया है। किसी भी पुस्तक के साथ कई संख्याएँ, उद्धरण और दावे हैं, निश्चित रूप से कुछ गलतियाँ होने का खतरा है। लेकिन यहां उनकी संख्या और गुंजाइश समस्याग्रस्त है। एक व्यापक कैटलॉग इस समीक्षा के दायरे से परे है, लेकिन एक उदाहरण ऊर्जा का उत्पादन करने के लिए आवश्यक पानी की मात्रा का एक बड़ा दुरुपयोग है। वे कहते हैं, "और बिजली के लिए कोयले के बजाय गैस जलाने के लिए 25 से 50 गुना कम पानी की आवश्यकता होती है।" (ए.एन., पी। ११ AN) जैसा कि उन्होंने संदर्भ में दिए गए वास्तविक नंबरों से दिखाया है, हालांकि, अंतर लगभग दो या उससे कम का कारक है, न कि २५ से ५०। और एक महत्वपूर्ण चूक में, वह उस महत्वपूर्ण नवीकरण को नोट करने में विफल रहता है पवन और सौर फोटोवोल्टिक जैसे ऊर्जा स्रोतों को सभी जीवाश्म ईंधन और परमाणु तापीय संयंत्रों की तुलना में उत्पादित बिजली की प्रति यूनिट कम पानी की आवश्यकता होती है। जलवायु परिवर्तन और चरम घटनाओं के बारे में अपनी चर्चा में, वह व्यापक सहकर्मी-समीक्षित सबूत (जैसे) छोड़ देता है यह 2015 का पेपर है(कई अन्य लोगों के बीच) दिखा रहा है कि बढ़ते तापमान और बदलते वर्षा पैटर्न के परिणामस्वरूप आग का मौसम कितना लंबा हो गया है। वह दावा करते हैं, दो बार (एएनपी 211 और 241), कि परमाणु ऊर्जा संयंत्र "शून्य प्रदूषण" पैदा करते हैं - एक गलत और अनावश्यक अतिशयोक्ति।

    'बेहतर भविष्य' के लिए एक साझा साझा लक्ष्य

    शेलेंबर्गर कोई संदेह नहीं है और बेहतर भविष्य के लक्ष्य का समर्थन करता है। तो पर्यावरण वैज्ञानिकों, कार्यकर्ताओं, और किसी भी सभ्य मानव करते हैं। असहमति को हम अपने संकटों के मूल कारणों और अपनी वर्तमान दुनिया को उस बेहतर भविष्य में ले जाने के लिए समाधानों की पसंद के बारे में अलग-अलग धारणाओं में सुनते हैं। लेकिन वैचारिक ध्रुवीकरण, गलतफहमी और विज्ञान की गलत बयानी, और क्षेत्र में काम कर रहे अन्य लोगों पर नाराज विज्ञापन होमिनम हमले हमें सही दिशा में ले जाने के लिए कुछ नहीं करते हैं।

    आगे के सर्वोत्तम मार्ग के बारे में अनिश्चितता है। जो लोग मानते हैं कि सबूतों से पता चलता है कि हमारा मौजूदा रास्ता खतरनाक ग्रहों की सीमा को पार कर जाता है और इससे गंभीर पर्यावरण हो सकता है और सामाजिक विघटन साबित नहीं हो सकता है कि भविष्य में होने वाला विनाश होगा - वे तर्क दे रहे हैं कि हमें उससे बचने के लिए क्या करना चाहिए। लेकिन न तो कॉर्नुकॉपियंस यह साबित कर सकते हैं कि संकीर्ण तकनीकी समाधान और असंवैधानिक आर्थिक विकास उन भयावह वायदा से बचेंगे। हालांकि इन दृष्टिकोणों का असंतुलन महत्वपूर्ण है: यदि माल्थुसियन गलत हैं, तो उन्होंने जो कुछ भी किया है वह दुनिया को एक बेहतर स्थान बना देगा। यदि कॉर्नुकॉपियंस गलत हैं, तो एपोकैलिपिक परिणाम वास्तव में एक वास्तविक संभावना है।

    वह हमें कहां छोड़ता है? भविष्य के पर्यावरण और सामाजिक आपदाओं से बचने के लिए पहचान करना, प्रचार करना और काम करना बहुत महत्वपूर्ण है। मैंने 40 से अधिक वर्षों के लिए जलवायु परिवर्तन, मीठे पानी के संसाधनों और पर्यावरणीय संघर्ष के मुद्दों पर विज्ञान और नीति के चौराहे पर काम किया है, और अच्छी खबर यह है कि सकारात्मक, प्रभावी समाधान मौजूद हैं। हम जानते हैं कि उन अरबों लोगों को सुरक्षित पानी और स्वच्छता कैसे प्रदान की जाए, जिनके पास अभी भी इसकी कमी है। हम जानते हैं कि अब हमें जलवायु परिवर्तन की गंभीरता को कम करने के लिए ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में कटौती करने के लिए काम करना चाहिए और साथ ही उन प्रभावों के अनुकूल काम करना चाहिए जिनसे हम अब बच नहीं सकते। हम जानते हैं कि कृषि दक्षता में सुधार कैसे किया जा सकता है, ताकि दोनों को सभी के लिए पर्याप्त भोजन मिल सके और इसे भूखे मुंह तक पहुंचाया जा सके।

    हमारे पास समाधानों को प्राथमिकता देने, सरकारी और संस्थागत विफलताओं को ठीक करने, नीति निर्माताओं को प्रेरित करने, और दुख की बात है, एक दूसरे से तर्कसंगत रूप से आगे और प्रभावी ढंग से आगे बढ़ने के लिए पर्याप्त प्रयास करने के लिए हमारे पास पर्याप्त प्रयास नहीं हैं। यह पुस्तक उन बहुत जरूरी प्रयासों में योगदान करने में विफल है।

    डॉ। पीटर एच। ग्लीक पैसिफिक इंस्टीट्यूट के अध्यक्ष एमेरिटस हैं, जो यूएस नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज के सदस्य हैं, एक मैकआर्थर फेलो, और 2018 के कार्ल सगन पुरस्कार के लिए विज्ञान लोकप्रियकरण के विजेता हैं।

enafarzh-CNzh-TWdanltlfifrdeiwhihuiditjakomsnofaplptruesswsvthtrukurvi

InnerSelf पर का पालन करें

फेसबुक आइकनट्विटर आइकनआरएसएस आइकन

ईमेल से नवीनतम प्राप्त करें

{Emailcloak = बंद}

सबसे ज़्यादा पढ़ा हुआ

राइजिंग टेम्प्स सेंचुरी के अंत तक लाखों लोगों को मार सकता है
राइजिंग टेम्प्स सेंचुरी के अंत तक लाखों लोगों को मार सकता है
by एडवर्ड लेम्पिनन
इस सदी के अंत तक, तापमान बढ़ने के परिणामस्वरूप दुनिया भर में हर साल लाखों लोग मर सकते हैं ...
जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए कार्बन से भरपूर पीट बोग्स ने अपनी क्षमता खो दी
जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए कार्बन से भरपूर पीट बोग्स ने अपनी क्षमता खो दी
by गुआदुनेथ चिको एट अल
ब्रिटेन में पवन ऊर्जा अब सभी बिजली उत्पादन का लगभग 30% है। भूमि आधारित पवन टर्बाइन अब उत्पादन ...
हिमालय में ग्लेशियर की दो तिहाई बर्फ 2100 तक लुप्त हो सकती है
हिमालय में ग्लेशियर की दो तिहाई बर्फ 2100 तक लुप्त हो सकती है
by एन रोवन
ग्लेशियोलॉजी की दुनिया में, वर्ष 2007 इतिहास में नीचे चला जाएगा। यह एक प्रमुख वर्ष में एक छोटी सी त्रुटि थी ...
जलवायु इनकार दूर नहीं गया है - यहां बताया गया है कि जलवायु कार्रवाई के लिए कैसे तर्क प्रस्तुत किए जाएं
जलवायु इनकार दूर नहीं गया है - यहां बताया गया है कि जलवायु कार्रवाई के लिए कैसे तर्क प्रस्तुत किए जाएं
by स्टुअर्ट कैपस्टिक
नए शोध में, हमने पहचान की है कि हम 12 "देरी के प्रवचन" क्या कहते हैं। ये बोलने और लिखने के तरीके हैं ...
न्यूजीलैंड एक 100% नवीकरणीय बिजली ग्रिड का निर्माण करना चाहता है, लेकिन बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचा सबसे अच्छा विकल्प नहीं है
न्यूजीलैंड एक 100% नवीकरणीय बिजली ग्रिड का निर्माण करना चाहता है, लेकिन बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचा सबसे अच्छा विकल्प नहीं है
by जेनेट स्टीफेंसन
पनबिजली भंडारण संयंत्र बनाने के लिए एक प्रस्तावित मल्टीबिलियन-डॉलर परियोजना न्यूजीलैंड की बिजली ग्रिड बना सकती है ...

ताज़ा लेख

हिमालय में ग्लेशियर की दो तिहाई बर्फ 2100 तक लुप्त हो सकती है
हिमालय में ग्लेशियर की दो तिहाई बर्फ 2100 तक लुप्त हो सकती है
by एन रोवन
ग्लेशियोलॉजी की दुनिया में, वर्ष 2007 इतिहास में नीचे चला जाएगा। यह एक प्रमुख वर्ष में एक छोटी सी त्रुटि थी ...
राइजिंग टेम्प्स सेंचुरी के अंत तक लाखों लोगों को मार सकता है
राइजिंग टेम्प्स सेंचुरी के अंत तक लाखों लोगों को मार सकता है
by एडवर्ड लेम्पिनन
इस सदी के अंत तक, तापमान बढ़ने के परिणामस्वरूप दुनिया भर में हर साल लाखों लोग मर सकते हैं ...
न्यूजीलैंड एक 100% नवीकरणीय बिजली ग्रिड का निर्माण करना चाहता है, लेकिन बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचा सबसे अच्छा विकल्प नहीं है
न्यूजीलैंड एक 100% नवीकरणीय बिजली ग्रिड का निर्माण करना चाहता है, लेकिन बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचा सबसे अच्छा विकल्प नहीं है
by जेनेट स्टीफेंसन
पनबिजली भंडारण संयंत्र बनाने के लिए एक प्रस्तावित मल्टीबिलियन-डॉलर परियोजना न्यूजीलैंड की बिजली ग्रिड बना सकती है ...
जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए कार्बन से भरपूर पीट बोग्स ने अपनी क्षमता खो दी
जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए कार्बन से भरपूर पीट बोग्स ने अपनी क्षमता खो दी
by गुआदुनेथ चिको एट अल
ब्रिटेन में पवन ऊर्जा अब सभी बिजली उत्पादन का लगभग 30% है। भूमि आधारित पवन टर्बाइन अब उत्पादन ...
जलवायु इनकार दूर नहीं गया है - यहां बताया गया है कि जलवायु कार्रवाई के लिए कैसे तर्क प्रस्तुत किए जाएं
जलवायु इनकार दूर नहीं गया है - यहां बताया गया है कि जलवायु कार्रवाई के लिए कैसे तर्क प्रस्तुत किए जाएं
by स्टुअर्ट कैपस्टिक
नए शोध में, हमने पहचान की है कि हम 12 "देरी के प्रवचन" क्या कहते हैं। ये बोलने और लिखने के तरीके हैं ...
रूटीन गैस का प्रवाह बेकार, प्रदूषणकारी और कमज़ोर है
रूटीन गैस का प्रवाह बेकार, प्रदूषणकारी और कमज़ोर है
by गुन्नार डब्ल्यू
यदि आप एक ऐसे क्षेत्र से होकर गुजरे हैं, जहाँ कंपनियाँ तेल और गैस को अलग-अलग प्रकार से निकालती हैं, तो आपने शायद देखा होगा ...
फ्लाइट शेमिंग: स्वेड के अभियान ने कैसे फैलाया प्रचार अच्छे के लिए उड़ान भरना
फ्लाइट शेमिंग: स्वेड के अभियान ने कैसे फैलाया प्रचार अच्छे के लिए उड़ान भरना
by अवित के भौमिक
COVID-50 महामारी के परिणामस्वरूप, यूरोप की प्रमुख एयरलाइनों को 2020 में अपने कारोबार में 19% की गिरावट होने की संभावना है ...
क्या जलवायु कुछ के रूप में भय के रूप में गर्म होगा?
क्या जलवायु कुछ के रूप में भय के रूप में गर्म होगा?
by स्टीवन शेरवुड एट अल
हम जानते हैं कि ग्रीनहाउस गैस सांद्रता बढ़ने के साथ जलवायु परिवर्तन होते हैं, लेकिन अपेक्षित वार्मिंग की सटीक मात्रा बनी रहती है ...